• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

फेसबुक ने पहली बार साझा किया ये डाटा, बताया जुलाई से सितंबर के बीच हर 10 हजार व्यूज में 10-11 नफरत भरे

|

नई दिल्‍ली। सोशल मीडिया के फेसबुक प्‍लेटफार्म पर अभद्र भाषा से निपटने और लेबलिंग को लेकर कड़ी आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट के बाद कंपनी ने कहा कि भारत में अभद्र भाषा के प्रसार के मामले में कंपनी जांच के दायरे में आई। फेसबुक की अंकिता दास, जो उस समय भारत में शीर्ष सार्वजनिक नीति कार्यकारी थी, ने भाजपा नेताओं से अभद्र भाषा के नियम लागू करने का विरोध किया था। दास ने तब से फेसबुक के सार्वजनिक नीति प्रमुख के रूप में पद छोड़ दिया है। वहीं फेसबुक ने अब पहली बार उसके प्‍लेटफार्म पर मौजूद हेट स्‍पीच यानी कि नफरत भरी सामग्री के बारें में खुलासा किया है।

fb
    Facebook: July से September के बीच हर 10 हजार व्यूज में 10-11 नफरत भरे | वनइंडिया हिंदी

    फेसबुक ने 2020 (जनवरी से जून) की पहली छमाही के लिए भारत में कानून प्रवर्तन अधिकारियों से कुल 35,560 अनुरोधों की जांच की। सोशल मीडिया फेसबुक कंपनी के मुताबिक, इस साल जुलाई से सितंबर के बीच प्रत्येक 10 हजार व्यूज में से 10 से 11 नफरत भरे थे। बता दें हर दिन दुनिया भर में हर दिन लगभग 182 करोड़ लोग फेसबुक का इस्तेमाल करते हैं। भारत में फेसबुक के यूजर सबसे अधिक है। कुछ दिनों पहले भारत में फेसबुक प्‍लेटफार्म पर नफरत भरे भाषण से निपटने के कंपनी के तौर तरीकों पर काफी विवाद हुआ था। फेसबुक के अधिकारियों ने व्यावसायिक कारणों का हवाला देते हुए भाजपा से जुड़े चार व्यक्तियों और समूहों के लिए "अभद्र भाषा के नियम" को लागू नहीं करने का एक कारण बताया। रिपोर्ट लीक होने पर , फेसबुक ने अपना बचाव किया और कहा कि यह एक part गैर-पक्षपातपूर्ण 'मंच है ।

    2020 की तीसरी तिमाही में 0.10 से 0.11 फीसदी नफरत भरे भाषण थे

    फेसबुक पर इंटीग्रिटी के वीपी गेन रोसेन ने एक नए पोस्ट में लिखा, "एआई में हमारे निवेशों के कारण, हम अधिक अभद्र भाषा को हटाने में सक्षम हैं और उपयोगकर्ताओं द्वारा हमें इसकी रिपोर्ट करने से पहले इसे अधिक सक्रिय रूप से ढूंढते हैं। सितंबर, 2020 पहले तीन महीने की अपनी कम्युनिटी स्टैंडर्ड इनफोर्समेंट रिपोर्ट में फेसबुक ने कहा, वह पहली बार दुनिया भर में उसके प्लेटफार्म पर मौजूद नफरत भरे भाषण की जानकारी साझा कर रहा है। 2020 की तीसरी तिमाही में 0.10 से 0.11 फीसदी नफरत भरे भाषण थे। इससे कहा जा सकता है कि करीब दस हजार व्यूज का विश्लेषण करने में 10 से 11 नफरत भरे थे। हमारे प्रवर्तन ने इस तिमाही में मैट्रिक्स को शामिल किया है, जिसमें हमें भाषण सामग्री से कितना नफरत है, हमें लगातार मिला और हमने कितनी सामग्री पर कार्रवाई की, यह दर्शाता है कि हम प्रगति को हानिकारक सामग्री पकड़ रहे हैं।

