• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

सत्येंद्र जैन ने ICAR की रिपोर्ट को मानने से किया इनकार, बोले- कोरोना के इलाज में प्लाज्मा थेरेपी मददगार, मैं भी ठीक हुआ

|

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में एक बार फिर से कोरोना वायरस के नए मामलों में रिकॉर्ड तेजी दर्ज की गई है। गत बुधवार यहां एक दिन में 4039 नए केस सामने आए। इस बीच इंडिया काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च की एक स्टडी में कोरोना वायरस के इलाज के लिए प्लाज्मा थेरेपी पर सवाल उठाए जाने के बाद दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा, कोरोना से बचाव में प्लाज्मा थेरेपी बहुत ही मददगार है, उन्हें इसलिए इसके बारे में पता है क्योंकि वह खुद इस थेरेपी से ठीक हुए हैं।

कोरोना वैक्सीन: ऑक्सफोर्ड ही नहीं, ये 6 वैक्सीन भी पहुंच चुकी हैं थर्ड फेज के ट्रायल में

Satyendar Jain said plasma therapy is effective in the treatment of coronavirus

गौरतलब है कि दिल्ली में कोरोना वायरस के इलाज के लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कई अस्पतालों में प्लाज्मा थेरेपी की शुरुआत की थी। उन्होंने खुद लोगों से आग्रह किया था कि वह अपना प्लाज्मा डोनेट करें। अब इसी थेरपी को लेकर सवाल खड़े किए जा रहे हैं। दरअसल, भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद यानी आईसीएआर द्वारा किए गए अध्ययन में पता चला है कि कांस्टेलेसेंट प्लाज्मा (CP) थेरेपी के इलाज से कोरोना रोगियों के इलाज में कोई खास लाभ नहीं मिलता है और न ही इस थेरेपी ने रोगियों की मृत्यु दर को कम करने में खास योगदान किया है। यह खुलासा आईसीएआर द्वारा फंडेड मल्टी सेंट्रिक अध्ययन में किया गया है। इस अध्ययन के परिणाम को प्री मिंट मेड्रिक्सव में प्रकाशित किया गया है।

    ICMR Study: Plasma Therapy COVID-19 के मरीज़ के लिए कारगर नहीं! | वनइंडिया हिंदी

    कोरोना के चलते लोकसभा की दर्शक दीर्घा में बैठेंगे 172 सांसद, ऑनलाइन माध्यम से पूछे जाएंगे सवाल

    12 अगस्‍त को रूस से आ रही है पहली कोरोना वायरस वैक्‍सीन, जानिए इसके बारे में सबकुछ

    दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने आईसीएआर की रिपोर्ट को पूरी तरह से खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा, दिल्ली सरकार गंभीर मामलों में इस तरीके का इस्तेमाल करती रहेगी। राजधानी में अब तक 1000 से अधिक लोगों को प्लाज्मा दिया जा चुका है और कई मरीज इससे ठीक भी हुए हैं। मुझे ये इसलिए भी पता है क्योंकि मैं भी इससे ठीक हुआ हूं। बता दें कि सत्येंद्र जैन इसी वर्ष जून में कोरोना वायरस संक्रमण की चपेट में आ गए थे, उन्हें अस्पताल में भी भर्ती होना पड़ा था। इस दौरान उनकी हालत काफी बिगड़ गई थी जिसके बाद स्वास्थ्य मंत्री को प्लाज्मा थेरेपी दिया गया था।

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Satyendar Jain refused to accept ICAR report said - plasma therapy is effective in the treatment of coronavirus
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X