• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

1300 कोविड पीड़ितों के शवों का अंतिम संस्‍कार करने वाले कोरोना योद्धा की दवाओं के अभाव में हुई मौत

|

नागपुर, 5 जून: कोरोना महामारी की दूसरी लहर में जब अपनी लोग संक्रमण के डर से अपनों के अंतिम संस्‍कार तक में शामिल नहीं हो रहे थे वहीं नागपुर में 67 वर्षीय ने अपनी जान की परवाह किए बगैर 1300 कोरोना पीडि़तों के शवों का अंतिम संस्‍कार किया। जिन्‍हें एक महीने पहले नागपुर मेयर द्वारा कोरोना योद्धा के तौर पर सम्‍मानित किया गया था उसी 67 वर्षीय चंदन निमजे को कोरोना होने पर समय पर इलाज और इजेक्‍शन न मिलने पर दम तोड़ दिया।

pic

बता दें नागपुर मेयर चंदन निमजे को एक माह पहले 'कोरोना योद्धा' के रूप में सम्मानित किया था। हालांकि, मई की शुरुआत में जब चंदन निमजे को कोविड पॉजिटिव पाए गए थे जिसके बाद अस्पताल में बेड की जरूरत पड़ी तो किसी ने भी उन्हें सरकारी अस्पताल में बिस्तर दिलाने में मदद नहीं की। अंत में, थक हार कर उनके परिवार ने एक निजी अस्पताल में एक बड़ी कीमत अदा कर भर्ती करवाया , लेकिन उस दयालु आत्मा को नहीं बचा सके, जो एक महीने तक बीमारी से लड़ने के बाद 26 मई को मौत हो गई।

सेवानिवृत अधिकारी को नहीं मिला सराकारी अस्‍पताल में बेड

निमजे स्वयंसेवकों के एक समूह के साथ काम कर रहे थे, अपनी जान जोखिम में डालकर, जब पिछले डेढ़ वर्षों में परिवार के करीबी सदस्यों सहित कोई भी शवों के साथ जाने के लिए तैयार नहीं था उस समय लोगों की मदद की और शवों का अंतिम संस्‍कार करवाया। फिर, केंद्र सरकार के सचिव स्तर के अधिकारी के रूप में सेवानिवृत्त हुए निमजे को कोविद -19 बीमारी हो गई उन्हें और उनके परिवार को बिस्तर पाने में बहुत परेशानी का सामना करना पड़ा, और फिर टोसीलिज़ुमैब इंजेक्शन, जिसके कारण अंततः उनकी मृत्यु हो गई।

प्राइवेट अस्‍पताल में खत्‍म हो गई पूरी जमा पूंजी

निमजे के इलाज में उनकी सारी बचत समाप्त हो जाने के कारण उनका परिवार तंगहाल हो चुका है। उनके दोनों छोटे बेटे भी महामारी के कारण अपनी नौकरी खो चुके हैं। अरविंद रताउदी ने कहा, जिन्होंने निमजे के साथ मिलकर काम किया था उन्‍होंने कहा "हमने न केवल वित्तीय मदद के लिए, बल्कि बिस्तर और दवाओं के लिए भी सभी से संपर्क किया, लेकिन किसी ने कोई जवाब नहीं दिया। हमने नागपुर नगर निगम (एनएमसी) के आयुक्त, कलेक्टर और अन्य शीर्ष अधिकारियों से संपर्क किया, लेकिन किसी ने भी उस व्यक्ति की मदद नहीं की।

