सड़क पर घायल गाय को बचाने के लिए दो मुस्लिम युवक बने गौ रक्षक

Written By:
Subscribe to Oneindia Hindi

भटिंडा। देशभर में गौरक्षक गाय की सुरक्षा को लेकर अलग अभियान चला रहे हैं, ऐसे में तमाम ऐसी भी खबरें सामने आई जिसमें कथित गौरक्षकों ने सरेआम लोगों की पिटाई भी की, लेकिन भटिंडा में दो मुस्लिम गौ रक्षक सही मायने में गाय की रक्षा के लिए आगे आए और उन्होंने इसकी नई शुरुआत की है।

cow

सड़क पर घायल गाय की मदद के लिए आगे आए

मलेरकोटला में शमशुद्दीन चौधरी और उनके दोस्त मुबीन ने एक जख्मी गाय की रक्षा के लिए आगे आए, जब व दिसंबर की कड़ाके की सर्दी में सड़क पर पड़ी थी। शनिवार को जब चौधरी अपनी गाड़ी से जा रहे थे तभी उन्होंने सड़क पर गाय को रोड़ पर गिरा देखा जहां उसके शरीर से खून बह रहा था। चौधरी ने बताया कि ऐसा लग रहा था कि किसी तेज आते वाहन ने कार को टक्कर मार दी थी, जिसके बाद मैंने मुबीन को बुलाया।

एसडीएम ने की मदद

शमशुद्दीन ने गाय की मदद के लिए अपने दोस्त मुबीन को बुलाया और फिर दोनों ने गाय की मदद के लिए पुलिस को फोन किया। चौधरी ने बताया कि हमने कई बार फोन किया लेकिन हमें तत्काल की भी तरह का जवाब नहीं मिला तो हमने मलेरकोटला के एसडीएम शौकत अहमद को फोन किया। उन्होंने बताया कि एसडीएम ने हमारा फोन उठाया और गाय को बचाने में हमारी मदद की। आपको बता दें कि पंजाब के मालेरकोटला का इलाका मुस्लिम बाहुल्य इलाका है। यह प्रदेश का इकलौता मुस्लिम बाहुल्य इलाका है। यही नहीं 1962 से आजतक यहां हमेशा से ही मुस्लिम विधायक रहा है।

इसे भी पढ़े- 'भारत में राज करना है तो बीफ को छोड़ना होगा'

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Two muslim boys turn Gau Rakshak in Bhatinda to save a cow. Both helped to rescue injured cow on the street.
Please Wait while comments are loading...