• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

अमेरिका की मदद के लिए आगे आया रूस, मेडिकल सामग्री के साथ वाशिंगटन पहुंचा रूसी विमान!

|

बंगलुरू। वर्तमान में जानलेवा कोरोना वायरस से सर्वाधिक त्रस्त अमेरिका को महामारी में मदद के लिए बुधवार को एक रूसी सैन्य विमान वाशिंगटन पहुंचा। मॉस्क और जरूरी मेडिकल सामग्री से लैस रूसी विमान बुधवार को मास्को के बाहर एक हवाई क्षेत्र से उड़ान भरने के बाद वाशिंगटन पहुंचा है।

us

गौरतलब है रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने गत सोमवार को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ फोन पर बातचीत में रूसी मदद की पेशकश की थी। इस दौरान दोनों नेताओं ने पूरी दुनिया में 44,000 से अधिक लोगों की मौत के जिम्मेदार घातक वायरस के खिलाफ लड़ाई पर गंभीर चर्चा की थी।

यहां कोरोना वायरस शब्द के इस्तेमाल पर ही लगा दिया है प्रतिबंध, जानिए क्या है पूरा मामला?

trump

रूसी रक्षा मंत्रालय के सौजन्य वाशिंगटन पहुंचे रूसी विमान को लेकर ट्रम्प के कुछ आलोचकों के नाखुश होने की संभावना बढ़ गई है, जिन्होंने अमेरिका को पुतिन से अपनी दूरी बनाए रखने का अपील की थी। उनका तर्क है कि मॉस्को अपने प्रभाव को आगे बढ़ाने के लिए एक भू-राजनीतिक और प्रचार उपकरण के रूप में इस तरह की सहायता का उपयोग करता है। हालांकि क्रेमलिन इससे इनकार करता है।

us

क्रेमलिन के प्रवक्ता दिमित्री पेसकोव ने मंगलवार रात इंटरफैक्स समाचार एजेंसी के हवाले से कहा है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कृतज्ञतापूर्वक इस मानवीय सहायता को स्वीकार किया, है। उन्होंने बताया कि पुतिन के साथ फोन पर हुई बातचीत में ट्रम्प ने खुद रूसी मदद के बारे में उत्साह से बात की थी।

us

जर्मनी एक लाख नागरिकों का कराएगा COVID-19 एंटीबॉडी टेस्ट, जानिए क्या है मामला?

गौरतलब है रूस के रोसिया 24 चैनल ने गत बुधवार को मेडिकल उपकरणों से लैस रूसी विमान को अंधरे में मास्को के एक सैन्य एयरबेस से उड़ान भरते हुए दिखाया था, जिसका कार्गो होल्ड कार्डबोर्ड बॉक्स और अन्य पैकेजों से भरा हुआ था।

us

उल्लेखनीय है अमेरिका में कोरोना वायरस महामारी से संक्रमित मामलों की संख्या अबतक लगभग 189,000 तक पहुंच गई है और कोरोना वायरस के कारण अमेरिका में कुल 4,000 लोगों की मौत हो चुकी है।

कोरोना संकटः अमेरिका ने ईरान परमाणु प्रतिबंधों में छूट को 60 दिनों के लिए विस्तार दिया

अधिकारियों का कहना है कि रूस के कोरोना वायरस मामलों की आधिकारिक आंकडा गत बुधवार को बढ़कर 2,777 हो गई है। रूस में अकेले बुधवार को यानी एक दिन में 440 नए मामले सामने आए हैं। रूस में अब तक चौबीस लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि कुछ डॉक्टरों ने दिए गए आंकड़े की सटीकता पर सवाल उठाया है।

us

चूंकि मास्को और वाशिंगटन के बीच संबंध हाल के वर्षों में सीरिया से यूक्रेन तक चुनाव हस्तक्षेप में तनावपूर्ण रहे हैं, हालांकि रूस कुछ इनकार करता है।

रूसी राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन के प्रवक्ता पेसकोव ने कहा है कि मॉस्को ने उम्मीद की है कि समय आने पर अमेरिका रूस को चिकित्सा सहायता प्रदान करने में सक्षम हो सकता है, लेकिन यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि जब अमेरिकी सहयोगियों को सहायता प्रदान करते हैं, तो राष्ट्रपति यह मानते हैं कि जब अमेरिकी चिकित्सा उपकरण और सामग्री के निर्माता की स्थिति में सुधार होगा, तो वे भी जरूरत पड़ने पर मदद के लिए आगे आएंगे।

us

कोरोना महामारीः जानिए कैसे आता है और कैसे जाता है वायरस का संकट?

