• search

GST रिफंड: सरकार के पास फंसा एक्‍सपोर्टर्स का 20,000 करोड़, 15 दिन में लौटाने का वादा

By Bavita Jha
Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    नई दिल्ली। देश के एक्सपोर्ट्स का 20000 करोड़ रुपए सरकार के पास फंस गया है। 20000 करोड़ के जीएसटी रिफंड सरकार के पास अटका हुआ है। जीएसटी रिफंड न मिलने की वजह से एक्‍सपोर्टर्स के पास नकदी संकट पैदा हो गया है। ऐसे में एक्सपोर्ट्स की समस्या को जल्द से जल्द सुलझाने के लिए सरकार ने 31 मई से 14 तक फास्‍ट ट्रैक पखवाड़े की शुरुआत की है। कल यानी गुरुवार से इस पखवाड़े की शुरुआत होगी।

     Exporters GST refund: Second phase of fast track clearance drive from Thursday

    इस फास्ट ट्रैक क्लीयरेंस में सराकर एक्‍सपोर्टर्स का जीएसटी रिफंड वापस करेगी। इसके दौरान केंद्र और राज्य के जीएसटी अधिकारी एक्‍सपोर्टर्स के फंसे हुए रि‍फंड को जल्द से जल्द लौटाने का काम करेंगे। इस पखवाड़े में 30 अप्रैल या उससे पहले के सभी रिफंड एप्लीकेशनों को निपटाया जाएगा। इससे पहले सरकार ने मार्च में बी जीएसटी रिफंड के लिए पखवाड़ा चलाया था। 15 मार्च से 30 मार्च तक चले फर्स्ट क्लीयरेंस में सरकार ने 17,616 करोड़ रुपए के जीएसटी रि‍फंड को क्‍लि‍यर कि‍या था।

    वहीं सरकार के इस कदम पर फेडरेशन आफ इंडियन एक्सपोर्ट आर्गेनाइजेशन (फियो) ने कहा है कि एक्‍सपोर्टर्स का सरकार के पास करीब 20,000 करोड़ रुपए का जीएसटी रि‍फंड अटका हुआ है। जिसकी वजह से उसके पास नकदी संकट पैदा हो गया है। उनका कहना है कि सरकार की ओर से जीएसटी रिफंड की प्रक्रिया काफी धीमी हो गई है।

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    With an estimated Rs 20,000 crore exporters' refund still stuck, the government will launch the second phase of refund fortnight beginning May 31 to fast-track clearances.

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more