    करीब 2.21 करोड़ व्यूज के खिलाफ कार्रवाई की गई

    कंपनी ने कहा कि आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (कृत्रिम बुद्धिमत्ता) में निवेश के कारण वह नफरत भरे भाषण हटाने में ज्यादा समक्ष हुई है और यूजर्स के रिपोर्ट करने से पहले ही उसे हटा गया। फेसबुक ने ये भी बताया कि 2020 की तीसरी तिमाही के दौरान नफरत भरे करीब 2.21 करोड़ व्यूज के खिलाफ कार्रवाई की गई, इनमें से 95 प्रतिशल की पहचान सटीक रूप से की गई। कंपनी के कहा कि इस तरह की कार्रवाई के बाद अब यूजर्स सतर्क हो गए हैं।

    इंस्टाग्राम पर कंपनी ने 65 लाख नफरत भरे भाषणों से जुड़ी सामग्री के खिलाफ कार्रवाई की

    इसी तरह, इंस्टाग्राम पर कंपनी ने 65 लाख नफरत भरे भाषणों से जुड़ी सामग्री के खिलाफ कार्रवाई की है। फेसबुक के उपाध्यक्ष गाय रोसेन ने कहा, कंपनी अतिरिक्त नीतियों को शामिल करने के लिए अपनी कम्युनिटी स्टैंडर्ड वेबसाइट को भी अपडेट कर रही है।आंकड़ों के अनुसार, फेसबुक का कहना है कि उसने नफरत फैलाने वाली सामग्री के 22.1 मिलियन ग्रुप पर कार्रवाई की, जिसमें 19.2 मिलियन टुकड़े हिंसक और ग्राफिक सामग्री, 12.4 मिलियन बच्चे की नग्नता और यौन शोषण सामग्री शामिल थे। धमकाने और उत्पीड़न सामग्री के 3.5 मिलियन ग्रुप थे।

    फेसबुक का कहना है कि उसने 2020 की पहली छमाही में 50 प्रतिशत अनुरोधों का अनुपालन किया, जबकि पहले की अवधि में यह 57 प्रतिशत था। ये रहस्योद्घाटन फेसबुक की द्विवार्षिक पारदर्शिता रिपोर्ट के हिस्से के रूप में किए गए थे। भारत में, फेसबुक को 4,132 परिरक्षण अनुरोध मिले, और लगभग 9,406 खातों को संरक्षित किया गया। इन अनुरोधों में, फेसबुक किसी खाते या उपयोगकर्ता के आसपास "जानकारी" को संरक्षित या सहेजता है, लेकिन जब तक कि उन्हें "औपचारिक और वैध कानूनी प्रक्रिया नहीं मिलती" किसी भी संरक्षित रिकॉर्ड का खुलासा नहीं करेंगे।

    139 खातों और 39 मीडिया को प्रतिबंधित कर दिया

    सामग्री प्रतिबंध के संबंध में, सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 की धारा 69 ए का उल्लंघन करने के लिए इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के निर्देशों के जवाब में फेसबुक ने 681 पोस्‍ट की पहुंच को प्रतिबंधित कर दिया। इनमें से नौ को अस्थायी रूप से प्रतिबंधित किया गया था। फेसबुक ने मानहानि की निजी रिपोर्टों के जवाब में 143 सामग्रियों तक पहुंच को प्रतिबंधित कर दिया। इंस्टाग्राम पर, कंपनी ने 139 खातों और 39 मीडिया को प्रतिबंधित कर दिया।

    कौन हैं Rashmika Mandann जिन्‍हें Google बता रहा नेशनल क्रश ऑफ इंडिया 2020, जानें उनकी किस अदा पर मरते हैं लोग

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Facebook shared this data for the first time, told that between July and September, every 10 thousand views filled 10-11 haters
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X