• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है चीन, चीनी सेना पर सुरक्षा एजेंसियां अब ऐसे रखेगी नज़र?

|

नई दिल्ली। पलटकर और धोखबाजी से हमला करने के लिए कुख्यात चीनी सेना की नापाक हरकतों और इरादों पर नजर रखने के लिए भारतीय सुरक्षा एजेंसियों 4-6 सेटलाइट्स की मदद लेनी की योजना तैयार की है। इन सैटेलाइट्स के जरिए भारतीय सेना को चीन की गतिविधियों और विरोधी की चाल पर नजर में मदद करेगी। सुरक्षा एंजेंसियां सैटेलाइट्स की मदद से भारतीय क्षेत्र की गहराई क्षेत्रों में सभी 4,000 किमी की वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर कड़ी नज़र रख सकेंगी।

चीन के ‘जीन’ में है विस्तारवाद , उसकी जमीन हड़पो नीति से भारत समेत दुनिया के 23 देश परेशान

china

क्यों कांग्रेस को याद आए राम, जिन्होंने कभी राम के अस्तित्व पर ही उठाए थे सवाल?

    LAC पर बढ़ रहा China का आक्रामक रवैया, Defence Ministry ने कबूला | Ladakh | वनइंडिया हिंदी
    सुरक्षा एजेंसियों को सैटेलाइट से निगरानी की जरूरत इसलिए महसूस हुई

    सुरक्षा एजेंसियों को सैटेलाइट से निगरानी की जरूरत इसलिए महसूस हुई

    भारतीय सुरक्षा एजेंसियों को सैटेलाइट की जरूरत उस वक्त महसूस हुई जब चीनी सेना ने एलएसी की ओर से शिनजियांग क्षेत्र में एक अभ्यास की आड़ में भारी हथियार और तोपखाने के साथ 40,000 से अधिक सैनिक जुटा लिए और उन्हें भारतीय क्षेत्र की ओर ले जाना शुरू कर दिया। अभी तक उन्होंने भारतीय क्षेत्र में कई स्थानों पर उन्हें स्थानांतरित भी कर दिया है। आश्चर्यजनक रूप से इनमें भारत के 14 कॉर्प्स मुख्यालय समेत लेह के एरिया में शामिल है।

    यह छोटी सी छोटी चीजों और व्यक्तियों पर भी नजर रखने में सक्षम है

    यह छोटी सी छोटी चीजों और व्यक्तियों पर भी नजर रखने में सक्षम है

    रक्षा सूत्रों के हवाले से न्यूज एजेंसी ANI ने कहा है कि भारतीय क्षेत्र और एलएसी पर गहराई वाले क्षेत्रों में चीनी बलों की गतिविधियों पर नजर रखने के लिए सैटेलाइट्स से निगरानी जरूरी है। रक्षा सूत्रों का कहना है कि इन सैटेलाइट्स में हाई रिज़ॉल्यूशन वाले सेंसर और कैमरे हैं, जो नजदीकी से निगरानी रखने में मदद कर सकते हैं। सिर्फ इतना ही नहीं, बल्कि इनके जरिए यह छोटी सी छोटी चीजों और व्यक्तियों पर भी नजर रखने में सक्षम है।

    भारतीय सशस्त्र बलों के पास पहले से ही कुछ सैन्य उपग्रह हैं

    भारतीय सशस्त्र बलों के पास पहले से ही कुछ सैन्य उपग्रह हैं

    उन्होंने बताया कि सैटलाइट्स क्षमता और संसाधन विकसित होने से देश को चीनी और अन्य सहयोगियों पर नजर रखने के लिए विदेशी सहयोगियों पर निर्भरता कम करने में मदद मिलेगी। सूत्रों ने कहा कि भारतीय सशस्त्र बलों के पास पहले से ही कुछ सैन्य उपग्रह हैं, जो प्रतिकूल परिस्थितियां पड़ने पर कड़ी नजर रखने के लिए उपयोग किए जाते हैं, लेकिन उस क्षमता को और मजबूत करने की जरूरत है।

    चीनी सैनिकों ने पिंगिंग त्सो झील के साथ फिंगर क्षेत्र में स्थानांतरित किया है

    चीनी सैनिकों ने पिंगिंग त्सो झील के साथ फिंगर क्षेत्र में स्थानांतरित किया है

    फिलहाल, चीनी सैनिकों ने पिंगिंग त्सो झील के साथ फिंगर क्षेत्र में भारतीय क्षेत्र में स्थानांतरित कर दिया है, जहां वे पूरी तरह से विघटन से इनकार कर रहे हैं और फिंगर-5 में एक अवलोकन पोस्ट बनाना चाहते हैं। गोगरा क्षेत्र में अब भी कुछ लोग बने हुए हैं। चीनी गतिविधियों के बारे में स्पष्टता की कमी के कारण भारतीय पक्ष ने लद्दाख में अपनी संख्या बनाने के लिए समय लिया और अतिरिक्त बलों को आस-पास के क्षेत्रों से भेजना पड़ा और रिजर्व फॉर्मेशन को भी वहां भेजना पड़ा।

    चीनी सैनिकों ने कई स्थानों पर भारतीय क्षेत्र में स्थानांतरित कर लिया है

    चीनी सैनिकों ने कई स्थानों पर भारतीय क्षेत्र में स्थानांतरित कर लिया है

    चीनियों ने हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश के विपरीत एलएसी के साथ एक समान निर्माण किया है, लेकिन वहां के चीनी सैनिक गहराई वाले क्षेत्रों में हैं। लद्दाख सेक्टर में रक्षा मंत्रालय ने अब स्वीकार किया है कि चीनी सैनिकों ने कई स्थानों पर भारतीय क्षेत्र में स्थानांतरित कर लिया है।

    कोर कमांडर स्तर की बातचीत में किए वादे पर अमल नहीं कर रहा है चीन

    कोर कमांडर स्तर की बातचीत में किए वादे पर अमल नहीं कर रहा है चीन

    भारत-चीन के बीच 14 जुलाई को कोर कमांडर स्तर की बातचीत में दुर्गम इलाकों के साथ सभी टकराव वाले क्षेत्रों से सैनिकों को हटाने के अपने वादे पर भी चीन अमल नहीं कर रहा है। शीर्ष स्तर पर हुई बातचीत के बाद कुछ इलाकों से चीनी सैनिक वापस गए, लेकिन अभी भी कई क्षेत्रों में चीनी सैनिक बने हुए हैं।

    हर हाल में सभी टकराव वाले क्षेत्रों से चीन को सैनिकों को हटाना ही होगा

    हर हाल में सभी टकराव वाले क्षेत्रों से चीन को सैनिकों को हटाना ही होगा

    चीनी हरकतों को देखते हुए भारतीय सेना ने भी पूरी तैयारी कर रखी है। दो अगस्त को हुई बैठक में भारतीय पक्ष ने पीएलए को साफ तौर पर बता भी दिया था कि उसे हर हाल में सभी टकराव वाले क्षेत्रों से अपने सैनिकों को हटाना ही होगा।

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    A plan has been drawn by the Indian security agencies 4-6 satellites to keep a check on the nefarious antics and intentions of the Chinese army, which are notorious for attacking and defrauding. Through these satellites, the Indian Army will help in keeping an eye on China's activities and the moves of the opponent. With the help of satellites, security agencies will be able to keep a close watch on all the 4,000 km Line of Actual Control (LAC) in the depth zones of the Indian region.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X