• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

कोविड वैक्सीन को लेकर चल रही अफवाह का सरकार ने किया खंडन, फेसबुक ने हटा दी पोस्ट

|

नई दिल्ली, 5 जून। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म और सरकार के बीच तनातनी के बीच एक ऐसी घटना हुई थी जिसने सरकार में बैठे लोगों को भी हैरान कर दिया। पिछले महीने के आखिर में फेसबुक और इंस्टाग्राम ने प्रेस सूचना ब्यूरो (पीआईबी) की एक पोस्ट को ही हटा दिया। इस पोस्ट में कोविड वैक्सीन से मौत को लेकर सोशल मीडिया में चल रहे एक दावे को गलत बताया था।

क्या था पोस्ट में?

क्या था पोस्ट में?

25 मई को 'पीआईबी फैक्ट चेक' हैंडल से फेसबुक और इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट शेयर की गई थी जिसमें सोशल मीडिया पर फ्रांस के नोबेल पुरस्कार विजेता लूक मोंटागनियर के हवाले से चल रहे दावे को गलत बताया गया था कि कोरोना वायरस की वैक्सीन लेने वाले लोगों की दो साल में मौत हो जाएगी।

कथित दावे की एक तस्वीर लगाते हुए पोस्ट में कहा गया था "फ्रांस के नोबेल पुरस्कार विजेता को कथित रूप से कोट करने वाली कोविड-19 वैक्सीन से जुड़ी एक तस्वीर सोशल मीडिया पर फैलाई जा रही है। इसमें किया गया दावा झूठा है। कोविड19 वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है। इस संदेश को आगे ना बढ़ाएं।

एक दिन बाद हटा दी पोस्ट

एक दिन बाद हटा दी पोस्ट

एक दिन बाद पीआईबी के अधिकारी तब हैरान रह गए जब उन्होंने पाया कि दोनों ऑनलाइन प्लेटफॉर्म से बिना कोई वजह बताए पोस्ट को हटा दिया गया था। सूत्रों की माने तो फेसबुक ने पीआईबी को चेतावनी दी थी कि उसके पेज को झूठी खबर के लिए अनपब्लिश कैटेगरी में डाला जा सकता है।

जानकारी मिलते ही पीआईबी के अधिकारी एक्शन में आए और सूचना तकनीकी मंत्रालय से संपर्क किया जिसके बाद मंत्रालय ने फेसबुक और इंस्टाग्राम के सीनियर अधिकारियों से मेल के जरिए संपर्क किया और प्लेटफॉर्म पर अपील को लेकर पारदर्शिता और फैक्ट चेक प्रक्रिया को लेकर शिकायत दर्ज कराई। बाद मे जाकर दोनों प्लेटफॉर्म पर पोस्ट को फिर से बहाल किया गया।

इंडियन एक्सप्रेस ने फेसबुक के प्रवक्ता के हवाले से कहा है कि फेसबुक ने माना है कि उसने गलती से कंटेंट को अस्थायी रूप से रोक दिया था। हालांकि इसे बाद में बहाल कर दिया गया।

पहले भी फेसबुक कर चुका ऐसा

पहले भी फेसबुक कर चुका ऐसा

इस घटना ने आईटी मंत्रालय को तथ्य-जांचकर्ताओं की नियुक्ति में पारदर्शिता की कमी के बारे में भी चिंता जताई है। इस मुद्दे को हरी झंडी दिखाने वाले अन्य सरकारी विभागों के साथ आंतरिक बैठकों में, मंत्रालय ने अधिकारियों को "इस मुद्दे से अवगत" होने का आश्वासन दिया है।

इससे पहले, 10 मई को भी पीआईबी फैक्ट चेक टीम की पोस्ट जिसमें बताया गया था कि क्या कोविड के शुरुआती चरणों में रोगियों को स्टेरॉयड लेना चाहिए या नहीं, इसे फेसबुक और इंस्टाग्राम ने चिह्नित किया था। फेसबुक ने इसे फेक कंटेंट के रूप में चिह्नित किया था लेकिन बाद में इसे बहाल कर दिया था।

बाद में मंत्रालय के आधिकारिक सूत्रों ने कहा था कि सोशल मीडिया संस्थानों में तैनात फैक्ट-चेकर में कोई पारदर्शिता नहीं है। यदि पीआईबी पोस्ट को बिना किसी समीक्षा प्रणाली के हटा दिया जाता है तो फैक्ट-चेक की तटस्थता पर चर्चा किए जाने की आवश्यकता है।

गूगल, फेसबुक, व्हॉट्सएप ने आईटी मंत्रालय से ब्योरा साझा किया, ट्विटर ने नहीं भेजी जानकारीगूगल, फेसबुक, व्हॉट्सएप ने आईटी मंत्रालय से ब्योरा साझा किया, ट्विटर ने नहीं भेजी जानकारी

English summary
government debunks claim on covid vaccine facebook take it down
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X