• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

73 साल के ये डॉक्टर असल मायने में हैं 'भगवान', रोजाना 10 KM साइकिल चलाकर घर-घर जाकर कर रहे गरीबों का इलाज

|

मुंबई। डॉक्टर को "धरती के भगवान" का दर्जा दिया गया है। मानवता की सेवा करने की वजह से समाज में डॉक्टरों का विशेष सत्‍कार मिलता है। डॉक्टरी ही एक ऐसा प्रोफेशन है जिस पर व्‍यक्ति आंख बंद कर विश्‍वास करता है। कोरोना जैसी महामारी में डाक्‍टरों ने अपनी जान की परवाह किए बिना लोगों का इलाज कर नया जीवन दान दिया है। ऐसे ही एक डाक्‍टर महाराष्‍ट्र के चंद्रपुर जिले के 87 वर्षीय डाक्‍टर रामचंद दावेकर हैं जिन्‍होंने इस कोरोना काल में भी मरीजों की सेवा करके एक बार ये फिर से साबित कर दिया है कि असल मायने में डॉक्टर को "धरती के भगवान" हैं।

घर-घर जाकर गरीबों का इलाज कर रहे हैं

घर-घर जाकर गरीबों का इलाज कर रहे हैं

डाक्‍टर रामचंद दावेकर महाराष्ट्र के चंद्रपुर जिले के होम्‍योपैथी डाक्‍टर हैं जो कोरोना महामारी में भी 87 वर्ष की उग्र में हर दिन 10 किलोमीटर साइकिल चला कर गांवों में जाकर के लोगों के घर-घर जाकर गरीबों का इलाज कर रहे हैं। साइकिल चलाते हुए जब कभी वो थक जाते हैं तो साइकिल को ढकेलते हुए पैदल चलना आरंभ कर देते हैं।

मुंबई के 87 वर्षीय बुजुर्ग, जो बेकार कपड़ों से बैग सिलकर बेचते हैं उनकी फोटो हुई वायरल

60 वर्षों से निरंतर यूं ही कर रहे गरीबों की सेवा

60 वर्षों से निरंतर यूं ही कर रहे गरीबों की सेवा

कोरोना काल में ही नहीं वह पिछले 60 वर्षों से अपनी साइकिल से गांव-गांव जाकर गरीबों के घर जाकर उनका इलाज कर रहे हैं। पिछले 60 वर्षों में बिना नागा किए लगभग रोजाना दूर-दराज के गांवों में जाते हैं और लोगों का इलाज कर उनकी स्‍वस्‍थ्‍य कर रहे हैं। जाड़ा हो या गर्मी या फिर बरसात डाक्‍टर दावेकर हर दिन अपनी साइकिल पर दवाइयों का थैला और अन्‍य जरुरी चिकित्‍सीय सामग्री लेकर हर दिन अपनी साइकिल पर डोर-टू-डोर सर्विस के लिए निकल पड़ते हैं।

अमिताभ बच्‍चन से शख्‍स ने पूछा- आप दान क्यों नहीं करते, तो बिग बी ने दिया ये करारा जवाब

मुझे ऐसा कोई डर नहीं है

मुझे ऐसा कोई डर नहीं है

एक प्रश्‍न के जवाब में डॉक्‍टर रामचंद्र दानेकर ने कहा कि आजकल के कुछ युवा डाक्‍टर इस महामारी में लोगों का इलाज करने से डर रहे हैं लेकिन मुझे ऐसा कोई डर नहीं है। आजकल, युवा डॉक्टर केवल पैसे के पीछे भाग रहे हैं। वे गरीबों की सेवा नहीं करना चाहते। चिकित्‍सक का सबसे बड़ा धर्म मरीजों की सेवा करना है, उन्‍होंने कहा कि वर्तमान समय में चिकित्‍सा क्षेत्र में हमारे देश ने चाहे जितनी तरक्‍की कर ली हो लेकिन गांवों में अभी भी बड़ी संख्‍या में मरीज सही समय पर इलाज न मिल पाने के कारण अपनी जान गंवा देता है। इसलिए युवा डाक्‍टरों को गांवों में गरीबों के इलाज के लिए आगे आना चाहिए। उन्‍होंने कहा कि गरीबों की मुंह से निकली दुआ में जो दम है वो किसी फीस में नहीं।

Indian Railway: रेलवे आपके घर से ट्रेन तक पहुंचाएगी सामान, जानें कैसे मिलेगी ये सुविधा

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Maharashtra Chandrapur doctor Ramchandra Danekar, at the age of 73, cycling 10 km every day to treat a poor patient
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X