• search
भोपाल न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

आयुष्मान भारत योजना में फर्जीवाड़ा बर्दाश्त नहीं किया जाएगा : सीएम शिवराज

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रालय बैठक में कहा कि आयुष्मान भारत योजना में किसी भी प्रकार का फर्जीवाड़ा बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।
Google Oneindia News

भोपाल,16 जून। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आयुष्मान भारत योजना में किसी भी तरह का फर्जीवाड़ा बर्दाश्त नहीं होगा। योजना में बेहतर कार्य करें, जिससे मरीजों को उपचार कराने में कोई असुविधा नहीं हो। उन्होंने कहा कि योजना में फर्जीवाड़ा करने वालों को जेल भेजने की कार्रवाई होनी चाहिए। मुख्यमंत्री चौहान निवास कार्यालय में आयुष्मान भारत योजना की समीक्षा बैठक ले रहे थे। लोक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव मनीष रस्तोगी, संचालक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन प्रियंका दास सहित अधिकारी उपस्थित थे। अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान बैठक में वर्चुअली शामिल हुए।

CM ने कहा- आयुष्मान भारत योजना में फर्जीवाड़ा बर्दाश्त नहीं

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना में फर्जीवाड़ा असहनीय है। योजना में घोटाला नहीं चलने देंगे। यह मरीजों और सरकार के साथ धोखा है। घोटाला करने वालों की गिरफ्तारी के साथ उनकी अन्य गतिविधियों की जांच भी करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि निजी अस्पतालों की स्वास्थ्य विभाग द्वारा दल बनाकर जांच कराई जाए। संदिग्ध पाये गए अस्पतालों में मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान की राशि नहीं दी जाएगी। कॉल सेंटर एक्टिव रहें। मरीजों से पूछताछ करें कि वे भर्ती हैं या नहीं। प्रदेश के 27 अस्पताल में कमियाँ सामने आई हैं, जिन पर कड़ी कार्रवाई करें और आगे ऐसा न हो।

संचालक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन प्रियंका दास ने बताया कि आयुष्मान में संबद्ध अस्पतालों में भर्ती मरीजों की चिकित्सकीय गुणवत्ता के लिए औचक निरीक्षण कराया गया। अस्पताल में भर्ती मरीजों की संख्या की जांच की गई। ऑडिट इंस्पेक्शन टीम द्वारा मरीजों से अतिरिक्त राशि तो नहीं ली जा रही है। जाँच की गई कि चिकित्सालयों द्वारा बीमारी के अनुसार ही उपचार उपलब्ध कराया गया है या नहीं और उसी उपचार की राशि सरकार से क्लेम की गई है या नहीं।

बताया गया कि उपचार में गुणवत्ता का ध्यान रखे जाने का भी परीक्षण कराया गया। जाँच में पाया गया कि कुछ अस्पतालों द्वारा फर्जी मरीजों को भर्ती कर फर्जी दस्तावेज पोर्टल पर समिट किए गए। निरीक्षण टीम द्वारा ऐसे सभी प्रकरणों के क्रियान्वयन में राज्य शासन एफआईआर एवं उचित विधिक कार्रवाई कराई गई। ऐसे समस्त अस्पतालों को जो योजना का दुरूपयोग कर रहे हैं उन्हें योजना से असम्बद्ध करने की कार्रवाई की जा रही है। मरीजों को नि:शुल्क उपचार न देते हुए उनसे अतिरिक्त राशि की मांग की जाने संबंधी प्रकरणों में तीन गुना अतिरिक्त अर्थदण्ड अधिरोपित किया जा रहा है। अस्पतालों की जाँच का कार्य निरंतर जारी रहेगा। मरीजों से इलाज के दौरान और बाद में फीडबैक लिया जा रहा है। आयुष्मान भारत योजना, मध्यप्रदेश द्वारा स्व-प्रेरणा से अभी तक 12 जिलों में प्रकरणों का परीक्षण कर संदिग्ध 84 चिकित्सालय की सूक्ष्म जांच एवं ऑडिट कराया गया है, जिसकी प्रारंभिक जाँच में 27 अस्पतालों में अनियमितता परिलक्षित हुई है। इन पर कार्रवाई की जा रही है।

यह भी पढ़ें : इलाज में फर्जीवाड़ा करने वाले 18 प्राइवेट अस्पतालों पर एक्शन, भोपाल में हेल्थ एजेंसी की छापामार कार्रवाईयह भी पढ़ें : इलाज में फर्जीवाड़ा करने वाले 18 प्राइवेट अस्पतालों पर एक्शन, भोपाल में हेल्थ एजेंसी की छापामार कार्रवाई

Comments
English summary
Fraud will not be tolerated in Ayushman Bharat scheme : CM Shivraj
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X