• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

भारत का नया संसद भवन बनाने का टाटा कंपनी को मिला कॉन्‍ट्रैक्‍ट,जानें कितने करोड़ में होगा ये तैयार

|

नई दिल्ली। संसद भवन की नई इमारत बनाने के लिए टाटा कंपनी ने सभी कंपनियों को पीछे पछाड़ते हुए इसे बनाने का ठेका हासिल कर लिया है। बुधवार को टाटा ग्रुप को नया संसद भवन बनाने का कॉन्‍ट्रैक्‍ट मिल गया।

टाटा कंपनी को संसद भवन बनाने का ठेका 861.9 करोड़ रुपए में मिला

टाटा कंपनी को संसद भवन बनाने का ठेका 861.9 करोड़ रुपए में मिला

टाटा कंपनी को संसद भवन बनाने का ठेका 861.9 करोड़ रुपए में मिला है। बता दें देश का नया संसद भवन बनाने के लिए 7 कंपनियां प्रतिस्‍पर्धा में थीं। इन 7 कंपनियों ने संसद भवन बनाने संबंधी ठेका पाने के लिए टेंडर भरा था। इन कंपनियों में टाटा प्रोजेक्ट लिमिटेड, लार्सन एंड टूब्रो लिमिटेड, आईटीडी सीमेंटेशन इंडिया लिमिटेड, एनसीसी लिमिटेड, शपूरजी पलोनजी एंड कंपनी प्राइवेट लिमिटेड, उत्तर प्रदेश राजकीय निर्माण निगम लिमिटेड और पीएसपी प्रोजेक्ट्स लिमिटेड शामिल थी। लेकिन संसद बनाने की बोली में टाटा प्रोजेक्ट्स ने सबको पछाड़ दिया और उसे ये ठेका मिला।

तुम घटिया हो: आराध्या का नाम लेने पर जया बच्चन के सपोर्ट में आईं काम्या पंजाबी ने यूजर को दिया करारा जवाब

मौजूदा संसद के सामने ही नई संसद का निर्माण

मौजूदा संसद के सामने ही नई संसद का निर्माण

गौरतलब है कि देश की नई संसद बिल्डिंग से संबंधित जानकारी मंगलवार को सामने आई थी। जिसमें पता चला था कि शीर्ष पर पहले जहां कुछ मीनारों की आकृति बनने की बात थी वहां अब देश का गौरव यानी राष्ट्रीय चिन्ह (अशोक स्तम्भ) दिखेगा। नई संसद भवन का काम इस मानसून सत्र के बाद शुरू हो सकता है। बता दें कि मौजूदा संसद के सामने ही नई संसद का निर्माण होगा।

ई इमारत को एक त्रिकोण के रूप में डिजाइन किया गया है

ई इमारत को एक त्रिकोण के रूप में डिजाइन किया गया है

टाटा ने लार्सन और टुब्रो कंपनी को हराया, जिन्होंने 865 करोड़ की बोली प्रस्तुत की थी।केंद्रीय लोक निर्माण विभाग ने आज एक नई संसद भवन के निर्माण के लिए वित्तीय बोलियाँ खोलीं। इस परियोजना के एक साल में पूरा होने की संभावना है। सरकारी नागरिक निकाय ने 940 करोड़ की लागत का अनुमान लगाया था। नई इमारत को एक त्रिकोण के रूप में डिजाइन किया गया है। अधिकारियों का कहना है कि इसे संसद भवन के "प्लॉट नंबर 118" के रूप में वर्णित किया गया है।

जानिए क्यों किया जा रहा नए संसद भवन का निर्माण

जानिए क्यों किया जा रहा नए संसद भवन का निर्माण

गौरतलब है कि वर्तमान संसद भवन, ब्रिटिश काल के दौरान बनाया गया, गोलाकार है और भारत के सबसे प्रशंसित स्मारकों में से एक है। अधिकारियों का कहना है कि इस इमारत का इस्तेमाल अन्य मरम्मत के बाद किया जाएगा। मौजूदा संसद भवन का निर्माण 1921 में शुरू हुआ और छह साल बाद पूरा हुआ। अंतरिक्ष की मांग के कारण 1956 में दो मंजिलों को जोड़ा गया। सरकार ने विपक्ष के सवालों के जवाब में कहा इस वर्ष की शुरुआत में, सरकार ने एक नए संसद भवन के निर्माण के अपने निर्णय को सही ठहराया था जिसमें कहा गया था कि वर्तमान संरचना "संकट के संकेत दिखा रही है"। साथ ही, निर्वाचन क्षेत्रों के पुनर्गठन के बाद लोकसभा में अधिक संख्या होने की संभावना है, और वर्तमान भवन में एक भी अतिरिक्त सदस्य के लिए कोई स्थान नहीं था।

अमिताभ बच्‍चन ने समझाया ''घमंड'' शब्द का मतलब, जानिए क्यों भड़के सोशल मीडिया यूजर्स

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
India's new parliament building to be built in 862 crores, Tata wins contract by defeating 7 companies
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X