भारत का अब तक का सबसे बड़ा राजनीतिक पोल. क्या आपने भाग लिया?
  • search

कश्मीर में सेना और बीजेपी नेता क्यों हैं आमने-सामने

Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts
    मोदी
    Getty Images
    मोदी

    भारत-प्रशासित जम्मू कश्मीर में बीजेपी के नेता और भारतीय सेना आमने-सामने हैं.

    दरअसल ये मामला जम्मू क्षेत्र के नगरोटा इलाक़े का है. सेना ने बीजेपी के वरिष्ठ नेता और स्पीकर डॉक्टर निर्मल सिंह को लिखे एक पत्र में पूछा है कि आप नगरोटा में जिस इमारत का निर्माण कर रहे हैं वह ग़ैर क़ानूनी है और इससे राष्ट्रीय सुरक्षा को ख़तरा है जो सेना के बारूद डिपो के क़रीब है.

    सेना ने अपने पत्र में डॉक्टर निर्मल सिंह को फ़ौरन इमारत का निर्माण बंद करने को कहा था.

    सेना
    Getty Images
    सेना

    ख़बरों के मुताबिक़ सेना की तरफ़ से डॉक्टर सिंह को जो पत्र लिखा गया है वह सेना के 16वीं कोर कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल सरनजीत सिंह की ओर से लिखा गया है.

    मीडिया में ये ख़बर आने के बाद डॉक्टर निर्मल सिंह ने आरोप लगाया है कि सेना उन्हें और इलाके के लोगों को ख़ौफ़ज़दा कर रही है और सेना की तरफ़ से उन्हें डराना दरअसल एक राजनैतिक साज़िश है.

    कौन हैं जम्मू-कश्मीर के नए उप-मुख्यमंत्री?

    बीजेपी खेमे में हैरानी का माहौल

    बीजेपी के वरिष्ठ नेता की तरफ़ से सेना पर ऐसा संगीन आरोप लगाने से जम्मू कश्मीर में बीजेपी खेमे को ज़रूर हैरानी हुई है.

    शायद श्रीनगर से लेकर दिल्ली तक बीजेपी के किसी नेता ने ये कल्पना भी नहीं की होगी कि उनकी पार्टी के कोई बड़े नेता अपनी ही सेना के ख़िलाफ़ आरोप लगाएंगे.

    डॉक्टर निर्मल सिंह इस समय जम्मू-कश्मीर विधानसभा के स्पीकर हैं.

    सेना
    Getty Images
    सेना

    डॉक्टर सिंह को हाल ही में कैबिनेट के फेरबदल के दौरान उपमख्यमंत्री के पद से हटाया गया था.

    डॉक्टर सिंह के साथ बीजेपी के जिन दो वरिष्ठ नेताओं के नाम आए हैं, उनमें मौजूदा उपमख्यमंत्री कविंदर गुप्ता और सांसद जुगल किशोर भी शामिल हैं.

    ऐसा पहली बार हुआ है कि जब जम्मू-कश्मीर में बीजेपी जैसी राष्ट्रवादी पार्टी के किसी बड़े नेता ने अपने देश की सेना पर इस तरह का इल्ज़ाम लगाया हो.

    जब तक बंदूक चलेगी, बात नहीं होगी: निर्मल सिंह

    बीजेपी के बदले-बदले मिज़ाज

    जम्मू-कश्मीर में बीजेपी ने कभी सेना के साथ किसी भी मुद्दे पर सीधा टकराव नहीं किया है, बल्कि अगर ये कहा जाए कि जम्मू-कश्मीर में बीजेपी के नेताओं ने सेना के हर काम की सराहना की है तो ग़लत नहीं होगा.

    अलगाववादी खेमे के अलावा कश्मीर में भारत समर्थक स्थानीय राजनीतिक पार्टियां सेना के बयानों पर कोई भी ज़ुबानी हमला करने से गुरेज़ करती रही हैं.

    सेना
    Getty Images
    सेना

    लेकिन बीजेपी जैसी राष्ट्रवादी सियासी पार्टी के किसी बड़े नेता की ज़ुबान से सेना पर आरोप के शब्द निकलने के बाद खुद बीजेपी में डॉक्टर सिंह के बयान को हैरानी से देखा जा रहा है.

    प्रदेश बीजेपी में निर्मल सिंह के ख़िलाफ़ माहौल

    राज्य बीजेपी का कहना है कि डॉक्टर सिंह को सेना के ख़िलाफ़ बयान नहीं देना चाहिए था.