पेसकोव ने कुछ अमेरिकी अधिकारियों द्वारा की आलोचना को अमेरिका को मदद के लिए भेजी गई सुस्ती के लिए जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने शिकायत करते हुए कहा था कि रूस और चीन ने समान तरीके से सहयोग किया, क्योंकि मौजूदा स्थिति बिना किसी अपवाद के सभी को प्रभावित करती है। दोनों राष्ट्रों को एक साथ साझेदारी और आपसी सहायता की भावना में काम करने का कोई विकल्प नहीं है।

us

खुद ट्रम्प ने इस सप्ताह की शुरुआत में कहा था कि रूस ने हमें बहुत बड़ी, बहुत बड़ी चिकित्सा उपकरण भेजे, जो बहुत अच्छा था।"

COVID-19: अमेरिका में कोरोना से हो सकती है 80,000 से अधिक की मौत?

रूस ने कोरोनो वायरस के प्रसार से मदद के लिए इटली को भी सहायता भेजने के लिए अपनी सेना का इस्तेमाल किया था, जब यूरोपीय संघ का एक सदस्य संकट में था और उसे त्वरित मदद की जरूरत थी, जिसने पुतिन को देश और विदेश में सार्वजनिक प्रचार का मौका दे दिया था।

us

मास्को ने कहा कि इटली के लिए भेजी गई सहायता के साथ 100 वायरस विशेषज्ञ शामिल थे, जो इबोला और स्वाइन बुखार से निपटने के अनुभवी थे, लेकिन इतालवी मीडिया ने बताया है कि वायरस के खिलाफ लड़ाई में यह उपयोगी नहीं था।

कोरोनो से डाक्टर भी सुरक्षित नहीं, फिलीपींस में अब तक 9 डॉक्टरों की ले चुकी है जान!

पिछले महीने, रूस ने कहा कि उसने पूर्व सोवियत राज्यों और ईरान और उत्तर कोरिया सहित देशों में लगभग 1,000 कोरोनवायरस परीक्षण किट भेजे।

us

मॉस्को के अधिकारियों ने कोरोना वायरस के कारण होम आइसोशन का आदेश देने वाले लोगों पर नजर रखने के लिए डिज़ाइन किए एक स्मार्टफोन ऐप का अनावरण किया है। रूस ने बुधवार 460 नए मामले आने के बाद महामारी के फैलाव वाले क्षेत्र को कवर करने के लिए क्षेत्रीय लॉकडाउन का विस्तार भी किया है। हालांकि एडुआर्ड लिसेंको नामक एक अधिकारी एको मोस्किवी ने एक रेडियो स्टेशन को बताया कि ऐप अभी भी परीक्षण चरण में है।

चीन के वुहान में जीरो पर पहुंचा कोरोना संक्रमण, दो दिन में नहीं आया कोई नया मामला!

us

लिसेंको ने बताया कि मास्को भी एक शहर-व्यापी क्यूआर-कोड प्रणाली को रोल आउट करने की तैयारी कर रहा है, जहां ऑनलाइन पंजीकरण करने वाले प्रत्येक निवासी को एक अनूठा कोड सौंपा जाएगा। लॉकडाउन के दौरान यदि दुकानों या फार्मेसी में जाने पर रोक दिया जाता है, तो पुलिस अधिकारियों को लोग क्यूआर-कोड दिखा सकते हैं।

us

मालूम हो, आठ दक्षिणी रूसी क्षेत्रों ने बुधवार को मास्को में इसी तरह के लॉकडाउन उपाय किए है, जिसका अर्थ है रूस के 80 से अधिक क्षेत्रों में से 60 से अधिक क्षेत्र अब आंशिक लॉकडाउन की स्थिति में हैं।

एक छोटी गलती और कोरोना वायरस की सबसे बड़ी शिकार बन गई इटली, क्या थी वह गलती?

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Russian President Vladimir Putin offered Russian help in a phone conversation with President Donald Trump on Monday. During this time, the two leaders had a serious discussion on the fight against the deadly virus responsible for the deaths of over 44,000 people all over the world. Trump gave an open statement on Russian help, saying that Russia sent us very large, very large medical equipment, which was very good. "
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X