भारत का अब तक का सबसे बड़ा राजनीतिक पोल. क्या आपने भाग लिया?
  • search

#Ayodhya: मोदी की तारीफ के बाद पलटा सुन्‍नी वक्‍फ बोर्ड, पहले किया सिब्‍बल से किनारा, अब समर्थन

Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या मामले की सुनवाई अगले लोकसभा चुनाव तक टालने की कपिल सिब्बल की मांग पर घमासान लगातार जारी है। बीजेपी और सरकार ने इस मामले पर कपिल सिब्बल और कांग्रेस को घेरा है, जबकि विवाद बढ़ता देख पहले तो सुन्नी वक्फ बोर्ड ने भी कपिल सिब्बल से किनारा काट लिया, लेकिन फिर अचानक से यूटर्न ले लिया।

    Ayodhya Ram Temple: Sunni Waqf board take u Turn and agree with Kapil Sibbal demand

    अयोध्या मामले की सुनवाई 2019 के लोकसभा चुनाव तक टालने की कपिल सिब्बल की मांग को लेकर सुन्नी वक्फ बोर्ड ने पहले तो सिब्बल को खूब सुनाया, लेकिन थोड़ी ही देर में उन्होंने यूटर्न लेते हुए उनका समर्थन करना शुरू कर दिया। सुन्नी वक्फ बोर्ड के हाजी महबूब ने पहले कपिल सिब्बल के खिलाफ नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि वो हमारे वकील हैं, लेकिन एक राजनीतिक दल से जुड़े हैं। अयोध्या मामले पर सुनवाई टालने की सिब्बल की मांग गलत थी। बोर्ड इस मामले का समाधान जल्दी से जल्दी चाहता है। लेकिन थोड़ी ही देर में उन्होंने बयान दिया, जिसमें उन्होंने सिब्लल की मांग को सही ठहराया।

    उन्होंने कहा कि अगर बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी के कंवेनर जफरयाब जिलानी हमारे वकील सिब्बल के बयान को सही ठहराते हैं, तो मैं उनसे सहमत हूं। आपको बता दें कि जफरयाब जिलानी ने सिब्बल का साथ देते हुए कहा कि वो कपिल सिब्बल की बातों से सहमत हैं। उन्होंने कहा कि इस मामले का राजनीतिक फायदा उठाने की कोशिश हो रही है। उन्होंने इस मसले में पीएम के बोलने को गलत बताया। गौरतलब है कि पीएम मोदी ने अयोध्या मामले की सुनवाई को लोकसभा चुनाव के बाद टालने की मांग को लेकर निशाना साधते हुए कहा कि इस तरह के मुद्दे को राजनीतिक लाभ-हानि के लिए अनिर्णीत रखा जाना चाहिए।

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    During the course of arguments in SC, a stand was taken by the Counsels representing Muslim Parties, on instruction of their respective Clients, stating that it was not the right time to take up the matter for Final Hearing: All India Muslim Personal Law Board

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more