• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

पिघलती बर्फ इंसानों के लिए ला सकती है मुसीबत, नष्ट हो रहीं एम्परर पेंग्विन की बस्तियां

|
Google Oneindia News

नई दिल्‍ली, 5 अगस्‍त। ग्लोबल वार्मिंग बढ़ रही है, वैज्ञानिकों के अनुसार अगर हालात ये ही रहे तो धरती के लिए बुरा दिन दूर नहीं हैं। जलवायु परिर्वतन के कारण पिघलती बर्फ हम इंसानों के लिए बड़ी मुसीबत ला सकता हैं वहीं बर्फ में रहने वाली एम्‍परर पेंगुइन की बस्तियों को नष्‍ट कर रहा है। इतना ही हाल ही में हुए शोध में ये खुलासा हुआ है कि जलवायु परिवर्तन से एम्‍परर पेंगुइन के समुद्री बर्फ में बसी बस्तियों को खतरा है।

नहीं तो तबाह हो जाएंगी 70 प्रतिशत एम्‍परर पेंगुइन की बस्तियां

नहीं तो तबाह हो जाएंगी 70 प्रतिशत एम्‍परर पेंगुइन की बस्तियां

बता दें अंटार्कटिका में दुनिया की 99 परसेंट बर्फ है। यहां साल में बारह महीने बर्फ रहती हैं जहा समुद्री मछलियां, पेंग्विन, सील और पोलर बियर जैसे जानवर रह सकते हैं। वहीं अब ग्‍लोबल चेंज बायोलॉलीज नाम मैगजीन में प्रकाशित शोध में ये दावा किया गया कि है अगर कार्बन उत्सर्जन और जलवायु परिवर्तन की वर्तमान दरों में कोई बदलाव नहीं किया जाता है तो 2050 तक बर्फ में रहने वाली एम्‍परर पेंगुइन के समुद्री बर्फ की बस्तियों के लगभग 70 प्रतिशत बस्तियां तबाह हो सकती है।

98% बस्तियां लुप्‍त होने की कगार पर पहुंच जाएगी

98% बस्तियां लुप्‍त होने की कगार पर पहुंच जाएगी

वैज्ञानिकों ने चेताया है कि अगर अगर ऐसा ही चलता रहा तो 2100 तक ये 98% बस्तियां लुप्‍त होने की कगार पर पहुंच जाएगी। अमेरिकी मछली और वन्यजीव सेवा ने मंगलवार को लुप्तप्राय प्रजाति अधिनियम के तहत प्रजातियों को खतरे में डालने के प्रस्ताव की घोषणा की।

    Polar Bear: Arctic में खतरें में Rare Bear, इंसानों को भी Alert | वनइंडिया हिंदी
     2016 में समुद्री बर्फ कम होने के कारण प्रजनन हुआ था प्रभावित

    2016 में समुद्री बर्फ कम होने के कारण प्रजनन हुआ था प्रभावित

    वुड्स होल ओशनोग्राफिक इंस्टीट्यूशन में इकोलॉजिस्ट स्टेफ़नी जेनोवियर ने कहा, " एम्‍परर पेंगुइन का जीवन चक्र स्थिर समुद्री बर्फ से जुड़ा होता है, जिसे उन्हें प्रजनन, खिलाने और पिघलाने की आवश्यकता होती है।" नए अध्ययन में ग्लोबल वार्मिंग के कारण चरम मौसम में उतार-चढ़ाव की बढ़ती संभावना को देखा और यह नोट किया गया कि 2016 में समुद्री बर्फ के बेहद कम हो जाने के कारण अंटार्कटिका के हैली बे में एक पेंगुइन बस्‍ती की बड़े पैमाने पर प्रजनन असफल रहा।

     लगभग 10,000 बच्चे पक्षी डूब गए

    लगभग 10,000 बच्चे पक्षी डूब गए

    विशेषज्ञ ने बताया कि उस साल नन्हे पेंग्विनों के पानी रोकने वाले वयस्क पंख आने से पहले ही मौसमी समुद्री बर्फ टूट गए और लगभग 10,000 बच्चे पक्षी डूब गए। इसके बाद बस्ती इस झटके से उबर नहीं पाई। एम्‍परर पेंगुइनसर्दियों के दौरान विशेष रूप से अंटार्कटिका में प्रजनन करते हैं। वे कई हज़ार पक्षियों के समूहों में एक साथ घूमते हुए शून्य से 40 डिग्री फ़ारेनहाइट (शून्य से 40 डिग्री सेल्सियस) के तापमान और हवा की गति 90 मील (144 किलोमीटर) प्रति घंटे तक पहुंचती हैं। लेकिन वे पर्याप्त समुद्री बर्फ के बिना जीवित नहीं रह सकते।

    पेंगुइन जलवायु संकट से बुरी तरह प्रभावित हैं

    पेंगुइन जलवायु संकट से बुरी तरह प्रभावित हैं

    सेंटर फॉर बायोलॉजिकल डायवर्सिटी में अंतर्राष्ट्रीय कार्यक्रम निदेशक सारा उहलेमैन ने कहा, "ये पेंगुइन जलवायु संकट से बुरी तरह प्रभावित हैं, और अमेरिकी सरकार अंततः उस खतरे को पहचान रही है।"अमेरिकी सरकार ने पहले ध्रुवीय भालू सहित देश के बाहर की प्रजातियों को खतरे के रूप में सूचीबद्ध किया है, जो आर्कटिक क्षेत्रों में रहता है और जलवायु परिवर्तन और समुद्री बर्फ के नुकसान से भी प्रभावित है।

    दुनिया भर में 650,000 हैं एम्‍परर पेंगुइन

    दुनिया भर में 650,000 हैं एम्‍परर पेंगुइन

    एम्‍परर पेंगुइन- दुनिया का सबसे बड़ी संख्‍या में इन पेंगुइन की है। वर्तमान समय में लगभग 270,000 से 280,000 प्रजनन जोड़े, या 650,000 कुल संख्या है। तेज और खतरनाक धूप पहुंचने से बर्फ पिघलेगी और इनकी बस्तियां तबाह हो जाएगी। विशेषज्ञों के अनुसार पक्षी को सूचीबद्ध करना उन्‍हें सुरक्षा प्रदान करता है जैसे कि व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए उन्हें आयात करने से रोकना। वर्तमान में अंटार्कटिका में काम कर रहे अमेरिकी समुद्री मत्स्य पालन द्वारा पेंगुइन पर संभावित प्रभावों का भी मूल्यांकन किया जाना चाहिए।"जलवायु परिवर्तन, इसके लिए एक प्राथमिक चुनौती है जो दुनिया भर में विभिन्न प्रजातियों को प्रभावित करती है," वन्यजीव सेवा के प्रमुख उप निदेशक मार्था विलियम्स ने कहा"आज और अगले कुछ दशकों के दौरान नीति निर्माताओं द्वारा लिए गए निर्णय सम्राट पेंगुइन के भाग्य का निर्धारण करेंगे।"

    English summary
    Melting ice from climate change could destroy millions of emperor penguin habitats - research
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X