• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

India-China: पूर्वी लद्दाख में फिंगर 4 से पीछे हटे चीन के सैनिक

|

नई दिल्ली। पूर्वी लद्दाख में लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर भारत और चाइना के बीच चल रहा तनाव अब धीरे-धीरे कम हो रहा है। एलएसी पर चीन की सेना का पीछे हटना जारी है। सरकार के उच्‍च अधिकारिक सूत्रों के अनुसार भारत चीन की सेनाओं के बीच मतभेद का पहला चरण पूरा हो गया है और चीन की सेना फिंगर 4 से पीछे हटकर फिंगर 5 पर जा चुकी हैं। चीन इस हिस्‍से की यथास्थिति को बदलने की कोशिश कर रहा है। मालूम हो कि भारत अपना फिंगर 8 तक होने का दावा करता है लेकिन पांच मई को टकराव के बाद पीएलए के जवान फिंगर 4 तक आ गए थे और और वो भारतीय जवानों को आगे नहीं जाने दे रहे थे।

भारतीय सेना रख रही कड़ी नजर

भारतीय सेना रख रही कड़ी नजर

सूत्रों के अनुसार भारत चीन पर कड़ी नजर रखेगा कि वह 30 जून को सैन्य कमांडरों के बीच हुई वार्ता के फैसले पर कायम रहता है या नहीं। 30 जून को सैन्य कमांडरों के बीच वार्ता में दोनों सेनाओं के चरणबद्ध तरीके से पीछे हटने पर सहमति बनी थी। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और चीनी विदेश मंत्री और स्टेट काउंसलर वांग यी के बीच पांच जुलाई को हुई चर्चा के बाद यह प्रक्रिया शुरू हुई। वर्तमान में दोनों सेना 30 जून को बनी सहमति पर अमल कर रहे हैं।

    India-China Tension: Ladakh में finger area से भी पीछे हट रहे Chinese army | वनइंडिया हिंदी
    तनाव के बीच गतिरोध के चार पॉइंट्स की पहचान की गई थी

    तनाव के बीच गतिरोध के चार पॉइंट्स की पहचान की गई थी

    बता दें लाइन ऑफ ऐक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर पिछले एक महीने से जारी तनाव के बीच गतिरोध के चार पॉइंट्स की पहचान की गई थी जो पैंगोग त्सो एरिया में फिंगर-4, गलवान वैली में पेट्रोलिंग पॉइंट-14, पेट्रोलिंग पॉइंट-15 और हॉट स्प्रिंग एरिया है। सेना सूत्रों के अनुसार पेट्रोलिंग प्वाइंट (पीपी) 15 के अलावा पीपी 14 और पीपी-17ए के क्षेत्रों से डिसइंगेजमेंट प्रक्रिया को पूरा कर लिया गया है और हटना शुरु कर दिया था। यहां से उसने अपनी पांच संरचनाओं को हटा दिया है। इसके अलावा लद्दाख के फिंगर एरिया से भी अब पीपुल्‍स लिब्रेशन आर्मी (पीएलए) के जवान पीछे हटने लगे हैं। पैंगोंग त्सो के उत्तरी तट पर चीनी सेना फिंगर फोर पर तीन प्वाइंट से पीछे हट गई है।

    जवान करीब दो किलोमीटर तक पीछे चले गए है

    जवान करीब दो किलोमीटर तक पीछे चले गए है

    बुधवार को सूचना थी कि पीपी 15 यानी गोगरा पोस्‍ट पर डिसइंगेजमेंट की प्रक्रिया को पूरा कर लिया गया है। जवान करीब दो किलोमीटर तक पीछे चले गए हैं। सूत्रों की ओर से यह जानकारी भी दी गई है कि गोगरा पोस्‍ट, हॉट स्प्रिंग्‍स और लद्दाख में बफर जोन तैयार किए जा रहे हैं। पीपी 14 गलवान घाटी का वही प्‍वाइंट है जहां पर 15 जून को भारत और चीन की सेना के बीच हिंसक झड़प हुई थी। इस झड़प में भारत के 20 सैनिक शहीद हो गए थे। पूर्वी लद्दाख में गलवान घाटी समेत उन तमाम प्‍वाइंट्स से चीन की पीपुल्‍स लिब्रेशन आर्मी (पीएलए) के जवानों का लौटना जारी है। हॉट स्प्रिंग्‍स एरिया और गोगरा पोस्‍ट पर दोनों सेनाएं करीब चार किलोमीटर तक का बफर जोन तैयार कर रही हैं। इस बफर जोन को 24 घंटे की समय सीमा के अंदर तैयार किया जाने की बात कही गई थी।

    LAC पर तनानती कम करने के लिए चीन कुछ कदम पीछे हटा, लेकिन इस शक के चलते सेना है अलर्ट पर

    सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस: फिल्‍म निर्माता शेखर कपूर ने ईमेल से बांद्रा पुलिस को दर्ज करवाया अपना बयान

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    India-China: Chinese troops have moved back from Finger 4 to Finger 5 in the Finger area
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X