• search
देहरादून न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

खौफ का पर्याय बना तेंदुआ अब हुआ पिंजरे में कैद, पिथौरागढ़ में 6 साल के बच्चे को बनाया था निवाला

|

देहरादून। उत्तराखंड में गंगोलीहाट के बिरगोली में खौफ का पर्याय बना तेंदुआ ​अब पिंजरे में कैद कर लिया गया है। यह तेंदुआ इसी महीने की शुरूआत से कई लोगों पर हमला कर चुका था। 10 नवंबर को बिरगोली के सौंलीगैर में इस तेंदुए ने छह वर्षीय बालक मयंक को भी मार डाला था। जिसके चलते इलाके के लोग घर से बाहर निकलने से डरने लगे। तेंदुए ने कई जानवरों को भी अपना निवाला बना लिया था। लोगों की शिकायत मिलने पर वन विभाग ने पिंजरा डलवाया। वह आदमखोर तेंदुआ मांस की गंध सूंघकर पिंजरे के पास पहुंचा। फिर जैसे ही अंदर घुसा तो कैद हो गया।

Man-eating leopard

जानकारी के अनुसार, बीते 10 नवंबर को बिरगोली के सौंलीगैर में गजेंद्र सिंह खाती का बेटा मयंक शाम करीब साढ़े चार बजे घर के पास ही स्थित पानी के स्टेंड पोस्ट के पास अन्य बच्चों अभिषेक और भावना के साथ खेल रहा था। तभी तेंदुआ मयंक को मुंह में दबाकर जंगल की ओर भाग निकला। तेंदुए के देख वहां खेल रहे अन्य बच्चे दहशत के मारे चीखने-चिल्लाने लगे। तब घरवाले उधर दौड़े। उन्हें तेंदुआ मयंक को ​लेकर भागता दिखा। फिर, शाम को घटनास्थल से करीब 100 मीटर दूर झाड़ियों में मयंक का क्षत-विक्षिप्त शव बरामद हुआ था।

पढ़ें: खेत में टहलती वृद्धा पर गीदड़ का हमला, चेहरे से मांस नोंचा, 5 और लोगों को भी काटा

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Man-eating leopard Catch By Forest Team In Pithoragarh
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X