• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

रेटिंग एजेंसी मूडीज से भारत को झटका, अर्थव्यवस्था के आउटलुक को किया नेगेटिव

|
    Moody's ने Modi Government को दिया एक और झटका | वनइंडिया हिन्दी

    नई दिल्ली। दुनिया की सबसे बड़ी रेटिंग एजेंसी मूडीज ने भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर आउटलुक घटा दिया है। एजेंसी ने अपने आउटलुक यानी नजरिए में भारतीय अर्थव्यवस्था को स्टेबल (स्थिर) से घटनाकर नेगेटिव कर दिया है। इससे पहले अक्टूबर माह में एजेंसी ने 2019-20 में जीडीपी ग्रोथ को घटाकर 5.8 फीसदी बताया था।

    business news, indian economy, moddys, rating agency, gdp rating, indian gdp

    अगर दुनिया की बाकी रेटिंग एजेंसी की बात करें तो फिच और एसएंडपी ने भारतीय आउटलुक को स्थिर रखा है। वहीं मूडीज ने आउटलुक को नेगेटि किए जाने पर कहा है कि पहले के मुकाबल भारतीय अर्थव्यवस्था में अब जोखिम बढ़ गया है। यही आउटलुक को घटाए जाने के पीछे का कारण है।

    इसका क्या असर होगा?

    इसका क्या असर होगा?

    मीडिया रिपोर्ट के अनुसार कैपिटल सिंडिकेट के मैनेजिंग पार्टनर पशुपति सुब्रमण्यम का इस मामले पर कहना है कि एजेंसी के इस फैसले का कोई खास असर नहीं होगा। ऐसा इसलिए क्योंकि अब दुनियाभर की अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेत मिल रहे हैं। उन्होंने कहा कि ब्याज की दरों के घटने के बाद निवेशकों का भरोसा बढ़ा है और शेयर बाजार में भी तेजी देखी गई है। भारत में निवेशक पैसा लगा रहे हैं। अक्टूबर माह में निवेशकों ने करीब 8595.66 करोड़ रुपये लगाए थे। वहीं नवंबर माह में अभी तक 2,806.10 करोड़ रुपये का निवेश किया है।

    पटरी पर लौटेगी भारतीय अर्थव्यवस्था

    पटरी पर लौटेगी भारतीय अर्थव्यवस्था

    इसपर वीएम पोर्टफोलियो के हेड विवेक मित्तल का कहना है कि अगले साल के शुरुआती महीनों में भारतीय अर्थव्यवस्था फिर से पटरी पर लौट आएगी। इस बात के संकेत कंपनियों के तिमाही नतीजों में मिल भी रहे हैं। जुलाई से सितंबर के बीच कंपनियों का प्रदर्शन अनुमान से भी अच्छा रहा है। ऐसे में घेरलू बाजार पर रेटिंग घटाने से कोई खास असर नहीं पड़ने वाला।

    किन चीजों पर चिंता जाहिर की?

    किन चीजों पर चिंता जाहिर की?

    मूडीज ने रेटिंग के बारे में जानकारी देते हुए कुछ चीजों पर चिंता भी जारी की है। एजेंसी ने कहा है कि आर्थिक मंदी को लेकर चिंता लंबे समय तक बनी रह सकती हैं और कर्ज में भी बढ़ोतरी हो सकती है। बता दें मूडीज से रेटिंग देने की शुरुआत साल 1909 में जॉन मूडी ने की थी। जिसका उद्देश्य निवेशकों को एक ग्रेड देना है, ताकि मार्केट में उसका क्रेडिट बन सके। मूडीज कॉर्पोरेशन मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस की पेरेंट कंपनी है, जो क्रेडिट रेटिंग और रिसर्च का काम करती है।

    अपनी सेहत को लेकर बोले अमिताभ बच्चन, 'डॉक्टरों ने काम नहीं करने की सलाह दी'

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    rating agency moodys lowers indias outlook from stable to negative on economy.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X