• search
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

    सत्या का कल्लू मामा बनकर तारीफ मिली, काम नहीं: सौरभ शुक्ला

    By Bbc Hindi
    सत्या का कल्लू मामा बनकर तारीफ मिली, काम नहीं: सौरभ शुक्ला

    अभिनेता सौरभ शुक्ला का कहना है कि सत्या फ़िल्म में यादगार भूमिका निभाने के बाद भी उन्हें अच्छा काम मिलने और पहचान बनाने के लिए दस साल लंबा इंतज़ार करना पड़ा था.

    सौरभ शुक्ला ने फ़िल्म सत्या में कल्लू मामा की भूमिका निभाई थी.

    वो सत्या के अलावा बैंडिट क्वीन, ताल, हे राम, जॉली एलएलबी, पीके और हाल में रिलीज़ हुई रेड जैसी फ़िल्मों से अपने अभिनय का लोहा मनवा चुके हैं.

    बॉलीवुड में समझौते करने पड़ते हैं: सनी लियोनी

    #MeToo: बॉलीवुड में यौन शोषण क्यों है हक़ीक़त?

    बॉलीवुड में एक्सपेरिमेंट नहीं किया जाता

    बीबीसी से ख़ास बातचीत में सौरभ शुक्ला ने बताया, "मैं दिल्ली से मुंबई आया. मैं पहले नाटक किया करता था. नाटक की सबसे अच्छी बात ये है कि आप कभी टाइपकास्ट नहीं होते हैं लेकिन बॉलीवुड फ़िल्म इंडस्ट्री एक ऐसी फैक्ट्री है जहां आप पर एक्सपेरिमेंट नहीं किया जाता."

    वो आगे कहते हैं, "मैं ये बात अच्छी तरह जानता था कि मेरा जिस तरह का रंग रूप है, मैं जिस कद काठी का हूँ मुझे कॉमेडी फ़िल्मों में ही सबसे पहले घसीटा जाएगा. इसलिए मैं पहले से ही सतर्क था और हमेशा सोच समझ कर ही फ़िल्में चुनना पसंद करता था."

    वो आगे कहते हैं, "ये जानकर हैरानी होगी कि सत्या में कल्लू मामा का किरदार निभाने के बाद मैं जो चाह रहा था वो नहीं मिला. मुझे पूरे 10 साल इंतज़ार करना पड़ा, ये दस साल मेरे लिए बहुत मुश्किल भरे थे. लोग मेरे काम की तारीफ़ करते रहे लेकिन मिलता कुछ भी नहीं था."

    वो आगे कहते हैं, "मेरे लिए दूसरी नई पारी आई 2012 में फ़िल्म बर्फी से. फिर आई जॉली एलएलबी और उसके बाद से मुझे कई मौके मिले. मुझे ख़ुशी है कि लोगों को मेरा काम पसंद आ रहा है और मैं कई महत्वपूर्ण फ़िल्मों का हिस्सा बन रहा हूँ."

    सेक्स कॉमेडी से नाराज़गी

    कई कॉमेडी फ़िल्मों का हिस्सा बन चुके सौरभ शुक्ला को सेक्स कॉमेडी फ़िल्मों में काम करने से एतराज़ है.

    वो कहते हैं, "मैं सेक्स के ख़िलाफ़ नहीं हूं. मेरा मानना है कि सेक्स के बारे में खुलकर बातें होनी चाहिए. सेक्स कोई बुरी चीज़ नहीं है. लोगों को इस बारे में बहुत सहज तरीके से बात करनी चाहिए लेकिन मुझे कोई भी चीज़ छिछोरे तरीके से पेश करना पसंद नहीं है."

    वो कहते हैं, "कोई भी बात कहने से पहले उसके बारे में नहीं सोचना मुझे ये बात कतई नापसंद है और कुछ सेक्स कॉमेडी फ़िल्मों में कुछ ऐसा ही होता है. ये सेक्स कॉमेडी जैसे आइडिया बहुत तुच्छ लगते हैं इसलिए न तो इसके बारे में बात करता हूँ और ना ही ऐसी फ़िल्मों में काम करना पसंद करता हूँ."

    सौरभ शुक्ला इन दिनों अपनी आने वाली फ़िल्म 'अभी तो पार्टी शुरू हुई' में व्यस्त हैं. इस फ़िल्म की शूटिंग लखनऊ में चल रही हैं.

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    BBC Hindi
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Satyas Kalu Mama was praised as a work not work Saurabh Shukla

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X