• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

चक्रवाती तूफान 'अम्फान' से संबंधित मौसम विभाग के ये पूर्वानुमान शत-प्रतिशत सही निकले

|

भुवनेश्‍वर। बंगाल की खड़ी से उठे चक्रवाती तूफान 'अम्फान' ने ओडिशा और बंगाल में जमकर तबाही मचाई है, भारतीय मौसम विभाग ने पहले ही चेतवानी दी थी कि इस तूफान से भारी तबाही हो सकती है और वो ही हुआ, हालांकि सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे, बावजूद इसके इस तूफान से अब तक 12 लोगों की मौत हो चुकी है। फिलहाल तूफान से कितना नुकसान हुआ है, इस बारे में अभी जानकारी दी नहीं गई है लेकिन इंडियन मिट्योरॉजिकल डिपाटर्मेंट ने चक्रवात के बारें में जो भविष्‍यवाणियां की थी वो शत प्रतिशत सही निकली। आईएमडी के पुर्वानुमान के चलते ओडिसा सरकार ने ज्यादा लोगों को विस्‍थापित नहीं किया था केवल ओडिसा के निलले तटीय इलाकों और कच्‍चे मकानों में रह रहे 1 लाख 41 हजार लोगों को सुरक्षित स्‍थानेां पर पहुंचाया गया था।

cyclone
    Amphan Cyclone ने Kolkata में मचाई ऐसी तबाही, स्कूल की उड़ी छत... देखें Video | वनइंडिया हिंदी

    भारतीय मौसम विभाग के अनुसार चक्रवाती तूफान रिकार्ड 18 घंटे में श्रेणी 1 से श्रेणी 5 के सुपर साइक्लोनिक तूफान में बदल गया। बीते बीस वर्षों में तट पूर्वी तट से टकराने वाला दूसरा सबसे शक्तिशाली तूफान हैं। इससे पहल 1999 में ओडिसा में आए सुपर साइकलोन ने भारी तबाही मचाई थी और लगभग 15 हजारा लोगों की मौत हुई थी।आईएमडी ने पूर्वनुमान लगाया बिलुकूल वैसा ही साइकलोन ने रुख अख्तियार किया।। चक्रवात लगगभ ढाई बजे बंगाल की दीघा और बंगलादेश के हतिया के बीच तबाही मचाता हुआ तट से टकरा गया। तेज हवा और लैंड फाल सुंदर वन की ओर मुड गया जैसा कि मौसम विभाग ने पहले भविष्‍यवाणी की थी।

    मौसम विभाग ने पहले ये भी बताया था कि च्रकवती तूफान की हवाएं 100 से 110 प्रति घंटा की रफ्तार से आगे बढ़ेगी वैसा ही वास्‍तव में हुआ।

    cyclone

    सबसे तेज तूफानी हवाएं पारादीप में रिकार्ड की गई यहां पर 106 किलोमीटर प्रतिघंटा की तूफानी हवा बही।

    ये जो तूफानी चक्रवात आया वो पिछले 20सालों में सबसे भयावह था जो कि उडीसा के तटवर्ती इलाकों को छूता हुआ पुरी और बलसोर के बीच जिसकी दूरी तटवर्ती इलाकों से 100 से 120 किलोमीटर की हैं। सुंदरवन में लैंडफाल होने से पहले इस चक्रवती तूफान ने उड़ीसा के दक्षिण और उत्‍तर में स्थित 24 परगना में मिदनापुर के पूर्वी और पश्चिमी क्षेत्रों में इस तूफान से सबसे ज्यादा तबाही मचाई है। साइकलोन का नेत्र 20 मई को करीब दोपहर दो बजे ओडिसा से हट गया जिसका आईएमडी डी ने पूर्वनुमान किया था जो कि शत प्रतिशत सही निकला।

    cyclone

    मौसम विभाग के अधिकारियों ने बताया कि मौसम का पुर्वानुमान लगाने के अतिरिक्त आईएडी साकलोन की स्थिति का पता लगाने के लिए विशाखापटनम, कोलकाता और पारादीप, गोपालपुर में लगे हुए डॉपलर वेदर रडॉर इनका आंकलन करने में मदद करते हैं। आईएमडी के इससे पहले भी मौसम और तूफानी चक्रवात के बारे में किए गए पुर्वानुमान सही साबित होते आए हैं। इस साइलोन के कारण उड़ीसा पर छाए संकट के बादल अब छट चुके हैं। इस साइकलोन के कारण क्या आर्थिक नुकसान हुआ उसका आंकलन सरकार ने करना आरंभ कर दिया हैं। प्रभावित क्षेत्रों को पुन: स्थिति में लोने के लिए सरकार ने प्रयास करना शुरु कर दिया हैं । ये जानकारी स्‍पेशल रिलीफ कमिश्‍नर प्रदीप कुमार झा ने दी ।

    Cyclone Amphan:1999 के बाद पहली बार आ रहा इतना प्रचंड तूफान, जानें कितना उस वक्त नुकसान हुआ था, कितनी जानें गई थी

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    IMD related to cyclonic storm 'Amfan' turned out to be cent percent correct
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X