• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

शेर पर टूट पड़े एक साथ 30 लकड़बग्घे, 6 घंटे तक चलती रही भीषण लड़ाई, नतीजा देख हलक में अटकी सांसे

|

केपटाउन/नई दिल्ली, मई 07: जंगल की बस एक कहानी है, जो ताकतवर होता है वही राज करता है और इसीलिए शेर को जंगल का राजा कहा जाता है। लेकिन, शेर का राजा भी कभी कभी अपनी जान बचाने के लिए संघर्ष करता है। वो किसी तरह जान बचाने की कोशिश करता है लेकिन जंगल में जो जंग छिड़ती है, उसमें माफी की गुंजाईश नहीं होती है। एक ऐसा ही जंग छिड़ गई दक्षिण अफ्रीका में, जो पूरे छह घंटे तक चलती रही। एक शेर पर एक दो नहीं बल्कि 30 लकड़बग्घे एक साथ टूट पड़े और जब ये लड़ाई थमी तो अंजाम देख हर किसी की सांस हलक में अटक गई। जंगल में चली वर्चस्व और भूख मिटाने की इस जंग को अपने कैमरे में कैद किया है मशहूर फोटोग्राफर कायले स्मिथ ने। आईये जानते हैं जंगल की दिल दहलादेने वाली कहानी।

6 घंटे तक चलता रहा संघर्ष

30 खूंखार लकड़बग्घे और जंगल के राजा शेर के बीच ये लड़ाई 6 घंटे से ज्यादा चलती रही। ये लड़ाई तब शुरू हुई जब शेर एक भैंस का मांस खाने की कोशिश कर रहा था। उसी वक्त लकड़बग्घों के झुंड ने शेर को चारों तरफ से घेर लिया और फिर शुरू हो गई भूख मिटाने की खतरनाक जंग। लड़ाई सिर्फ इस बात को लेकर हो रही थी कि भैंस का मांस किसे खाने को मिलेगा। लकड़बग्घे शेर को मार देना चाहते थे लेकिन शेर तो शेर होता है। 6 घंटे के अकेले 30 लकड़बग्घों से लड़ने के बाद भी शेर उनपर भारी पड़ा और साबित कर दिया कि यूं ही नहीं उसे जंगल का राजा कहा जाता है।

भोजन पर शेर का कब्जा

6 घंटे तल चली इस लड़ाई के बाद शेर लकड़बग्घों को खदेड़ने में कामयाब रहा। इस दौरान फोटोग्राफर कायले स्मिथ लगातार तस्वीरों को कैद कर रहे थे। फोटोग्राफर कायले स्मिथ सफारीस्मित के पाउंडर भी हैं। इन तस्वीरों में साफ नजर आ रहा है कि किस कदर शेर खूंखार लकड़बग्घों से घिरा हुआ है और इन तस्वीरों से अंदाजा भी लगाया जा सकता है कि लड़ाई किस कदर खतरनाक रही होगी। भीषण लड़ाई के बीच भी शेर लगातार गुर्रा रहा था और दहाड़ रहा था। उसके दहाड़ने की आवाज से पूरा जंगल कांप रहा था। कायले स्मिथ ने जंगल में होने वाली इस लड़ाई को करीब 800 फीट की दूरी से अपने कैमरे में रिकॉर्ड किया है।

खूंखार होते हैं लकड़बग्घे

खूंखार होते हैं लकड़बग्घे

शेर तो जंगल का राजा ही होता है लेकिन लकड़बग्घे भी कम खतरनाक नहीं होते हैं। हमेशा झुंड में रहने वाले लकड़बग्घे 60 किलोमीटर की ज्यादा रफ्तार से अपने शिकार पर हमला करते हैं। एक लकड़बग्घे का वजन करीब 63 किलो का होता है और अफ्रीका क्रूगर नेशनल सफारी पार्क में 30 लकड़बग्घे शेर पर काबू पाना चाहते थे। वहीं एक शेर का वजन करीब 180 किलो के करीब होता है। 6 घंटे तक चली इस जंग में आखिरकार विजय शेर को मिली और अंत में सभी लकड़बग्घों को दूम दबाकर भागने के लिए मजबूर होना पड़ा।

एक वक्त पिछड़ रहा था शेर

एक वक्त पिछड़ रहा था शेर

रिपोर्ट के मुताबिक इस लड़ाई में एक वक्त लग रहा था कि शेर पिछड़ जाएगा और लकड़बग्घे उसपर भारी पड़ेंगे। लेकिन, अंत तक शेर ने हार नहीं मानी और उसी का नतीजा हुआ कि जंगल का राजा ही विजयी हुआ। दरअसल, जंगल में मरे जानवरों का मांस खाने के लिए लकड़बग्घे घूमते रहते हैं और यहां भी उसी खाने के लिए शेर और लकड़बग्घ में भीषण जंग छिड़ गई। हालांकि, 6 घंटे चली इस जंग में शेर भी घायल हुआ है और उसके शरीर पर कुछ जगहों पर लकड़बग्घों के दांत घुस गये थे, लेकिन इस संघर्ष के खत्म होने के बाद पूरा का पूरा भैंस शेर को ही खाने के लिए मिला।

अमानवीय हरकत पर उतरा चीन, डिब्बे में बंदकर पालतू जानवरों की बिक्री, दम घुटने और चोट लगने से जा रही है जानअमानवीय हरकत पर उतरा चीन, डिब्बे में बंदकर पालतू जानवरों की बिक्री, दम घुटने और चोट लगने से जा रही है जान

English summary
In the Kruger National Park in South Africa, there was a 6-hour war between the lion and 30 hyena.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X