• search
बिहार न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

Experiment News: पिता को हुई तकलीफ़ तो बेटे ने बनाया शानदार Device, खूब हो रही सराहना

बीटेक के छात्र विशाल ने डिवाइस तैयार किया जिसके ज़रिए गाड़ियो की लाइट को ऑटोमैटिक डिम और डीपर कर सकेंगे। विशाल का दावा है कि इस डिवाइस के गाड़ी में लगाने के बाद रात के समय लाइट की वजह हो रहे हादसों में काफी कमी आएगी।
Google Oneindia News

बेगूसराय, 5 अक्टूबर 2022। (Experiment News) आवश्यकता अविष्कार की जननी है, इस कहावत को बिहार के बेगूसराय जिला के रहने वाले विशाल ने साबित कर दिया है। विशाल के अनोखे प्रयोग प्रयोग की खूब सराहना हो रही है। दरअसल वह अपने पिता रत्नेश्वर साहू के साथ रात में बाइक से कहीं जा रहा था, इसी दौरान सामने से आ रही गाड़ी के डीपर लाइट की रौशनी विशाल और उसके पिता की आंखों पर पड़ी जिससे आंखें धुंधला गई। वहीं उसके पिता ने कहा कि इस तरह आए दिन कई हादसे होते हैं और लोगों के साथ अनहोनी हो जाती है। पिता की बात सुनकर विशाल ने इस समस्या के निजात पाने की ठान ली और फिर अनोखा डिवाइस तैयार किया जो कि लोगों के लिए कारगर साबित हो सकती है।

पिता को हुई तकलीफ़ तो बेटे ने बनाया डिवाइस

पिता को हुई तकलीफ़ तो बेटे ने बनाया डिवाइस

बीटेक के छात्र विशाल ने डिवाइस तैयार किया जिसके ज़रिए गाड़ियो की लाइट को ऑटोमैटिक डिम और डीपर कर सकेंगे। विशाल का दावा है कि इस डिवाइस के गाड़ी में लगाने के बाद रात के समय लाइट की वजह हो रहे हादसों में काफी कमी आएगी। विशाल ने कहा कि पिता रत्नेश्वर साहू के साथ सफर करने के दौरान हुई मुश्किलों से निजात पाने के ए डिवाइस को तैयार किया है।

बीटेक सिविल ब्रांच का छात्र है विशाल कुमार

बीटेक सिविल ब्रांच का छात्र है विशाल कुमार

बेगूसराय जिला के डुमरी निवासी विशाल कुमार बीटेक सिविल ब्रांच (2020-2024) का छात्र है। मीडिया से मुखातिब होते हुए विशाल ने कहा कि उन्होंने एक सेंसर तैयार किया है, जिसका इस्तेमाल गाड़ियों की लाइट में लगाकर कर सकेंगे। इसके ज़रिए सामने से आ रही गाड़ियों आते ही लाइट ऑटोमैटिक डिम हो जाएगी। इस सेंसर के पास से गुज़रने के बाद गाड़ियों की लाइट डिम से हाई हो जाएगी। उन्होंने बताया कि इस डिवाइस को बनाने में सिर्फ़ 6 सौ रुपये खर्च हुए हैं।

विशाल कुमार को मिला प्रथम रैंक

विशाल कुमार को मिला प्रथम रैंक

विशाल कुमार ने सेंसर की जानकारी देते हुए बताया कि इसे सभी तरह की गाड़ियों में लगाया जा सकता है। आपको बता दे किं राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में विशाल ने अपने डिवाइस के साथ भाग लिया था। बिहार विज्ञान और प्रौद्योगिकी परिषद द्वारा आयोजित समारोह में उन्हें प्रथम रैंक हासिल हुआ था। वहीं ग्रामीणों ने कहा कि विशाल के प्रयोग से लोगों का काफी राहत मिलेगी। रात के समय में ज्यादातर सड़क हादसे हाई बीम लाइटों की वजह से ही होते हैं। यह काफी अच्छा प्रयोग है।

डिवाइस लगाने से हादसों से निजात का दावा

डिवाइस लगाने से हादसों से निजात का दावा

विशाल कुमार ने सबसे ज्यादा परेशानी छोटी गाड़ियों के चालक को होती है। जब सामने से कोई बड़ा ट्रक आता है तो हाई बीम लाइट पड़ते ही आंखें धुंधला जाती है। इसी वजह से सड़क हादसों को न्योता मिलता है। कई लोगो इस वजह से अनहोनी का शिकार बन जाते हैं। वहीं विशाल कुमार ने दावा किया है कि उसके द्वारा बनाए गए सेंसर को अगर गाड़ियों में लगाया गया तो बहुत हद तक रातों में हाई बीम लाइट की वजह से हो रहे हादसों से निजात मिल सकती है।

ये भी पढ़ें: Yogesh Cycle Yatra: नौकरी छोड़ी, पॉकेट में रखे 4500 रुपए, 29 राज्यों के दौरे पर युवक

Comments
English summary
begusarai experiment news vishal made device to control vehichle light at night
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X