• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

बंगाल में हुआ चमत्कार ,38 दिन वेंटिलेटर पर रहने के बाद कोरोना मरीज ने जीती जंग, ठीक हो कर लौटा घर

|

कोलकाता। कोरानावायरस संक्रमण में देश में हर दिन मरने वालों की संख्‍या लगातार बढ़ती ही जा रही हैं। मानव जीवन के लिए काल बन चुके इस कोरोनावायरस के प्रकोप के बीच पश्चिम बंगाल की राजधानी में चिकित्‍सकों ने एक चमत्‍कार कर दिया हैं। कोलकाता में पिछले 38 दिन से वेंटीलेटर पर रहने के बाद एक 52 वर्षीय मरीज ने कोरोना को मात देते हुए जिंदगी की जंग जीत ली हैं। वेंटीलेटर पर जाने के बाद इस व्‍यक्ति की जान धरती के भगवान कहें जाने वाले डाक्‍टरों ने बचाकर उसे नया जीवनदान दिया हैं।

मार्च में अस्‍पलाल में करवाया गया था भर्ती

मार्च में अस्‍पलाल में करवाया गया था भर्ती

बता दें इस 52 वर्षीय व्‍यक्ति को मार्च में कोलकाता के एक अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। पुराने सामाजिक कार्यकर्ता ने 38 दिनों के लिए वेंटिलेटर पर रहने के बाद वायरस को हराया, भारत में ये पहला केस हैं जिसने लंबे समय तक कोरोनापॉजिटव संक्रमण के कारण हालत बिगड़ने पर वेंटीलेटर पर रखा गया और जीवित बच कर स्‍वस्‍थ हो चुका है।

कोरोना के आगे हार नहीं मानी

कोरोना के आगे हार नहीं मानी

टॉलीगंज निवासी 52 वर्षीय नितई दा एक सामाजिक कार्यकर्ता हैं। उन्हें 29 मार्च को कोलकाता के एक निजी अस्पताल एएमआरआई ढाकुरिया में भर्ती कराया गया था क्योंकि उन्हें तेज बुखार और सांस लेने में तकलीफ की शिकायत थी। अगली सुबह उन्हें वेंटीलेटर पर रखा गया और उनकी कोरोनावायरस टेस्ट रिपोर्ट का इंतजार किया गया। जैसे ही परिणाम आए, उन्हें COVID-19 वायरस के लिए सकारात्मक परीक्षण किया गया। उनके बाद के परीक्षण भी सकारात्मक आए जिसने उन्हें 38 दिनों तक वेंटिलेटर पर रखा। लेकिन नितई दा ने हार नहीं मानी, उन्होंने डॉक्टरों और नर्सों की टीम के प्रयासों को बेकार नहीं जानें दिया और कोरोना का मात दे दिया

चिकित्‍सों ने कर दिखाया ये चमत्‍कार

चिकित्‍सों ने कर दिखाया ये चमत्‍कार

एएमआरआई अस्पताल की क्रिटिकल केयर एंड इंटरनल मेडिसिन डॉ सास्वती सिन्हा ने कहा, "नितिन दास 4 सप्ताह से वेंटिलेटर पर थे, उन्हें ट्रेकोस्टॉमी भी थी", एक चिकित्सा प्रक्रिया जिसमें फेंफड़ों में हवा डालने के लिए गले से पाइप के माध्यम से गले तक एक पाइप बनाने के लिए खोलती है। 17 और 18 अप्रैल को, अस्पताल ने अपना COVID-19 परीक्षण किया और दोनों ही रिपोर्ट नकारात्मक आई और तीसरी बार 2 मई को, 52 वर्षीय योद्धा को महत्वपूर्ण सुधार दिखाने के लिए दिन में 12 घंटे से भी कम समय के लिए आंशिक वेंटिलेशन में स्थानांतरित कर दिया गया था। यह ईश्वर की ओर से संकेत था! 5 मई को, उनके डॉक्टरों ने उन्हें आईसीयू में स्थानांतरित कर दिया लेकिन वेंटिलेटर की आवश्यकता नहीं थी। इसके तीन दिन बाद उन्‍हें दिसचार्ज कर दिया गया। निताई दा ने कहा कि मेरी नर्सों और डॉक्टरों ने रातों की नींद त्याग कर मेरी जान बचाई। पीपीई और उन्होंने अपनी सुरक्षा और अपने आराम सहित अपने पीछे सब कुछ रखा था और उन्होंने वास्तव में कठिन संघर्ष किया है, आज हम धन्य महसूस करते हैं। "

लॉकडाउन में दिखा प्रकृति का अदभुत नजारा, उड़ीसा का समुद्र तट नन्‍हें कछुओं से हुआ गुलजार, देखें Video

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
It’s a miracle! 38 days on the ventilator, Bengal man defeats COVID-19, returns home
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X