परिवार मदद मांगता रहा लेकिन किसी ने नहीं की मदद

माना जाता है कि वरिष्ठ नागरिक, जिसे प्यार से 'दादा' कहा जाता है, के बारे में माना जाता है कि जब वह अपनी पत्नी के साथ टीके की पहली खुराक के लिए गए थे जिसके बाद उन्‍हें कोरोना हुआ। अगले दिन उन्हें हल्का बुखार आया और फिर उनकी बहन, दो बेटों और पत्नी सहित उनके पूरे परिवार में भी लक्षण दिखने लगे। सभी पांचों ने सकारात्मक परीक्षण किया, लेकिन अप्रैल के अंतिम सप्ताह में निमजे की तबीयत बिगड़ने लगी। रतौदी और उनके स्वयंसेवकों ने अस्पताल के बिस्तर की तलाश शुरू कर दी। रतौदी ने कहा"एक अस्पताल में, हमें 1 लाख रुपये नकद जमा करने के लिए कहा गया। उन्होंने हमारे डेबिट कार्ड का इस्तेमाल करने से मना कर दिया। फिर दादा के कहने पर हम उन्हें वापस घर ले गए। 5 मई को, हमने उसे रामदासपेठ के एक अस्पताल में भर्ती कराया, जो डिजिटल भुगतान स्वीकार करने के लिए सहमत हो गया"।

रतौदी को नहीं मिला इंजेक्‍शन

रतौदी ने बताया उसके अस्पताल ने उसके परिवार को टोसीलिज़ुमैब की व्यवस्था करने के लिए कहा, जिसकी लागत 45,000 रुपये थी। निमजे के परिवार के सदस्यों के साथ शहर में KCYF कार्यकर्ताओं ने बहुत कोशिश की, लेकिन इंजेक्‍शन 1.45 लाख रुपये में ब्लैक में उपलब्ध था।"मैंने व्यक्तिगत रूप से कलेक्टर, एनएमसी प्रमुख और राजनीतिक नेताओं को एक इंजेक्शन की व्यवस्था करने के लिए बुलाया। लेकिन किसी ने फोन नहीं उठाया। दिल्ली में हमारे स्वयंसेवकों में से एक, अर्जुन नाम का, जो दादा को जानता था, ने बिना कोई पैसे मांगे, इंडिगो की उड़ान से टोसीलिज़ुमैब की चार शीशियाँ भेजीं। हालांकि, निमजे की हालत बिगड़ती गई और 26 मई को उनका निधन हो गया। केसीवाईएफ स्वयंसेवकों और उनके परिवार के सदस्यों ने उनका अंतिम संस्कार किया।

कोर्ट में न्‍याय की गुहार लगाएगा परिवार

उन्‍होंने कहा "मैं जल्द ही बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच में मुख्यमंत्री, कलेक्टर और एनएमसी कमिश्नर के खिलाफ लापरवाही के कारण उनकी असामयिक मृत्यु के लिए मामला दर्ज करने जा रहा हूं। अगर हम, अपने हजारों कार्यकर्ताओं के साथ, बूढ़े आदमी के लिए समय पर मदद पाने में विफल रहे, तो अधिकारियों के इस तरह के रवैये के कारण आम नागरिकों की दुर्दशा की कल्पना करें, "केसीवाईएफ के संस्थापक ने कहा इन सबसे ऊपर, निमजे के अंतिम संस्कार के बीच में, एनएमसी के एक अधिकारी ने उनके बेटे को फोन किया, परिवार ने कुछ दवाएं देने की पेशकश की। एक ज़ोन स्तर के अधिकारी ने भी अपने बेटे की मृत्यु के आठ दिन बाद गुरुवार को यह पूछने के लिए फोन किया कि क्या उन्हें वह दवा मिल गई है जो उन्हें चाहिए।

https://hindi.oneindia.com/news/india/646-doctors-dies-in-covid-19-second-wave-says-ima-621795.htmlOneindia (https://hindi.oneindia.com/news/india/646-doctors-dies-in-covid-19-second-wave-says-ima-621795.html)IMA के ताजा आंकड़ों में हुआ खुलासा, कोरोना की दूसरी लहर में देश के अंदर 646 डॉक्टरों ने गंवाई जान

English summary
Nagpur corona warrior died for want of medicines, who cremated 1,300 Covid victims
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X