• search

उजाला योजना: बांटे गए 30 करोड़ एलईडी बल्‍ब, जानें देश में हुआ कितना उजाला

Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    नई दिल्ली। किसी देश का विकास उसके पास के संसाधनों और उन संसाधनों के सुनियोजित उपयोग पर निर्भर करता है। इसी को ध्यान में रखकर साल 2015 में मोदी सरकार ने एक योजना शुरू की, जिसके मकसद देश में ऊर्जा के खपत को कम करना है। प्रधानमंत्री मोदी ने उर्जा की खपत को कम करने के मकसद से उजाला योजना या उजाला फ्री एलईडी बल्ब योजना शुरू की। इस योजना के जरिए देश में बिजली खपत को कम करना है। सरकार ने इसमें सफलता भी हासिल की। अब तक इस योजना की मदद से देश में 39,615 mn kWh ऊर्जा की बचत की गई है। जिसके15,846 करोड़ का बचत हुआ है। एलईडी बल्ब की रौशनी तेज़ होती है और ये बल्ब 9 w में भी उपलब्ध हैं। जिससे बिजली की खपत कम होती है। सरकार उजाला योजना के तहत लोगों को एलईडी बल्ब के इस्तेमाल के लिए प्रेरित करती है।

     उजाला का उद्देश्य

    उजाला का उद्देश्य

    सरकार इस योजना की मदद से एलईडी बल्ब के उपयोग को बढ़ावा देना चाहती है। इससे देश में बिजली खपत को कम किया जा सकेगा और बचत की गई बिजली का इस्तेमाल देश की तरक्की में होगा। इस उजाला योजना के तहत एलईडी बल्ब के उपयोग से उत्सर्जित कार्बन की मात्रा में भी कमी आएगी, जो पर्यावरण को सुरक्षित करेगा। सरकार उजाला योजना के तहत 2.5 -3 साल की गारंटी के साथ सब्सिडी कीमतों पर एलईडी बल्ब उपलब्ध करती है।सरकार द्वारा उपलब्ध कराई गई एलईडी बाजार से 40% सस्ती होती है।

     उजाला योजना के क्या है लाभ

    उजाला योजना के क्या है लाभ

    इस उजाला योजना के तहत अब तक 30,50,39,731 एलईडी बल्ब बांटे जा चुके हैं। उजाला योजना की मदद से 39,615 mn kWh ऊर्जा की बचत की गई है, जिससे देश का 15,846 करोड़ रुपए बचा है। इसके साथ ही लोगों ने 3,20,87,822 t CO2 उत्सर्जन कम हुआ है। इस योजना के तहत आप एलईडी बल्ब, ट्यूबलाइट और पंखे सस्ती कीमत पर खरीद सकते हैं। उजाला योजना के तहत आपको ईनर्जी ईफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड सेंटर बिजली के उपकरणों पर वारंटी देता है। जैसे 70 रुपए में मिलने वाले एलईडी बल्ब पर 3 साल की गारंटी दी जाती है। वहीं 220 रुपए में मिलने वाले ट्यूबलाइट पर भी 3 साल की और 1110 रुपए में मिलने वाले पंखे पर 2.5 साल की वारंटी मिलती है। सरकार इस योजना के तहत हर साल 9 करोड़ एलईडी बल्ब बांटेगी।

     उजाला के कितना हुआ देश में उजाला

    उजाला के कितना हुआ देश में उजाला

    उजाला योजना से देश के 125 शहरों में अब तक 30 करोड़ से ज्यादा एलईडी बल्ब बांटे जा चुके हैं। 8 मार्च 2016 तक ईईएसएल ने भारत सरकार की उजाला योजना के तहत देश के 125 शहरों में एक साल के अंदर 8 करोड़ से भी ज्यादा एलईडी बल्ब बांटे। जिससे हर साल उपभोक्‍ताओं को 5500 रुपए की बचत हुई। इससे आम जनता के साथ-साथ देश में भी ऊर्जा का संरक्षण हुआ। उजाला कार्यक्रम की निगरानी पारदर्शी तरीके से राष्‍ट्रीय स्‍तर पर की जा रही है।

    12 माह की अवधि में 8 करोड़ एलईडी बल्बों के वितरण का लक्ष्य हासिल करने के परिणामस्वरूप 2.84 करोड़ केडबलयूएच की दैनिक बचत संभव हो पाई है।इस बचत से देश में 365 दिनों तक 20 लाख से भी ज्यादा घरों को रोशन करने में सक्षम है।

     उजाला योजना के लिए जरूरी दस्तावेज

    उजाला योजना के लिए जरूरी दस्तावेज

    अगर आप भी इस योजना के तहत सस्ती दरों पर एलईडी बल्ब चाहते हैं तो आपको अपना आधार कार्ड,एड्रेस प्रूफ, पहचान पत्र या मतदाता पहचान पत्र लेकर ग्राहक सेवा केंद्र जाना होगा। आप आवेदन करने के लिए आधिकारिक वेबसाइट से भी फॉर्म डाउनलोड कर सकते हैं या अपने क्षेत्र के पॉवर हाउस से संपर्क कर सकते हैं। योजना के बारे में यहां विस्तार से पढ़ें-http://www.ujala.gov.in/

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Know what is UJALA Scheme: Government distributes over 30 crore LED bulbs across the country

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more