• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Covid-19: एम्स में शुरू हुआ भारत बायोटेक की Covaxin वैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रायल

|

नई दिल्ली। स्वदेशी रूप से विकसित की जा रही एंटी-कोरोना वायरस वैक्सीन कोवाक्सिन का तीसरे चरण का ह्यूमन ट्रायल गुरुवार को एम्स में शुरू हो गया। एम्स के न्यूरोसाइंसेस सेंटर के चीफ डॉ एमवी पद्म श्रीवास्तव और तीन अन्य वॉलिंटियर को आज पहला डोज देकर तीसरे चरण का ट्रायल शुरू हो गया। भारतीय चिकित्सा परिषद(आईसीएमआर) के सहयोग से भारत बायोटेक द्वारा 'कोवाक्सिन' विकसित किया जा रहा है।

    Coronavirus Vaccine: AIMS में शुरू हुआ Covaxin के तीसरे चरण का Trial | वनइंडिया हिंदी
    एम्स में लगभग 15,000 वॉलिंटियर को वैक्सीन के डोज दिए जाएंगे

    एम्स में लगभग 15,000 वॉलिंटियर को वैक्सीन के डोज दिए जाएंगे

    सूत्रों ने कहा कि डॉ श्रीवास्तव ऐसे पहले शख्स हैं जिन्हें वैक्सीन के तीसरे चरण के लिए डोज दिया गया है। अगले कुछ दिनों में एम्स में लगभग 15,000 वॉलिंटियर को वैक्सीन के डोज दिए जाएंगे। 0.5 मिलीलीटर इंट्रामस्क्युलर इंजेक्शन की पहली खुराक चार स्वयंसेवकों को दी गई है। सूत्र ने कहा कि वे दो घंटे तक निगरानी में रहे और अगले कुछ दिनों तक उन पर नजर रखी जाएगी।

    28 दिनों तक 0.5 मिली का डोज दिया जाएगा

    28 दिनों तक 0.5 मिली का डोज दिया जाएगा

    इसे लेकर जब डॉ श्रीवास्तव से बात की गई तो उन्होंने कहा कि, कोवाक्सिन पहला स्वदेशी रूप से विकसित एंटी-कोरोनावायरस वैक्सीन है। मेरा संस्थान परीक्षण में भाग ले रहा है। मैं शॉट प्राप्त करने वाले पहले स्वयंसेवक के रूप में सम्मानित महसूस कर रहा हूं। मुझे खुशी है। इस तरह के एक महान कारण का एक हिस्सा हो। मैं पूरी तरह से ठीक हूं और मैं काम कर रहा हूं। सूत्रों ने कहा कि, ट्रायल में भाग ले रहे वॉलिंटियर को 28 दिनों तक 0.5 मिली का डोज दिया जाएगा।

    डीसीजीआई से मिली अनुमति

    डीसीजीआई से मिली अनुमति

    चरण-तीन रैंडमाइज्ड डबल-ब्लाइंड प्लेसबो-नियंत्रित मल्टी-सेंटर परीक्षण 18 वर्ष और उससे अधिक आयु के लगभग 28,500 लोगों को कवर करेगा। यह 10 राज्यों में लगभग 25 साइटों में आयोजित किया जाएगा। कुछ साइटों पर परीक्षण शुरू हो चुका है। भारत बायोटेक को डीसीजीआई से कोवाक्सिन के चरण -3 मानव नैदानिक ​​परीक्षणों के संचालन की अनुमति दी गई है।

     चार अन्य टीके भारत में क्लिनिकल परीक्षण के विभिन्न चरणों में हैं

    चार अन्य टीके भारत में क्लिनिकल परीक्षण के विभिन्न चरणों में हैं

    हैदराबाद स्थित फर्म ने चरण-तीन के परीक्षण के लिए आवेदन करते हुए कहा कि टीका सभी खुराक समूहों में अच्छी तरह से सहन किया गया था और किसी भी गंभीर प्रतिकूल घटनाओं की सूचना नहीं दी गई है। सूत्रों ने कहा कि, सबसे आम प्रतिकूल घटना इंजेक्शन स्थल पर दर्द था, जिसे क्षणिक रूप से हल किया गया था। इसके अलावा, कोवाक्सिन, चार अन्य टीके भारत में क्लिनिकल परीक्षण के विभिन्न चरणों में हैं। डॉ रेड्डी की प्रयोगशालाएँ जल्द ही भारत में रूसी COVID-19 वैक्सीन स्पुतनिक वी के संयुक्त चरण दो और तीन नैदानिक ​​परीक्षण शुरू करेंगी।

    एक फोन कॉल लालू यादव पर पड़ गया भारी, अब चुकाना होगा किराया भी

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    phase three human clinical trial of anti coronavirus vaccine candidate Covaxin began at AIIMS
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X