• search
अलीगढ़ न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

अलीगढ़: 20 दिन बाद तारिक ने जेएम मेडिकल कॉलेज में तोड़ा दम, CAA हिंसा में हुआ था घायल

|

अलीगढ़। नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के हिंसक प्रदर्शन के दौरान मो. तारिक गोली लग गई थी। तारिक को इलाज के लिए जेएम मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। जहां 20 दिन बाद 13 मार्च को उसने दम तोड़ दिया। घटना की सूचना मिलने के बाद मेडिकल कॉलेज में जिले के पुलिस प्रशासन समेत तमाम लोगों की भीड़ एकत्रित हो गई। मृतक तारिक के पिता ने शहरवासियों से शांति बनाए रखने की अपील के साथ जिला प्रशासन से आरोपियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की मांग की है। बता दें कि पोस्टमॉर्टम के बाद शनिवार की सुबह तारिक को अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के कब्रिस्तान में सुपर्द-ए-खाक किया गया।

    अलीगढ़: 20 दिन बाद तारिक ने जेएम मेडिकल कॉलेज में तोड़ा दम, CAA हिंसा में हुआ था घायल

    injured tariq lost life after long treatment in aligarh

    दरअसल, नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में ऊपरकोट कोतवाली पर महिलाओं का प्रदर्शन चल रहा था। इसी दौरान प्रदर्शनकारी महिलाओं ने पुलिस पर पथराव कर दिया था। इसके बाद पुलिस और इलाके के तमाम लोग आमने-सामने आ गए। पुलिस पर पथराव किए गए और वहां आगजनी की घटना को भी अंजाम दिया गया था। इस दौरान पुलिस ने भी बल प्रयोग कर सभी को खदेड़ दिया। बवाल धीरे-धीरे अन्य इलाकों में फैलते फैलते बाबरी मंडी तक पहुंच गया और वहां पर दो समुदाय के बीच पथराव और फायरिंग शुरू हो गई।

    23 फरवरी से ही तारिक हॉस्पिटल में दाखिल था

    बाबरी मंडी में दोनों ही पक्ष के कई लोग पथराव व गोली लगने से घायल हो गए थे। इनमें तारिक नाम का युवक भी शामिल था। तारिक का उपचार 23 फरवरी से ही जेएन मेडिकल कॉलेज में चल रहा था। होली की शाम को ही तारिक की हालत बिगड़ गई थी और ब्रेन में क्लॉटिंग के चलते उसे 10 मार्च से वेंटिलेटर पर रख दिया गया था। शुक्रवार को जुमे का दिन सकुशल बीत गया। लेकिन रात करीब नौ बजे तारिक की तबीयत बिगड़ गई। 9.05 बजे उसकी मौत हो गई।

    क्या कहा पुलिस ने

    तारिक की मौत की सूचना मिलने के बाद मौके पर जिला प्रशासनिक पुलिस अधिकारियों समेत परिजन और तमाम राजनेता व समर्थकों का जमावड़ा शुरू हो गया। वहीं मृतक तारिक के पिता ने आरोपियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की मांग करते हुए शहरवासियों से शांति की अपील की है। इस मामले में एसपी सिटी अभिषेक कुमार का कहना है कि तारिक़ के गोली लगने की घटना को लेकर परिवार द्वारा तीन लोगों के विरुद्ध नामज़द मुकदमा दर्ज कराया गया था। इनमें से विनय वार्ष्णेय को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है। वहीं पांच अन्य युवक भी गिरफ्तार कर अगले दिन जेल भेजे गए थे। सभी के विरुद्ध साक्ष्यों के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

    कांग्रेसियों ने लखनऊ में लगाए सीएम योगी समेत कई BJP नेताओं के पोस्टर, लिखा- इन से कब होगी वसूली?

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    injured tariq lost life after long treatment in aligarh
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X