• search
बीकानेर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

देश की प्रथम जैतून रिफाइनरी लूणकरणसर में निकलने लगा तेल, देखें ऑलिव ऑयल प्रोडक्शन का VIDEO

By आनंद आचार्य
|

बीकानेर। जैतून...। नाम सुनते ही कई लोगों के जेहन में सबसे पहले यही सवाल आता है ये कैसा फल होता है। फिर बात अगर जैतून की खेती (ऑलिव ऑयल) की जाए तो वो भी कल्पनीय है। बता दें कि देश में जैतून की सबसे अधिक खेती राजस्थान में होती है। शायद यही वजह है कि जैतून का तेल निकालने के लिए देश की सबसे पहली रिफाइनरी राजस्थान के बीकानेर जिले के लूणकरणसर में लगाई गई है।

    देश की प्रथम जैतून रिफाइनरी लूणकरणसर में निकलने लगा तेल, देखें ऑलिव ऑयल निकलने का VIDEO
    राजस्थान के किसानों में खुशी की लहर

    राजस्थान के किसानों में खुशी की लहर

    खुशी की बात यह है कि ​छह साल पहले शुरू हुई जैतून रिफाइनरी में अब तेल निकलना शुरू भी हो गया है। इससे राजस्थान के इससे किसानों के चेहरों पर खुशी की लहर है। जैतून रिफाइनरी लूणकरणसर में इस सेशन का एक्सट्रेशन कार्य शुरू हो चुका। पूरे राजस्थान के किसान जैतून की फसल लेकर लूणकरणसर पहुंचने भी लगे हैं। शुरुआती दौर में राजस्थान के किसानों ने जैतून की खेती को ज्यादा महत्व नहीं दिया था, परंतु मौजूदा समय में जैतून की खेती किसानों की पहली पसंद बनती जा रही है।

    एयरफोर्स से रिटायर होने के बाद इस 'खास खेती' से 15 लाख रुपए कमा रहे ओमप्रकाश बिश्नोई

     पूर्व ​सीएम सिंधिया ने किया था उद्घाटन

    पूर्व ​सीएम सिंधिया ने किया था उद्घाटन

    बता दें कि राजस्थान के बीकानेर समेत कई जिलों में जैतून की खेती बड़े पैमाने पर की जाती है। पहले किसानों को जैतून का तेल निकलवाने में कई​ दिक्कतों का सामना करना था। ऐसे में 3 अक्टूबर 2014 को पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया ने लूणकरणसर में देश की पहली जैतून रिफाइनरी का उद्घाटन किया था।

    70 की उम्र में किन्नू से सालाना 10 लाख रुपए कमा रहे चौधरी सुमेर राव, अमेरिका से भी आई डिमांड

     पांच साल बाद लगते हैं फल

    पांच साल बाद लगते हैं फल

    जैतून खेती से जुड़े अधिकारियों के अनुसार जैतून के पेड़ लगाने के पांच साल के बाद फल देना शुरू कर देते हैं। इन पांच सालों में इनकी दो से तीन बार कटाई की जाती है, जिससे इनकी ग्रोथ रेट बढ़ती है. जैतून का तैल (ऑलिव ऑयल) खाने और कॉस्मेटिक प्रोडक्ट में काम लिए जाते हैं। इसके साथ ही इनकी टहनियों में भी तेल की मात्रा होती है, जो कटाई के बाद जलाने के काम आती है। वहीं जानकारों का कहना है कि इसकी पत्तियों को सुखाकर चाय भी बनाई जाती है, जो स्वास्थ्य के लिए अत्यंत लाभदायक होती है।

    यहां क्लिक करके जानिए कैसे की जाती है जैतून की खेती और क्या काम आता है जैतून का तेल ?

     182 हेक्टेयर में सरकार कर रही जैतून की खेती

    182 हेक्टेयर में सरकार कर रही जैतून की खेती

    बीकानेर के लूणकरणसर जैतून रिफाइनरी के प्रबंधक सीताराम यादव ने बताया कि राजस्थान सरकार ने इजरायल से जैतून की सात किस्में इम्पोर्ट की है, जिनमें से पांच की राजस्थान में बहुत ही शानदार पैदावार हो रही है। राजस्थान सरकार के 182 हेक्टेयर में जैतून के फार्म लगे हुए हैं। इसके अलावा राजस्थान में किसानों द्वारा भी एक हजार हेक्टेयर में जैतून की खेती की जा रही है।

    5वीं पास महिला संतोष देवी है अनार की खेती की 'मास्टरनी', सालभर में कमाती है 25 लाख रुपए

    पहले सेना में थे, अब कर रहे जैतून की खेती

    पहले सेना में थे, अब कर रहे जैतून की खेती

    झुंझुनूं ​जिले के पिलानी से जैतून का तेल निकलवाने आए किसान ने बताया कि वे पहले भारतीय सेना में थे। रिटायरमेंट के बाद जैतून की खेती कर रहे हैं। जैतून को लेकर किसानों की बढ़ी रुचि को देखते हुए कहा जा सकता कि वो दिन दूर नही जब राजस्थान इजरायल की बराबरी कर लेगा।

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    india's First Olive Refinery in Lunkaransar Bikaner Rajasthan, Oil started coming out
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X