• search

सोनपुर मेलाः चंद्रगुप्त मौर्य भी यहां से हाथी घोड़ा ख़रीदा करते

Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    हर तरफ़ रंगीन एलईडी लाइटों से सजी दुकानों की क़तारें, बड़े-बड़े सरकारी और ग़ैर-सरकारी होर्डिंग्स लगे काउंटर, खाने-पीने, गाने बजाने और मनोरंजन के पुख्ता इंतज़ाम और लोगों की अच्छी खासी भीड़.

    लेकिन पशुओं की ख़रीद बिक्री के लिए बनाए गए टेंटों चारों तरफ़ सन्नाटा पसरा हुआ नज़र आता है. कभी देश और दुनिया के कोने-कोने से आए पशु इस मेले का मुख्य आकर्षण हुआ करते थे.

    इन दिनों बिहार में विश्व प्रसिद्ध हरिहर क्षेत्र में सोनपुर मेला की. दो नवम्बर से तीन दिसम्बर तक चलने वाले एशिया के इस सबसे बड़े पशु मेले की शुरुआत हर साल कार्तिक पूर्णिमा के दिन से होती है. बिहार के पर्यटन विभाग की बुकलेट के अनुसार, कभी चंद्रगुप्त मौर्य भी यहां से हाथी घोड़ा ख़रीदा करते थे.

    बाद के दौर में मुगलों और अंग्रेज़ी शासन ने भी बढ़ावा दिया और यहां एक इंग्लिश बाज़ार भी शुरू कराया, जिसमें यूरोप से आने वाले व्यापारी ठहरा करते थे.

    लेकिन अब ये रौनक ख़त्म सी हो गई है.

    करीब बीस वर्षों से मेले में आ रहे गाय-भैंस व्यापारी रंजीत राय कहते हैं, "एक समय यहां पचास हज़ार तक मवेशी आया करते थे. देश के अधिकतर हिस्सों से सैंकड़ों पशु व्यापारी और खरीदार आया करते थे, लेकिन पिछले दो सालों में धंधा पूरी तरह चौपट हो गया."

    सुप्रीम कोर्ट की रोक के बाद पशु व्यापार बहाल

    यहां पशुओं को देखने जुटती है भीड़

    सोनपुर
    ATHAR IMAM KHAN/BBC
    सोनपुर

    गोरक्षक दलों का डर

    रंजीत आगे रहते हैं, "खास तौर से पिछले कुछ सालों में कड़े सरकारी नियम, गोरक्षा दल की सक्रियता और नोटबंदी के कारण हालात और बुरे हो गए हैं. असम और बंगाल से आने वाले मुस्लिम पशु खरीदारों ने तो आना ही बंद ही कर दिया है, साथ ही बिहार और उत्तर प्रदेश के अन्य जिलों से आने वाले स्थानीय खरीदारों ने भी ट्रांस्पोर्टेशन के दौरान गोरक्षा दलों की चेकिंग और पशु छीन लिए जाने के डर से आना बंद कर दिया."

    एक अन्य पशु व्यापारी झीमी लाल कहते हैं, "पिछली सरकारों के समय हमें काफ़ी सहूलियतें मिलती थीं जैसे-खाना बनाने के लिए केरोसिन, लकड़ी वगैरह. मेले के दौरान भी मुख्यमंत्री एवं अन्य मंत्री निरीक्षण करने आ जाया करते थे. लेकिन आज हाल यह हो गया है कि पांच दिनों से एक भी सौदा नहीं कर पाया हूं."

    सारण के ज़िला अधिकारी हरिहर प्रसाद का कहना है कि 'व्यापार में आई इस गिरावट की वजह तकनीकी का विकास और लोगों के जीवन शैली में आया बदलाव है. साथ ही वाइल्ड लाइफ़ से संबंधित क़ानूनी बाध्यताओं की वजह से भी अन्य राज्यों से पशु मेले में नहीं आ पा रहे हैं.'

    'राजस्थान के अलवर में मुस्लिम परिवार की 51 गाय पुलिस ने छीनीं'

    तस्वीरों में सोनपुर मेला

    सोनपुर पशु बाज़ार
    ATHAR IMAM KHAN/BBC
    सोनपुर पशु बाज़ार

    सिर्फ़ 38 गाय और 67 भैंसें बिकीं

    उनके अनुसार, "ट्रैक्टर आ जाने की वजह से बैलों की उपयोगिता समाप्त हो गई है. हालांकि सरकार इस मेले को पूरा सहयोग दे रही है, उप-मुख्यमंत्री भी मेले की देख रेख करने आए हुए थे."

    पशुपालन विभाग के अनुसार, अब तक केवल 38 गायों और 67 भैंसों की बिक्री हुई है, जबकि मेला अब अपने आख़िरी पड़ाव पर है.

    सोनपुर के पशु चिकित्सा प्रभारी डा. दीपक कुमार कहते हैं, "पिछले साल की तुलना में इस वर्ष हालात बेहतर हैं, वर्ष 2016 में नोटबंदी की वजह से पशु मेला काफ़ी प्रभावित हुआ था."

    जबकि विभाग के 2016 के आंकड़ों के अनुसार, उस दौरान केवल 45 गायों और 10 भैंसों की बिक्री हुई थी. हालांकि उससे पीछे के आंकड़ों में भी कोई बहुत बड़ा अंतर नहीं दिखता.

    पेशे से वकील स्थानीय निवासी रवि भूषण का कहना है, "परंपरा रही है कि मेले का उद्घाटन राज्य के मुख्यमंत्री किया करते थे और इसका समापन राज्यपाल के हाथों होता था. लेकिन नीतीश कुमार के आने के बाद यह परंपरा क़रीब-क़रीब ख़त्म हो गई."

    ग्राउंड रिपोर्ट: भारत की गाय, बांग्लादेश जाए?

    सोनपुर मेला में पसरा हुआ है सन्नाटा

    सोनपुर पशु बाज़ार
    ATHAR IMAM KHAN/BBC
    सोनपुर पशु बाज़ार

    पशु मेले में पशु नदारद

    स्थानीय पत्रकार शंकर सिंह कहते हैं, "अब स्थापित परम्पराएं भी टूट रही हैं जैसे पशु दौड़, पुलिस महानिदेशक द्वारा बहादुरी पुरस्कार वितरण समारोह वगैरह. अब तो मेले में पशु कम और बहुराष्ट्रीय कंपनियों के स्टाल ज़्यादा हैं. जहां से एसयूवी, कार और बाइक ख़रीदे जा सकते हैं."

    शंकर सिंह आगे कहते हैं, "पहले मेले में वैसी चीज़ें मिलती थीं जो आम दिनों के दौरान बाज़ारों में उपलब्ध नहीं होती थीं, लेकिन अब मेले का स्वरूप ही बदल गया है. मेले में कार और बाइक बिक़ रहे हैं, जिन्हें आम दिनों में कहीं से भी ख़रीदा जा सकता है."

    पर्यटक सूचना केंद्र में अधिकारी एसके वर्मा का कहना है, "मेले में अब पहले वाली बात नहीं रही, हाथी, घोड़ा, गाय, बैल और भैंस जो कभी इस मेले का मुख्य आकर्षण हुआ करते थे अब नहीं के बराबर नज़र आते हैं, इस साल से पक्षियों के ख़रीद बिक्री पर भी रोक लगा दी गई है."

    मिलिए भैंसों के 'विक्की डोनर' से

    चलते हैं पुष्कर...ऊंटों के मेले में

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    BBC Hindi
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Sonpur Mela Chandragupta Maurya also purchases elephant horse from here

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X