• search
ग्वालियर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

विदाई के समय इंजीनियर दुल्हन ने दूल्हे के साथ जाने से किया इनकार, वजह बना एक सूटकेस

|

Gwalior News, ग्वालियर। बाबुल के घर से बेटी की विदाई हो रही थी। तभी एक वाक्या ऐसा हुआ, जिससे खुशी का यह पूरा माहौल​ ​विवाद में बदल गया। विदाई के वक्त दुल्हन (Bride) से दूल्हे के साथ जाने से साफ इनकार कर​ दिया। मामला पुलिस थाने तक भी पहुंचा। बाद पुलिस ने दोनों पक्षों से समझाइश भी की, मगर बात नहीं बनी तो दूल्हे (Groom) को एनवक्त पर बैरंग लौटना पड़ा। वधू पक्ष ने वर पक्ष पर दहेज के आरोप लगाए हैं, वहीं वर पक्ष ने दहेज के आरोपों को नकारा है।

Marriage cancelled at Vidai Ceremony in Gwalior MP

दरअसल, मध्यप्रदेश के ग्वालियर (Gwalior) के जीवाजी क्लब में शुक्रवार रात को दतिया के ज्वैलर द्वारका प्रसाद की बेटी शिवांगी और ग्वालियर के फालका बाजार निवासी सुरेश अग्रवाल के बेटे प्रतीक उर्फ विनीत की 15 फरवरी को शादी (Marriage) थी। वरमाला समेत अन्य रस्में हो गई थीं। दूल्हा-दुल्हन ने मंडप में पहुंचकर सात फेरे भी ले लिए थे।

सूटकेस खोलकर देखना चाहते थे

सूटकेस खोलकर देखना चाहते थे

बताया जाता है कि शनिवार तड़के विदाई के समय दुल्हन के साथ ससुराल ले जाए जाने वाले एक सूटकेस को खोलकर दिखाने की बात पर मामला बिगड़ गया। दुल्हन पक्ष का आरोप है कि दूल्हा पक्ष यह देखना चाहता था कि उन्हें दहेज में क्या-क्या दिया गया है। वहीं दूल्हे पक्ष का तर्क है कि वे ये देखना चाहते थे कि सूटकेस में सामान ढंग से तो रखा हुआ है या नहीं। मामला इतना बढ़ गया कि सुबह तक शांत नहीं हुआ और विदाई का समय आया तो दूल्हे को बैरंग ही लौट जाना पड़ा।

एमबीए की हुई दुल्हन करती है जॉब

एमबीए की हुई दुल्हन करती है जॉब

दुल्हन शिवांगी ने इंजीनियरिंग के साथ-साथ एमबीए भी कर रखा है। वर्तमान में वह एक निजी कम्पनी में जॉब करती है। वहीं दूल्हा बीकॉम किया हुआ है और उसका ग्वालियर में सेनेटरी का काम है। दुल्हन शिवांगी ने बताया कि माता-पिता उसकी शादी नजदीक ही करना चाहते थे। शादी में दूल्हे पक्ष ने एनवक्त पर दहेज की मांग कर डाली। ऐसे में फैसला किया तो दहेज लोभियों के घर में मुझे नहीं जाना। उसके पिता ने शादी धूमधाम से की, मगर दूल्हे पक्ष के लोग वरमाला के बाद से ही दहेज बढ़ाने को लेकर दबाव बना रहे थे।

हम दूल्हन को ले जाने को तैयार

हम दूल्हन को ले जाने को तैयार

उधर, मीडिया से बातचीत में दूल्हे प्रतीक ने दुल्हन के दहेज मांगने के आरोपों को खारिज किया है। उसका कहना है कि उसके परिवार ने दहेज की मांग नहीं की। वे तो दुल्हन ले जाने को तैयार थे, मगर दुल्हन ही आना चाह रही थी। इधर, दूल्हे के पिता सुरेश कुमार ने मीडिया के सामने अपना पक्ष रखा, जिसमें उन्होंने कहा कि विदाई के समय देखना चाह रहे थे कि सूटकेस में जो सामान रखा है, वह सही सलामत या नहीं। इसी बात को लेकर दुल्हन पक्ष में विवाद खड़ा कर दिया और एनवक्त पर शादी तोड़ दी।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Marriage cancelled at Vidai Ceremony in Gwalior MP
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X