• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

ISI प्रमुख से आर्मी चीफ बनने का सफर, 5 प्वाइंट में समझिए आसिम मुनीर कैसे बने PAK में सबसे शक्तिशाली

जनरल आसिम मुनीर 1947 में ब्रिटेन से आजादी की घोषणा के बाद से पाकिस्तान के 17वें सेना प्रमुख होंगे। इसी अवधि के दौरान पाकिस्तान में 30 अलग अलग प्रधानमंत्री बदले हैं।
Google Oneindia News

Lt Gen Asim Munir: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने गुरुवार को लेफ्टिनेंट जनरल आसिम मुनीर को अपनी शक्तिशाली सेना का नया प्रमुख नियुक्त किया है और अगर अब राष्ट्रपति उनकी फाइल पर मुहर लगा देते हैं, तो आसिम मुनीर अगले तीन सालों के पाकिस्तान के सबसे शक्तिशाली शख्स बन जाएंगे। पाकिस्तान की सेना, जो देश की अंदरूनी राजनीति से लेकर विदेश नीति और कभी कभार, जो देश में अर्थशास्त्री की भूमिका में भी होती है, वहां अब आसिम मुनीर देश की सर्वोच्च सत्ता का आनंद लेंगे।

पाकिस्तान के 17वें सेना प्रमुख

पाकिस्तान के 17वें सेना प्रमुख

जनरल आसिम मुनीर 1947 में ब्रिटेन से आजादी की घोषणा के बाद से पाकिस्तान के 17वें सेना प्रमुख होंगे। इसी अवधि के दौरान पाकिस्तान में 30 अलग अलग प्रधानमंत्री बदले हैं, लेकिन किसी भी प्रधानमंत्री ने अपने पांच साल का कार्यकाल पूरा नहीं किया है, लेकिन करीब करीब सभी सैन्य प्रमुखों ने अपना कार्यकाल तो पूरा किया ही है, साथ ही कई सैन्य प्रमुखों को एक्सटेंशन भी मिला और चार सैन्य प्रमुखों ने चुनी हुई सरकार का तख्तापलट भी किया। पाकिस्तान की सेना दुनिया की छठी सबसे बड़ी सेना है, लेकिन पाकिस्तान की राजनीति पर सेना पूरा कंट्रोल रखती है, लिहाजा पाकिस्तान की राजनीति कभी स्थिर नहीं हो पाई। 61 साल के जनरल कमर जावेद बाजवा तीन साल के कार्य विस्तार के बाद 29 नवंबर को सेवानिवृत्त होने वाले हैं। वहीं, लेफ्टिनेंट जनरल साहिर शमशाद मिर्जा को संयुक्त चीफ ऑफ स्टाफ कमेटी (CJCSC) के अध्यक्ष के रूप में चुना गया है।

ISI के प्रमुख रह चुके हैं जनरल मुनीर

ISI के प्रमुख रह चुके हैं जनरल मुनीर

लेफ्टिनेंट-जनरल आसिम मुनीर पाकिस्तान की दो सबसे प्रभावशाली खुफिया एजेंसियों, इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (ISI) और मिलिट्री इंटेलिजेंस (MI) के प्रमुख रह चुके हैं। हालांकि, आईएसआई प्रमुख के तौर पर उनका कार्यकाल सिर्फ आठ महीने का ही रहा और पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान ने प्रधानमंत्री बनने के बाद उन्हें आईएसआई चीफ के पद से हटा दिया था। इमरान खान ने जनरल मुनीर की कार्यशाली को बकवास कहा था। हालांक, ऐसा कहा जा रहा है, कि जनरल मुनीर को नया आर्मी चीफ बनाकर शहबाज शरीफ ने इमरान खान को 440 वोल्ट का झटका दिया है।

बाजवा के बाद सबसे वरिष्ठ अधिकारी

बाजवा के बाद सबसे वरिष्ठ अधिकारी

निवर्तमान सेना प्रमुख जनरल क़मर जावेद बाजवा के बाद लेफ्टिनेंट-जनरल आसिम मुनीक पाकिस्तान की सेना में सबसे वरिष्ठ रैंकिंग जनरल हैं। वहीं, वो जनरल बाजवा के काफी करीबी भी माने जाते हैं। लेफ्टिनेंट जनरल मुनीर, पाकिस्तान के मौजूदा आर्मी चीफ जनरल बाजवा के तब से करीबी सहयोगी रहे हैं, जब जनरल बाजवा कमांडर एक्स कोर थे और उस वक्त जनरल मुनीर एक ब्रिगेडियर के रूप में फोर्स कमांड के तौर पर पाकिस्तान के उत्तरी क्षेत्रों में सैन्य कमान संभाल रखी थी।

इमरान ने ISI चीफ पद से क्यों हटाया?

इमरान ने ISI चीफ पद से क्यों हटाया?

आईएसआई प्रमुख के रूप में जनरल मुनीर का कार्यकाल खत्म करने के पीछे उनके काम करने के तरीके को जिम्मेदार ठहराया गया था। पाकिस्तानी मीडिया ने बताया था कि, इमरान खान ने जनरल मुनीर के काम करने के तरीके को बकवास ठहराया था और इमरान खान का मानना था, कि जनरल मुनीर किताबी तरीके से काम करते हैं, जो उन्हें पसंद नहीं था। लिहाजा, इमरान खान और जनरल मुनीर के बीच का संबंध काफी खराब हो गया था। लिहाजा, नए सेना प्रमुख के रूप में मुनीर की नियुक्ति पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान के लिए एक झटका होने की संभावना है। हालांकि, सत्तारूढ़ पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) पार्टी के एक वर्ग ने सेना प्रमुख के पद जनरल मुनीर की नियुक्ति का समर्थन किया है और पार्टी का मानना है, कि मुनीर इमरान खान के खिलाफ रहेंगे।

राष्ट्रपति बन सकते हैं रास्ते का कांटा

राष्ट्रपति बन सकते हैं रास्ते का कांटा

भारत की तरह पाकिस्तान में भी राष्ट्रपति हर दलगत राजनीति से उपर होते हैं और एक बार राष्ट्रपति बनने के बाद वो सभी पार्टियों से ऊपर हो जाता है, लेकिन पाकिस्तान में राष्ट्रपति पार्टी लाइन से बाहर नहीं जा पाते हैं। वहीं, माना जा रहा है, कि इमरान खान राष्ट्रपति की मदद से नये आर्मी चीफ की नियुक्ति को लटका सकते हैं। वहीं, पाकिस्तान मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आज लाहौर में राष्ट्रपति आरिफ अल्वी और इमरान खान की मुलाकात होगी। उससे पहले कल इमरान खान ने कहा था, कि नये आर्मी चीफ पर फैसला लेने से पहले राष्ट्रपति उनसे राय मशविरा करेंगे। वहीं, अब सवाल उठ रहे हैं, कि क्या राष्ट्रपति आरिफ अल्वी, शहबाज शरीफ के भेजे गये नाम को लौटा देंगे। हालांकि, अगर आरिफ अल्वी ऐसा करते हैं, तो भी वो ज्यादा से ज्यादा 25 दिनों तक ही अड़ंगा डाल सकते हैं।

जनरल आसिम मुनीर कैसे बने इमरान खान के दुश्मन? शहबाज शरीफ ने भी अपने लिए खाई खोद ली?जनरल आसिम मुनीर कैसे बने इमरान खान के दुश्मन? शहबाज शरीफ ने भी अपने लिए खाई खोद ली?

Comments
English summary
How Lieutenant General Asim Munir became the Army Chief of Pakistan, understand in five points.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X