• search
भुवनेश्वर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

ओडिशा: मैंग्रोव वन उत्थान के लिए वन्य विभाग के अधिकारियों ने 55 हेक्टेयर भूमि से हटाया अवैध निर्माण

|
Google Oneindia News

भुवनेश्वर। ओडिशा के केंद्रपाड़ा में भितरकनिका राष्ट्रीय उद्यान और रेवेन्यू डिपार्टमेंट ने मिलकर 55 हेक्टेयर सरकारी भूमि से अवैध निर्माण को गिरा दिया है। इस जमीन पर Prawn dykes के रूप में अवैध कब्जा किया हुआ था। ये अवैध निर्माण दलदली मैंग्रोव वन के किनारे पर झींगा किसानों ने किया हुआ था।

Naveen patnaik

अधिकारियों ने बताया है कि Prwan dykes का निर्माण गैरकानूनी था। ये भूखंड प्रतिबंधित तटीय क्षेत्र में फैल गए थे। पैरामिलिट्री के जवानों की मौजूदगी में ये अवैध निर्माण कराया था। अधिकारियों ने बताया कि कार्रवाई के दौरान किसी तरह की कोई अप्रिय घटना नहीं हुई। वन्य अधिकारियों ने कहा है कि इस जगह को मैंग्रोव उत्थान कार्यक्रम के लिए मुक्त कराया गया है।

राजनगर मैंग्रोव (वन्यजीव) वन प्रभाग ने प्रभागीय अधिकारी बिकास ने चंद्र दस ने कहा, "पुनर्विकसित पैच को मैंग्रोव उत्थान के कार्य में लगाया जा रहा है, ताकि झींगा किसानों अतिक्रमण मुक्त क्षेत्रों में फिर से कब्जा न कर सकें।" उन्होंने कहा कि मैंग्रोव उत्थान के लिए पुनर्निर्मित क्षेत्र अनुकूल हैं क्योंकि यहां ज्वार के पानी की नियमित आवक है।

हालांकि, उन्होंने स्वीकार किया कि इससे पहले इसी तरह के अभ्यास में मैंग्रोव क्षरण के बचाव पूरी तरह से सफल साबित नहीं हुए हैं। लेकिन, वन अधिकारी ने कहा कि निष्कासन अभियान इस बार संगठित तरीके से चलाया जा रहा है।

Comments
English summary
55 hectares Odisha govt land encroachers for mangrove regeneration
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X