• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

सिविल अस्‍पताल के टॉयलेट में बच्‍ची को जन्‍म देकर भाग गई

|

हिसार। छात्रा ने सिविल अस्‍पताल के टॉयलेट में बच्‍ची को जन्‍म दिया। इसके बाद वह बच्‍ची को टॉयलेट में ही छोड़कर अस्‍पताल से भाग गई। बच्‍ची के रोने की आवाज सुनकर अस्‍पताल का टॉयलेट की तरफ गया तो उनके पांवों तले जमीन खिसक गई। टॉयलेट में खून से लथपथ बच्‍ची जमीन पर पड़ी थी। अस्‍पताल की नर्स बच्‍ची को तुरंत इमरजेंसी में लेकर गईं, जहां उसका उपचार किया गया और बाद में बच्‍ची को रोहतक पीजीआई रेफर कर दिया गया। हालांकि, बाद उसे पीजीआई नहीं ले जाया जा सकता है और एक निजी अस्‍पताल में दाखिल कराया गया। अब बच्‍ची तो बच गई, लेकिन पुलिस के सामने बड़ा सवाल यह था कि आखिर बच्‍ची को जन्‍म देने वाली मां कौन है और वह कहां भाग गई? पुलिस ने छानबीन की तो पता चला कि बच्‍ची को जन्‍म देने वाली लड़की चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्‍वविद्यालय की छात्रा है।

मौसेरे भाई को फोन करने पर अस्‍पताल लौटी लड़की

मौसेरे भाई को फोन करने पर अस्‍पताल लौटी लड़की

जानकारी के मुताबिक, टॉयलेट में बच्‍ची को सबसे पहले इमरजेंसी में भर्ती एक मरीज की रिश्‍तेदार ने देखा। अस्‍पताल प्रबंधन ने पुलिस को इस बारे में जानकारी दी। छानबीन करने पर पता चला कि लड़की को उसका मौसेरा भाई, लेकर आया था, जिसका नंबर अस्‍पताल में दर्ज था। पुलिस ने मौसेरे भाई को फोन करके अस्‍पताल बुलाया। कुछ ही देर में वह अस्‍पताल आ भी गया, उसके साथ बच्‍ची को जन्‍म देने वाली लड़की भी थी। लेकिन सवाल अब भी बरकरार था कि आखिर बच्‍ची को लड़की टॉयलेट में क्‍यों छोड़कर गई और उसका पिता आखिर है कौन।

कुछ यूं चला पूरा घटनाक्रम

कुछ यूं चला पूरा घटनाक्रम

रिपोर्ट के मुताबिक, शुक्रवार रात 11 बजे लड़की एक युवक के साथ अस्‍पताल आई थी। दोनों सिविल अस्‍पताल की इमरजेंसी में पहुंचे, जहां लड़की ने बताया कि उसके पेट में दर्द है। अस्‍पताल के स्‍टाफ ने दवा देने से पहले नाम पता पूछा तो लड़की वहां से निलकर गैलरी में बने टॉयलेट में चली गई। कुछ देर बाद वह टॉयलेट से बाहर आई और बाहर खड़े लड़के के साथ चली गई। इसके बाद इमरजेंसी में भर्ती एक मरीज की रिश्‍तेदार टॉयलेट गई तो उसने वहां बच्‍ची को देखा और अस्‍पताल के स्‍टाफ को जानकारी दी।

कई अनसुलझे सवाल हैं इस कहानी में

कई अनसुलझे सवाल हैं इस कहानी में

इस पूरे मामले में अभी तक कई सवाल अनसुलझे हैं। पहला सवाल- बच्‍ची का पिता कौन है? खबर है कि मां ने बच्‍ची को अपना लिया है और दोनों का इलाज एक निजी नर्सिंग होम में चल रहा है, लेकिन क्‍या उसके पिता ने बच्‍ची को नाम दिया है या अपनाया है? एक सवाल यह भी उठ रहा है कि जब कोई महिला बच्‍चे को जन्‍म देती है तो शिशु की नाल भी काटनी होती है। इस बच्‍ची की नाल टॉयलेट में किसने काटी? क्‍या खुद लड़की ने ये काम किया। पुलिस का कहना है कि वह परिवार वालों को बताए बिना अस्‍पताल पहुंची थी, जहां बच्‍ची का जन्‍म हो गया। वह घबरा गई थी और घरवालों को बुलाने के लिए अस्‍पताल से भाग गई थी। बाद में वह अस्‍पताल लौट आई।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Hisar: Woman delivers baby girl in hospital toilet.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X