• search
दिल्ली न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

बड़ी बहन ने अपना लीवर डोनेट कर बचाई 115 किलो के भाई की जान

Google Oneindia News

नई दिल्ली। भाई-बहन के रिश्‍ते से जुड़ी यह रक्षाबंधन के मौके पर दिल्‍ली से अच्‍छी खबर आई। एक बहन ने अपने छोटे भाई को लीवर डोनेट कर उसे बचाया। वह भाई 115 किलो का हो चुका था। डॉक्‍टरों ने कहा- लीवर फैलियर से पीड़ित उस भाई के पास जीने को 3 माह ही थे, अगर उसे बहन ने ना बचाया होता। वह पीलिया, रीनल की समस्या, पेट में पानी होने और लीवर फैलियर की गंभीर कोगुलोपैथी से पीड़ित था। यहां अस्‍पताल में सर्जरी के समय उसका बिलीरुबीन लेवल 15 था और ट्रांसप्लांट के बाद अब 4 है।

बहन ने भाई के लिए अंगदान किया

बहन ने भाई के लिए अंगदान किया

सुखद अहसास यह भी है कि, भाई और बहन दोनों स्वस्थ हैं। डॉक्‍टरों का कहना है कि, मरीज मोटे होने के अलावा पिछले 2 से 3 महीने से बहुत ज्यादा बीमार था। उसका खून नहीं जम रहा था। हालत ऐसी थी कि लीवर को 3 महीने के अन्दर ट्रांसप्लांट नहीं किया जाता तो उसकी जान चली जाती। वहीं, हमें चिंता की बात यह लगी कि उसके लिए उसकी साइज का लीवर लाना मुश्किल था। मरीज के परिजन इसपर सोच-विचार कर रहे थे। तभी मरीज की बहन ने कहा- मैं भाई को बचाउंगी।

115 किलो हो चुका था उसका वजन

115 किलो हो चुका था उसका वजन

बहन खुद भाई के लिए लीवर दान करने के लिए आगे आई, हालां‍कि सवाल तो अब भी बना हुआ था कि, उस लीवर का साइज भारी-भरकम मरीज के अंदर फिट नहीं बैठ रहा था। फिर लीवर को फिट करने का इंतजाम किया गया। इस तरह सफलतापूर्वक लीवर ट्रांसप्‍लांट हुआ। यहां बात हो रही है, आकाश हेल्थकेयर हॉस्पिटल की। यहीं पर, एक बहन ने अपना लीवर डोनेट कर 115 किलो के भाई की जान बचाई। आकाश हेल्थकेयर के लीवर ट्रांसप्लांट डायरेक्टर डॉ. अजिताभ श्रीवास्तव ने कहा कि, यह लीवरडोनेशन समाज में भाई-बहन के आपसी प्‍यार को और बढ़ाने वाला है।

3 महीने के बच्चे का जबड़ा खोलकर 4 घंटे में दी नई जिंदगी, भारत में इस जगह हुआ ये दुनिया का ऐसा 80वां सफल ऑपरेशन3 महीने के बच्चे का जबड़ा खोलकर 4 घंटे में दी नई जिंदगी, भारत में इस जगह हुआ ये दुनिया का ऐसा 80वां सफल ऑपरेशन

समाज के लिए यह प्रेरक रहेगा

समाज के लिए यह प्रेरक रहेगा

डॉ. अजिताभ श्रीवास्तव ने कहा कि, अब दोनों भाई-बहन स्वस्थ हैं। उन्‍होंने कहा कि, हम लोगों को यह भी बताना चाहते हैं कि कोई भी स्वस्थ व्यक्ति बिना किसी समस्या के अपने लीवर को दान कर सकता है। जिस मरीज को यहां ठीक किया गया, वह पीलिया, रीनल की समस्या, पेट में पानी होने और लीवर फैलियर की गंभीर कोगुलोपैथी से पीड़ित था। मोटापा उसकी सबसे प्रमुख समस्या थी, और वजन भी 115 किलो था।

Comments
English summary
A elder sister donated liver and saved 115 kg brother's life | Delhi hospital news
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X