• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

महंगाई के मोर्चे पर सरकार को एक और झटका, मई में CPI 4.23% से बढ़कर 6.30% पर आई

|
Google Oneindia News

नई दिल्‍ली, 14 जून। कोरोना काल में जहां लोगों का बजट गड़बड़ हुआ है वहीं सरकार ने महंगाई के मोर्चे पर एक और झटका दे दिया है। थोक महंगाई के बाद अब खुदरा महंगाई भी बढ़ोत्तरी नजर आ रही है। जानकारी के मुताबिक मई में CPI 4.23 फीसदी से बढ़कर 6.30 फीसदी पर आ गई है। जानकारी के मुताबिक मई में खाने-पीने की चीजों की रिटेल महंगाई अप्रैल के 1.96 फीसदी से बढ़कर 5.01 फीसदी पर आ गई है। वहीं मई में सब्जियों की महंगाई -14.18 फीसदी से बढ़कर -1.92 फीसदी पर आ गई है।

महंगाई के मोर्चे पर सरकार को एक और झटका, मई में CPI 4.23% से बढ़कर 6.30% पर आई

इसके अलावा मई महीने में इंधन और बिजली की महंगाई अप्रैल कर तुलना में 7.91 फीसदी से बढ़कर 11.58 फीसदी पर आ गई है। इतना ही नहीं हाउसिंग महंगाई 3.86 फीसदी पर आ गई है जो पहले 3.73 फीसदी थी। आपको बता दें कि RBI ने वित्त वर्ष 2021-22 के लिए रिटेल इंफ्लेशन का अनुमान 5.1 फीसदी रखा है। उसके मुताबिक जून तिमाही में खुदरा महंगाई दर 5.2 फीसदी, सितंबर तिमाही में यह 5.4 फीसदी, दिसंबर तिमाही में 4.7 फीसदी और मार्च तिमाही में इसके 5.3 फीसदी रहने का अनुमान लगाया गया है।

मई में उच्चतम स्तर पर पहुंची थोक कीमतों पर आधारित मुद्रास्फीति दर, ईंधन के बढ़ते दाम बने वजहमई में उच्चतम स्तर पर पहुंची थोक कीमतों पर आधारित मुद्रास्फीति दर, ईंधन के बढ़ते दाम बने वजह

English summary
CPI-based inflation rose to 6.3% in May against 4.23% in April
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X