तमिलनाडु में लिट्टे चीफ प्रभाकरन का मनाया गया जन्मदिन, खड़ा हुआ नया विवाद

Written By:
Subscribe to Oneindia Hindi

चेन्नई। हाल ही में कर्नाटक में टीपू सुल्तान की जयंती को मनाने को लेकर विवाद खड़ा हुआ था, लेकिन इस बार तमिलनाडु के कोयंबटूर में लिबरेशन टाइगर्स तमिल ईलम के नेता वेलुपिल्लई प्रभाकरन की जयंती को मनाने को लेकर नया विवाद खड़ा हो गया है। प्रभाकरन की 63वीं जयंती को यहां मनाया गया, यह जयंती थंथई पेरियार द्रविड़र कझगम के पार्टी कार्यालय में मनाई गई। 

ltte

जिस तरह से तमिलनाडु में दिनाकरन की जयंती को मनाने के बाद एक बार फिर से तमिल राजनीति को नई हवा मिल सकती है। इससे पहले गत वर्ष श्रीलंका के तमिल बाहुल्य इलाके जाफना शहर के एक विश्वविद्यालय में भी प्रभाकरन की जयंती को मनाया गया था। उस वक्त भी जयंती मनाने के बाद काफी विवाद खड़ा हुआ था। जाफना विश्वविद्यालय के तमाम छात्रों ने विश्वविद्यालय के कैलाशपति सभागार में केक काटकर प्रभाकरन की जयंती को मनाया था।

आपको बता दें कि श्रीलंका के उत्तरी और पूर्वी हिस्सों में अलग तमिल राज्य की मांग को लेकर प्रभाकरन ने लिट्टे की स्थापना की थी। प्रभाकरन की बकायदा एक खुद की सेना थी, उसे राजनीतिक संरक्षण भी प्राप्त था। लंबे समय तक चले गृह युद्ध के बाद प्रभाकरन को 2009 में मार गिराया गया था। ना सिर्फ प्रभाकरन बल्कि उसके बेटे को भी सेना ने मौत के घाट उतार दिया था। भारत ने भी श्रीलंका की प्रभाकरन के खिलाफ लड़ाई में मदद की थी। राजीव गांधी के कार्यकाल के दौरान सैन्य मदद को श्रीलंका में भेजा गया था।

इसे भी पढ़ें- 26/11: मुंबई हमले का जिक्र कर के जेटली ने साधा पाक पर निशाना, कहा- हाफिज सईद की रिहाई के खिलाफ पूरी दुनिया एकजुट

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
LTTE chief Prabhakaran birthday celebrated in Coimbatore sparks controversy. He was killed by Lankan army in 2009.
Please Wait while comments are loading...

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.