• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

NPR-NRC के खिलाफ दिल्ली विधानसभा में पास हुआ प्रस्ताव

|

नई दिल्ली। दिल्ली विधानसभा का आज एक दिन के लिए विशेष सत्र बुलाया गया था। इस दौरान दिल्ली विधानसभा ने एनआरसी और नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर को दिल्ली में लागू किए जाने के खिलाफ प्रस्ताव पारित किया। इस प्रस्ताव को पारित किए जाने के दौरान बोलते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मैंने गृहमंत्री के बयान को सुना है जिसमे उन्होंने कहा कि एनपीआर के लिए दस्तावेज नहीं मांगा जाएगा, लेकिन उन्होंने एनआरसी को लेकर कुछ नहीं कहा। साफ है कि एनपीआर होने के बाद एनआरसी होगा। खुद राष्ट्रपति इस बात को कह चुके हैं कि एनआरसी होगा। इस दौरान केजरीवाल ने कहा कि वो कहावत है कि जब चिड़िया चुग गई खेत तब पछताए क्या होत। लिहाजा हम एनपीआर को हम दिल्ली में लागू नहीं होने देंगे। केजरीवाल ने कहा कि मैं केंद्र सरकार से अपील करता हूं कि वह एनपीआर को वापस ले लें।

delhi

गौरतलब है कि गुरुवार को राज्यसभा में दिल्ली हिंसा पर जवाब देते हुए गृहमंत्री अमित शाह ने कहा था कि सीएए के तहत किसी की भी नागरिकता लेने का कानून है ही नहीं, सीएए नागरिकता देने का कानून है। कपिल सिब्बल को जवाब देते हुए शाह ने कहा कि मैं कहता हूं कि सदन में बैठे हुए सारे विद्वान लोग हैं, सीएए कानून में मुझे कोई भी ऐसा प्रावधान बता दीजिए जिससे मुसलमानों की नागरिकता चली जाए। जिसपर सिब्बल ने कहा कि कोई नहीं कह रहा है कि सीएए किसी की नागरिकता छीनेगा। कानून ये कहता है कि जब एनपीआर होगा तो उसमे 10 सवाल और पूछे जाएंगे, जो राज्य सरकार का अध्यक्ष है वह यह पूछेगा और उसके बाद वह संदिग्ध (D) लगा देगा। यह मुसलमानों के प्रति नहीं है, यह गरीबों के खिलाफ है।

अमित शाह ने कहा कि कांग्रेस के कई नेताओं ने यह बयान दिया है कि सीएए मुसलमानों के खिलाफ है। मैंने खुद कहा है कि एनपीआर के तहत कोई दस्तावेज नहीं मांगा जाएगा। अगर जानकारी नहीं है तो भी कोई दिक्कत नहीं, जितनी जानकारी आप देना चाहते हैं, उसे देने के लिए आप आजाद हैं। किसी को एनपीआर की प्रक्रिया से डरने की जरूरत नहीं है। इसके बाद सदन में हंगामा होने लगा। गुलाम नबी आजाद ने पूछा कि क्या एनपीआर अगर किसी सवाल का जवाब नहीं दिया जाता है तो क्या आप उस सवाल के आगे D यानि संदिग्ध नहीं लगाएंगे। जिसपर अमित शाह ने कहा कि नहीं लगेगा। यही नहीं अमित शाह ने गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा सहित तमाम नेताओं से कहा कि अगर आप फिर भी कोई सवाल जवाब करना चाहते हैं तो आप मेरे साथ चर्चा करने आ सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- माधवराव सिंधिया चाहते थे शादी से पहले राजकुमारी माधवी को देखना, शाही परिवार ने कर दिया था मना, पढ़ें दिलचस्प किस्सा

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Delhi assembly passes resolution against implementation process of NPR.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X