• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

लेफ्टिनेंट कर्नल ज्‍योति शर्मा बनीं सेना की पहली महिला एडवोकेट जनरल आफिसर, सेशेल्‍स में होंगी तैनात

|

नई दिल्‍ली। इंडियन आर्मी ने पहली बार किसी लेडी ऑफिसर को फॉरेन मिशन में तैनात किया है। इस तैनाती के साथ ही सेना में एक नए युग की शुरुआत भी हो गई है। सेना में पहली बार किसी महिला न्यायाधीश की नियुक्ति की गई है और लेफ्टिनेंट कर्नल ज्योति शर्मा का नाम इतिहास में शामिल हो गया है। उन्‍हें भारतीय सेना की महिला जज एडवोकेट जनरल अधिकारी के रूप में नियुक्त किया गया है। अभी तक सेना में किसी भी महिला जज की नियुक्ति नहीं की गई थी।

indian-army

विदेश से जुड़ें मामलें देखेंगी ज्‍योति

ज्योति शर्मा सैन्य विधि विशेषज्ञ के रूप में पूर्वी अफ्रीकी देश सेशेल्स की सरकार को सेवाएं देंगी। ज्योति विदेश से जुड़े मामलों को देखेंगी। भारत में जज एडवोकेट जनरल अधिकारी का पद सेना के मेजर जनरल को दिया जाता है। यह सेना के कानूनी और न्यायिक प्रमुख होते हैं। सेना की जज एडवोकेट जनरल एक अलग शाखा है, जिसमें कानूनी रूप से योग्य सेना के अधिकारी शामिल होते हैं। जज एडवोकेट जनरल अधिकारी सभी पहलुओं में सेना को कानूनी मदद प्रदान करते हैं।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Indian Army's first female Judge Advocate General officer to be deployed on a foreign mission in Seychelles.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X