• search

लोकसभा उपचुनावों में क्यों बेअसर साबित हो रही है 'मोदी लहर'

Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts
    चुनाव
    Getty Images
    चुनाव

    साल 2014 में हुए सोलहवीं लोकसभा के चुनावों में भारतीय जनता पार्टी ने विकास को मुद्दा बनाया था.

    इसे लोगों ने वरीयता दी और आम चुनावों में भाजपा को कुल 282 सीटें मिली थीं. पार्टी को मिले इस प्रचंड बहुमत को 'नरेंद्र मोदी की लहर' बताया गया.

    लेकिन 2014 के आम चुनावों के बाद अब तक लोकसभा की 16 सीटों के लिए उप-चुनाव हुए हैं जिनमें से केवल दो सीटों पर ही भाजपा जीत हासिल कर पाई है.

    उपचुनाव
    Getty Images
    उपचुनाव

    वरना बुधवार को गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीट पर मिली हार के बाद 14 लोकसभा सीटें ऐसी हैं जिनपर भाजपा के विरोधियों की जीत मिली है.

    वहीं जिन दो सीटों पर हुए उप-चुनावों में भाजपा ने जीत हासिल की, वो सीटें 2014 के आम चुनाव में भी भाजपा ने ही जीती थीं.

    और 2014 के आम चुनाव के बाद 14 में से 5 सीटें (अजमेर, अलवर, गोरखपुर, फूलपुर और श्रीनगर लोकसभा सीट) ऐसी थीं, जो भाजपा के पास थी और अब वे उनके हाथ से निकल चुकी हैं.

    चुनाव
    Getty Images
    चुनाव

    यानी नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद भाजपा को एक भी लोकसभा सीट की बढ़त हासिल नहीं हुई, बल्कि पाँच सीटें घट ज़रूर गईं.

    भाजपा का गिरता ग्राफ़

    आम चुनाव के बाद सबसे पहले 2014 में ही ओडिशा की कंधमाल लोकसभा सीट के लिए उपचुनाव हुए थे जिसमें बीजेडी उम्मीदवार ने भाजपा को शिकस्त दी थी.

    उसके बाद तेलंगाना के मेढक में हुए उप-चुनाव में टीआरएस ने भाजपा को हराया.

    2014 में ही उत्तरप्रदेश के मैनपुरी में हुए उप-चुनाव में सपा ने भाजपा को हराया.

    वडोदरा सीट भाजपा ने बचाई

    लेकिन 2014 में गुजरात की वडोदरा सीट पर हुए उप-चुनाव में भाजपा अपनी सीट बचाने में कामयाब रही थी.

    चुनाव
    INDRANIL MUKHERJEE/Getty Images
    चुनाव

    साल 2015 भी भाजपा के लिए कोई ख़ास अच्छा नहीं रहा. इस साल वारंगल और पश्चिम बंगाल में उप-चुनाव हुए.

    एक जगह टीआरएस को जीत मिली तो दूसरी जगह ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस को जीत हासिल हुई.

    2016 में कुल 3 सीटों के लिए उप-चुनाव हुए. लेकिन भाजपा केवल मध्यप्रदेश के शहडोल को बचाने में ही कामयाब हुई जबकि पश्चिम बंगाल के तामलूक और कूचबिहार में तृणमूल को जीत हासिल हुई.

    बीते दो साल में गवाईं 6 लोकसभा सीटें

    2017 में केवल एक उप-चुनाव हुए जिनमें भारत प्रशासित कश्मीर की राजधानी श्रीनगर लोकसभा सीट से नेशनल कॉन्फ्रेंस के फ़ारुक़ अब्दुल्लाह विजयी हुए थे.

    2018 में अब तक लोकसभा की पाँच सीटों पर उप-चुनाव हुए हैं लेकिन भाजपा एक भी सीट हासिल नहीं कर सकी है.

    चुनाव
    ROBERTO SCHMIDT/Getty Images
    चुनाव

    राजस्थान के अजमेर और अलवर की सीटों पर कांग्रेस ने शानदार जीत हासिल की. वहीं 11 मार्च को तीन सीटों पर हुए उप-चुनाव में बिहार के अररिया में राष्ट्रीय जनता दल ने जीत हासिल की तो उत्तर प्रदेश के गोरखपुर और फूलपुर में समाजवादी पार्टी ने जीत हासिल की.

    गोरखपुर उप-चुनाव क्यों था अहम?

    लेकिन इन सभी उप-चुनावों मे शायद यूपी उप-चुनाव नतीजे सबसे अहम हैं.

    चुनाव
    Getty Images
    चुनाव

    गोरखपुर इसलिए बहुत अहम है क्योंकि ये सिर्फ़ मौजूदा मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी की सीट नहीं थी बल्कि 1989 के बाद से भाजपा एक बार भी ये सीट नहीं हारी थी.

    ख़ुद योगी ही 1998 से लगातार पाँच बार यहाँ से सांसद चुने जा चुके हैं.

    उसी तरह फूलपुर भी अहम है क्योंकि ये मौजूदा उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की सीट थी और ये सीट उन्होंने 2014 आम चुनाव में तीन लाख से भी अधिक वोटों से जीती थी.

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    BBC Hindi
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Why Modis wave is proving to be ineffective in Lok Sabha bye elections

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X