डोनाल्ड ट्रंप बोले- हम परमाणु हथियार का इस्तेमाल क्यों नहीं कर सकते?

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

अमेरिका में विदेश नीति के जानकार डोनाल्ड ट्रंप के उस बयान को सुनकर चौंक गए जब उन्होंने न्यूक्लियर मिसाइल इस्तेमाल करने की बात कह दी। अमेरिका के लोग अभी इस बात को भी नहीं समझ पा रहे हैं कि आखिर वह दुनिया की सबसे ताकतवर मानी जाने वाली अमेरिकी सेना को बेहतर तरीके से संभाल पाएंगे भी या नहीं।

trump

आए दिन डोनाल्ड ट्रंप की तरफ से दिए जा रहे अजीबोगरीब बयानों से खुद रिपब्लिकन पार्टी के सदस्य भी परेशान हैं। पार्टी के कुछ वरिष्ठ सदस्य इस बात पर भी विचार कर रहे हैं कि अगर किसी कारण से डोनाल्ड ट्रंप नॉमिनेशन छोड़ दें तो हालात कैसे होंगे। बुधवार को एमएसएनबीसी टीवी पर एक रिपोर्ट प्रसारित की गई, जिसके अनुसार डोनाल्ड ट्रंप एक ब्रीफिंग के दौरान विदेश नीति के जानकारों से लगातार ये पूछ रहे थे कि आखिर अमेरिका परमाणु हथियारों का इस्तेमाल क्यों नहीं कर सकता है?

डोनाल्ड ट्रंप ने हिलेरी क्लिंटन को कहा आईएसआईएस का संस्थापक

डोनाल्ड ट्रंप की तरफ से पूछे गए इस सवाल से एक बार फिर उनकी नेतृत्व क्षमता पर सवाल खड़ा होने लगा है। एमएसएनबीसी टीवी पर प्रसारित शो 'मॉर्निंग जो' के एंकर जो स्कारबोरो के अनुसार ट्रंप ने ब्रीफिंग के दौरान विदेश नीति के जानकारों एक-दो नहीं, बल्कि तीन बार यही सवाल पूछा कि आखिर जब हमारे पास परमाणु हथियार है तो फिर हम उनका इस्तेमाल क्यों नहीं कर सकते हैं।

राष्‍ट्रपति ओबामा और ट्रंप के बीच चुनाव से पहले छिड़ी जंग

डोनाल्ड ट्रंप की टीम ने ऐसी किसी भी घटना के होने से इनकार किया है, लेकिन ट्रंप के आलोचकों को उन पर हमला बोलने का एक अच्छा मौका जरूर मिल गया है। ट्रंप का ये भी मानना है कि जापान, दक्षिण कोरिया और सऊदी अरब को अपनी सुरक्षा के लिए अमेरिका पर निर्भर रहने के बजाए अपने खुद के परमाणु हथियार विकसित करने चाहिए। ट्रंप ने इस बात पर भी टिप्पणी करने से इनकार किया कि वह यूरोप में या फिर इराक और सीरिया में इस्लामिक स्टेट जैसे आतंकी समूहों के खात्मे के लिए परमाणु हथियार का प्रयोग करेंगे या नहीं।

फिर मर्डोक के न्‍यूजपेपर ने छापीं मेलानिया ट्रंप की न्‍यूड फोटोग्राफ्स

युद्ध, व्यापार और प्रवासियों को लेकर ट्रंप के रवैये पर न केवल अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा ने सवाल उठाए हैं, बल्कि खुद रिपब्लिकन पार्टी के भी कुछ सदस्य ट्रंप के इस तरह के रवैये को लेकर काफी चिंतित हैं। बराक ओबामा ने तो मंगलवार को ट्रंप की मानसिक हालत की बात करते हुए यह भी कह डाला कि वह राष्ट्रपति बनने के लायक ही नहीं हैं। इंडो-अमेरिकन गुरु दीपक चोपड़ा ने जून में कहा था कि ट्रंप भावनात्मक और मानसिक रूप से काफी कमजोर हैं।

मुसलमानों को लेकर डोनाल्ड ट्रंप और मोदी के सुर एक जैसे: कन्‍हैया कुमार

इनता ही नहीं, उप राष्ट्रपति पद के उदारवादी उम्मीदवार बिल वेल्ड ने भी बुधवार को सीएनएन टाउनहॉल में कहा कि ट्रंप दिखावटी हैं और एक ऐसे नेता हैं जो गैर जिम्मेदाराना वादे करते हैं। साथ ही उन्होंने ट्रंप को एक शोर मचाने वाला शख्स कहा। वेल्ड ने तो ट्रंप का मजाक भी उड़ाया था। उन्होंने कहा था कि जब भी कभी मैं 'ढीला स्क्रू' सुनता हूं तो मेरे दिमाग में ट्रंप की तस्वीर उभर आती है।

इराक में शहीद कैप्‍टन हुमायूं के पिता ने दिया ट्रंप को करारा जवाब

कुछ लोग तो इससे भी आगे बढ़ चुके हैं। कैलिफोर्निया के लॉमेकर ने तो एक याचिका तक दायर कर दी है, जिसमें डोनाल्ड ट्रंप की मानसिक हालत की जांच किए जाने की मांग की गई है। उन्होंने कहा है कि ट्रंप ने मासनिक रूप से बीमार हो जाने पर होने वाले नार्सिसिस्टिक पर्सनैल्टी डिसऑर्डर के सभी लक्षणों की पुष्टि कर दी है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
donald trump asked to the foreign policy traditionalists in america that if we have nuclear weapon then why we can not use them.
Please Wait while comments are loading...