‘Ockhi’ ओखी तूफान को क्यों और कैसे मिला ये नाम?

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi
Cyclone Ockhi

नई दिल्ली। देश के दक्षिणी हिस्से में चक्रवाती तूफान 'ओखी' से जनजीवन अस्त-व्यस्त हुआ पड़ा है। मौसम विभाग ने मौसम के पहले तूफान की चेतावनी जारी कर दी है। इसका कहर ऐसा है कि तमिल नाडु, दक्षिण केरल और लक्षद्वीप में अब तक 13 लोगों की जान जा चुकी है। 'ओखी' तूफान का नाम बांग्लादेश का दिया हुआ है, जिसका बंगाली में मतलब 'आंख' होता है।

कैसे शुरू हुई नाम रखने की परंपरा?

कैसे शुरू हुई नाम रखने की परंपरा?

विश्व मौसम विज्ञान संगठन (WMO) और यूनाइटेड नेशंस इकोनॉमिक एंड सोशल कमिशन फॉर एशिया एंड द पैसिफिक (ESCAP) ने उष्णकटिबंधीय चक्रवातों का नाम रखना साल 2000 में शुरू किया था। दुनियाभर के चक्रवातों का नाम9 क्षेत्रों- उत्तरी अटलांटिक, पूर्वी-उत्तर प्रशांत, मध्य-उत्तर प्रशांत, पश्चिमी-उत्तरी प्रशांत, उत्तरी हिंद महासागर, दक्षिण-पश्चिमी हिंद महासागर, ऑस्ट्रेलियाई, दक्षिणी प्रशांत, दक्षिण अटलांटिक द्वारा दिया जाता है।

क्यों रखा जाता है चक्रवातों का नाम?

क्यों रखा जाता है चक्रवातों का नाम?

हरीकेन रिसर्च डिविजन के मुताबिक उष्णकटिबंधीय चक्रवातों का नाम पूर्वनुमानियों के बीच आसानी से बात हो सके, इसलिए दिया जाता है। आम जनता को इनके बारे में भविष्यवाणी और चेतावनियां समझ आएं इसलिए चक्रवातों का नाम देना जरूरी हो जाता है। उत्तरी हिंद महासागर में बने चक्रवातों का नाम भारतीय मौसम विभाग रखता है। उत्तरी हिंद महासागर में आए पहले उष्णकटिबंधीय चक्रवात का नाम साल 2004 में बांग्लादेश ने रखा था जिसे 'ओनिल' कहा गया था।

सभी देश एक-एक कर रखते हैं नाम

सभी देश एक-एक कर रखते हैं नाम

उत्तरी हिंद महासागर के आठ देशों, भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका, थाईलैंड, म्यांमार, मालदीव और ओमन ने मिलकर 8 नाम दिए हैं जो चक्रवातों की 64 नामों की सूची में शामिल है। मई में पूर्वोत्तर भारत में आए तूफान मोरा का नाम थाईलैंड ने रखा था। 'मोरा' नाम का मतलब समुद्र का स्टार है और कीमती पत्थरों में से एक का नाम 'मोरा' भी है। अगले चक्रवाती तूफान का नाम भारत रखेगा जोकि अभी से तय कर लिया या है। अगले तूफान का नाम 'सागर' होगा।

ये भी पढ़ें:भारत में खतरनाक है HIV+ महिलाओं की स्थिति, समाज में भी नहीं मिलती जगह

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Ever wondered how and why cyclones are named? The practice of naming cyclones was started in year 2000 by World Meteorological Organisation.
Please Wait while comments are loading...

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.