    जम्मू कश्मीर बीजेपी के प्रवक्ता सुनील सेठी ने बीबीसी को बताया, "डॉक्टर निर्मल सिंह को सेना के ख़िलाफ़ नहीं बोलना चाहिए. अगर कोई मुद्दा है तो उन्हें उसका जवाब देना चाहिए. ये तो उनका निजी मसला है. वह जवाब क्यों नहीं देते हैं? रही उनके ख़िलाफ़ किसी कार्रवाई की बात तो पार्टी इस पर सोच-विचार कर रही है. अगर सेना किसी बात पर आपत्ति जता रही है तो उनको जवाब देना चाहिए. "

    उधमपुर में तैनात सेना के प्रवक्ता कर्नल एनएन जोशी ने इस मामले पर बीबीसी को बताया, "ये मामला अभी विचाराधीन है. इस पर अभी और कुछ नहीं कहा जा सकता है."

    'मुझे गर्व है कि मैं आरएसएस का स्वयंसेवक हूं'

    उमर अब्दुल्लाह ने जांच की मांग की

    राज्य के पूर्व मख्यमंत्री उमर अब्दुल्लाह ने इस मामले पर जाँच की मांग की है.

    उमर अब्दुल्लाह
    Getty Images
    उमर अब्दुल्लाह

    अपने ट्वीटर हैंडल पर उन्होंने लिखा है, "सेना के मुताबिक़ जम्मू में बीजेपी नेताओं की ज़मीन सुरक्षा रिस्क है. ये सत्ता से जुड़ा हर व्यक्ति जानता था कि उन्होंने सस्ते में ज़मीन ली है और वो इस बात की उम्मीद कर रहे थे कि अपने रसूख़ का इस्तेमाल करके वो इस खरीदारी को अपनी संपत्ति बना लेंगे."

    एक दूसरे ट्वीट में वो लिखते हैं "जम्मू कश्मीर स्पीकर ने आरोप लगाया है कि इंडियन आर्मी उन्हें ख़ौफ़ज़दा कर रही है. क्या इन आरोपों पर कोई प्राइम टाइम चर्चा नहीं होगी या ये इसलिए कोई मायने नहीं रखता क्योंकि ये बीजेपी के नेताओं ने कहा है."

    उमर अब्दुल्लाह ने अपने एक दूसरे ट्वीट में लिखा है, "क्या सीतारमण साहिबा इस रिपोर्ट पर कुछ करेंगी जिस में बताया गया है कि उनके साथी नगरोटा में राष्ट्रीय सुरक्षा को ख़तरे में डाल रहे हैं. क्या उन्होंने इस बारे में कुछ पूछा जब वह पार्टी के मंच से बोल रही थीं."

    'पहले मोदी सरकार लाल चौक पर तो तिरंगा फहराए'

    उमर अब्दुल्लाह
    Getty Images
    उमर अब्दुल्लाह

    विपक्षी नेता और पूर्व मुख्यमंत्री डॉक्टर फ़ारुक़ अब्दुल्लाह कहते हैं कि बीजेपी की दिल्ली में सरकार है और उनको इस पर सोचना चाहिए.

    उन्होंने कहा, "सरकार बीजेपी की है. ये भी बीजेपी के हैं. उनको देखना चाहिए. ये बात दबने वाली नहीं है. ये उन्हीं के पूर्व उप-मुख्यमंत्री थे, उन्हीं के ये अब स्पीकर हैं, वह जानें और उनका काम जाने. कोई न कोई तो इस मुद्दे को उठाएगा. भारत सरकार इसका जवाब दे और उनको जवाब देना पड़ेगा. मैं इस पर और कोई कमेंट नहीं करना चाहता हूँ."

    पार्टी में अलग-थलग पड़े निर्मल सिंह

    जम्मू-कश्मीर में इस समय पीडीपी-बीजेपी की गठबंधन सरकार है. राज्य सरकार ने इस मुद्दे पर अभी तक कोई बयान नहीं दिया है.

    बीजेपी एक राष्ट्रवादी पार्टी होने के नाते आज तक सेना के साथ एक ही खेमे में नज़र आई है और दोनों एक ही भाषा में बोलते रहे हैं.

    सेना
    Getty Images
    सेना

    लेकिन डॉक्टर निर्मल सिंह के सेना पर लगाए आरोप ने ये सवाल पैदा किया है कि आखिर बीजेपी के इतने बड़े नेता ने सेना ने ख़िलाफ़ इतने कड़े शब्दों का इस्तेमाल क्यों किया.

    फ़िलहाल ऐसा लग रहा है कि डॉक्टर निर्मल सिंह सेना के ख़िलाफ़ दिए बयान पर अकेले पड़ गए हैं. उन्हें पार्टी की तरफ़ से भी अब कड़ी आलोचना का सामना करना पड़ रहा है.

    उपमख्यमंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता कविंदर गुप्ता से ये पूछने पर कि डॉक्टर सिंह ने सेना पर डराने का जो आरोप लगाया है क्या वह सही है, तो उनका कहना था 'ये आप उनसे पूछें जिन्होंने ये बात कही है."

    आने वाले दिनों में बीजेपी बनाम सेना का ये विवाद किस दिशा में जाएगा, इस बारे में अभी कुछ कहना मुश्किल है.

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    BBC Hindi
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Why are army and BJP leaders in Kashmir face-to-face

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X