• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

'कोरोना वायरस से भी भयानक महामारी भविष्य में आ सकती हैं'

|

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के चलते पूरी दुनिया में तकरीबन डेढ़ लाख लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 20 लाख से अधिक लोग इस वायरस के संक्रमण का शिकार हो चुके हैं। इस वायरस के चलते कई देशों में लॉकडाउन है और लोगों में डर का माहौल है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि द्वितीय विश्व युद्ध के बाद दुनिया के सामने यह अबतक की सबसे बड़ी चुनौती है। लोग उम्मीद कर रहे हैं कि आने वाले दिनों में इस वायरस से कुछ राहत मिलेगी। लेकिन अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त वायरोलॉजिस्ट डॉक्टर इयान लिपकिन का मानना है कि यह अबतक की सबसे भयंकर महामारी नहीं है, इससे भी बदतर चुनौतियां आने वाले भविष्य में इंतजार कर रही हैं।

12 अगस्‍त को रूस से आ रही है पहली कोरोना वायरस वैक्‍सीन, जानिए इसके बारे में सबकुछ

आने वाले समय में इससे भी बदतर संकट

आने वाले समय में इससे भी बदतर संकट

एक कार्यक्रम के दौरान बोलते हुए डॉक्टर लिपकिन ने कहा कि जिस तरह से मानवीय गतिविधि में वृद्धि हुई है उसने इस तरह के स्वास्थ्य संकट के दर को भी बढ़ा दिया है और यह आने वाले समय में भी जारी रहेगा। मुझे लगता है कि हम ये संकट बहुत जल्दी-जल्दी देख रहे हैं, इसकी अहम वजहें, जंगलों का कटना, आबादी का विस्थापन, अंतरराष्ट्रीय व्यापार, यात्रा, पर्यावरण में बदलाव अहम है। ये सभी वजहें इस तरह के संकट के बार-बार आने की वजहें हैं। जब स्पैनिश फ्लू आया तो उसे बाद से कई महामारी जैसे एड्स, निपाह, चिकनगुनिया, सार्स-1 आदि सामने आए, मैंने इस तरह के कम से कम 15 महामारी को करीब से देखा है।

बदलना होगा जीवन जीने का तरीका

बदलना होगा जीवन जीने का तरीका

लोगों को सचेत करते हुए डॉक्टर लिपकिन ने कहा कि मैं इस बात पर यकीन नहीं करता हूं कि कोरोना वायरस अबतक का सबसे बड़ा संकट है, हमे इससे बड़े संकट का सामना करना पड़ सकता है, अगर पर्यावरण के प्रति अपना बर्ताव नहीं बदलते हैं। हम इस तरह की समस्याएं बार-बार देखेंगे। पर्यावरण के बदलाव की वजह से लोग यहां से वहां जाने को मजबूर होते हैं। हम अंतरराष्ट्रीय व्यापार करते हैं जिससे इस तरह की वैश्विक बीमारी और तेजी से फैलती है। बड़ी संख्या में लोग ऐसे हैं जिन्हें प्रोटीन खाने में नहीं मिलता है, जिसकी वजह से वह जंगली जानवरों को खाते हैं, जिनमे बीमारी होती है। अमीर लोग घर में विदेशी पालतू जानवर रखते हैं, जो इंसानों को संक्रमित कर सकता है। लिपकिन ने कहा कि इस तरह के संकट से बचने के लिए हमे अपने जीवन जीने के तरीके को बदलना होगा।

दुनियाभर में 1.7 लाख से अधिक मौत

दुनियाभर में 1.7 लाख से अधिक मौत

बता दें कि दुनियाभर में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 2557993 पहुंच चुकी है, जबकि इस वायरस से अबतक 177688 लोगों की मौत हो चुकी है। अच्छी खबर ये है कि 695335 लोग जो कोरोना वायरस से संक्रमित हुए थे, वह ठीक भी हो चुके हैं। भारत की बात करें तो स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने बुधवार सुबह बताया कि देश में बीते 24 घंटों के भीतर कोरोना वायरस के 1383 नए मामले सामने आए हैं और 50 लोगों की मौत हुई है। मंत्रालय के मुताबिक अब भारत में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या बढ़कर 19,984 हो गई है। इसमें 15474 सक्रिय मामले हैं, 3870 लोग ठीक हो चुके हैं/ छुट्टी दे दी गई है और कुल 640 मौतें हुई हैं।

इसे भी पढ़ें- अंतरराष्ट्रीय पृथ्वी दिवस पर बोले पीएम मोदी- 'आइए कोरोना वॉरियर्स की जय-जयकार करें'

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Worst than coronavirus pandemic might hit the world in future says ace virologist Ian Lipkin.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X