हरियाणा: महिला बॉक्सरों ने लौटाईं गिफ्ट में मिली गाय, कहा- दूध देती नहीं, लात मारती हैं

Subscribe to Oneindia Hindi
नई दिल्ली। हरियाणा सरकार ने बीते साल महिला बॉक्सरों को गाय गिफ्ट की थी जिसके बाद देश भर में बहस छिड़ गई थी। सरकार ने राष्ट्रीय महिला चैंपियनशिप में पदक जीतने वाली छह महिला मुक्केबाजों को गाय उपहार में दिया था। लेकिन यह कदम उन तीन मुक्केबाजों के लिए उलझन भरा साबित हो रहा है। जिन्होंने गुवाहाटी में महिलाओं की राष्ट्रीय मुक्केबाजी चैंपियनशिप में पदक जीता था। मुक्केबाजों ने यह कहते हुए गायें लौटा दी है कि वो दूध नहीं देतीं और लात मारती हैं। रोहतक निवासी ज्योति गुलिया ने कहा कि मेरी मां ने पांच दिनों तक गाय की खूब सेवा की, इसने दूध नहीं दिया उल्टा लात अलग मारी। ज्योति ने कहा कि उनकी मां को गाय ने लात मारी जिसके चलते उन्हें चोट लगी, ऐसे में उन्होंने सरकार का गिफ्ट उन्हें वापस कर दिया। ज्योति ने कहा कि हम कोई मदद नहीं कर सकते अगर गाय दूध नहीं देगी। 

हम अपनी भैंसों के साथ ही खुश

हम अपनी भैंसों के साथ ही खुश

ज्योति ने कहा हम अपनी भैंसों के साथ ही खुश हैं। अभी तक, ज्योति, नीतू और साक्षी ने गायों को वापस लौटा दिया है और कहा कि वो दूध नहीं देतीं और उनके परिवार के सदस्यों को उनके सींग के साथ चोट लगी है। ज्योति के कोच विजय हुड्डा ने कहा कि मुक्केबाजों को एक स्थानीय नस्ल की गाय दी गई थी। उन्होंने कहा, "अगर गाय दूध नहीं देगी तो वह खिलाड़ियों के किसी काम की नहीं। उन्होंने कहा, जो साक्षी का पिता और नीतू के चाचा हैं, ने भी पुष्टि की कि दूध नहीं देने के कारण दोनों महिला मुक्केबाजों ने अपनी गायों को वापस कर दिया।

इन्होंने जीता था पदक

इन्होंने जीता था पदक

महिलाओं ने 19 से 26 नवंबर से आयोजित गुवाहाटी टूर्नामेंट में पदक जीता था। मुक्केबाजी में, भिवानी की नीतू घंघास, साक्षी कुमार, हिसार से ज्योति और शशि चोपड़ा ने अपने संबंधित श्रेणियों में स्वर्ण पदक जीता था। पलवल निवासी अनुपम, और कैथल की नेहा ने कांस्य पदक जीता था

कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने यह घोषणा की थी

कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने यह घोषणा की थी

प्रदेश के कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने यह घोषणा (1 दिसंबर 2017) बुधवार को राजीव गांधी स्टेडियम स्थित सांई सेंटर में आयोजित सम्मान समारोह के दौरान की। साथ ही विजेता बेटियों का नाम गांव के गौरवपट्ट पर भी लिखा जाएगा। जब मंत्री ओपी धनखड़ ने गाय पुरुस्कार देने का एलान किया तो वहाँ मौजूद हर खिलाडी और अन्य लोगों ने खड़े होकर और तालियां बजाकर स्वागत किया।

गाय के दूध के 'फायदे' गिनाए

गाय के दूध के 'फायदे' गिनाए

मंत्री ने कहा था कि 19 से 26 नवंबर तक गुवाहटी में हुए यूथ वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप में प्रदेश की छह बॉक्सर बेटियों ने भाग लिया था। इसमें चार बेटियों ने स्वर्ण और दो ने कांस्य पदक जीतकर प्रदेश का नाम रोशन किया है। आपको बता दें कि धनखड़ बॉक्सिंग हरियाणा एसोसिएशन के प्रमुख हैं और उन्‍होंने इस कार्यक्रम में मुक्‍केबाजों के लिए गाय के दूध के 'फायदे' गिनाए। धनखड़ ने हरियाणा नस्ल की एक-एक गाय देने की घोषणा की। कहा कि गाय के दूध से सुंदरता के साथ-साथ बुद्धि भी तेज होती है।

सभी खिलाड़ी दंग रह गए थे

सभी खिलाड़ी दंग रह गए थे

जब समारोह में मंत्री ने गाय देने की घोषणा की तो सभी खिलाड़ी दंग रहे गईं। बॉक्सर नीतू ने कहा, 'मुझे कई इनाम मिले, धार्मिक मूर्तियों से लेकर किताबों तक, मगर मुझे कभी गाय नहीं मिली थी और मुझे यह पुरस्कार बहुत पसंद आया हैं। पिछले साल मैंने न्यूजपेपर में पढ़ा था कि रियो ओलंपिक में ब्रोंज मेडल जीतने वाली साक्षी मलिक को चांदी की गाय दी गई थी। मगर एक असली गाय मिलना मेरे लिए खजाने की तरह है।'

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Women boxers return cows to Haryana government

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.