• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

केंद्र सरकार ने आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के शीर्ष अधिकारियों की बुलाई बैठक, सुलझ सकते हैं ये मुद्दे

Google Oneindia News

केंद्र सरकार ने आंध्र प्रदेश पुनर्गठन अधिनियम के तहत दोनों राज्यों के बीच अनसुलझे मुद्दों पर चर्चा के लिए 23 नवंबर यानि कि आज आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के शीर्ष अधिकारियों की बैठक बुलाई है। पूर्व में गृह मंत्रालय (एमएचए) की तरफ से जारी आदेश में दोनों तेलुगु राज्यों के मुख्य सचिवों को दिल्ली में होने वाली बैठक में भाग लेने के लिए कहा गया था। आज बैठक की अध्यक्षता केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला कर रहे हैं। बैठक में आंध्र प्रदेश के विभाजन के बाद लंबित मुद्दों पर चर्चा होगी।

telangana and ap

इस बैठक को लंबित मुद्दों के हल करने के लिए केंद्र द्वारा एक और नए प्रयास के रूप में देखा जा रहा है। पुनर्गठन अधिनियम के तहत, विभाजन के बाद के सभी मुद्दों को 10 वर्षों में सुलझाना होगा। दोनों राज्यों के बीच पिछली बैठक 27 सितंबर को हुई थी, लेकिन वह बेनतीजा रही।

14 लंबित मुद्दों पर चर्चा हुई। उनमें से 7 मुद्दे तेलंगाना और आंध्र प्रदेश के बीच अंतर-राज्यीय मुद्दों से संबंधित थे। शेष मुद्दों में वित्तीय सहायता, पिछड़े क्षेत्रों के विकास के लिए अनुदान और पुनर्गठन अधिनियम के तहत दिए गए अन्य आश्वासन शामिल हैं।

केंद्रीय सचिव ने गृह मंत्रालय को कानून विभाग के परामर्श से संपत्ति के बंटवारे के संबंध में सभी अदालती मामलों की जांच करने का निर्देश दिया। बैठक के दौरान, आंध्र प्रदेश ने अपनी आबादी के अनुपात में एपी: टीएस के बीच 52:48 के अनुपात में हैदराबाद में स्थित लैंड पार्सल, बिल्िंडग्स और बैंक रिजर्व ऑफ कॉमन इंटिट्यूड में अपने हिस्से की मांग की।

एपी पुनर्गठन अधिनियम, 2014 की अनुसूची 9 (निगम आदि) और 10 (प्रशिक्षण संस्थान) के तहत सूचीबद्ध ये संस्थान कई हजारों करोड़ रुपये के हैं। तेलंगाना ने मांग का विरोध किया। आंध्र प्रदेश ने भी तेलंगाना के विरोध का आह्वान करते हुए सिंगरेनी कोलियरीज में हिस्सेदारी की मांग की।

तेलंगाना के अधिकारियों ने आंध्र प्रदेश के विभाजन अधिनियम के मुद्दों पर अदालतों का रुख करने, कानूनी जटिलताएं पैदा करने और इन संस्थानों के विभाजन को रोकने पर नाखुशी व्यक्त की। उन्होंने मांग की, कि केंद्र आंध्र प्रदेश को मामले वापस लेने और बातचीत के जरिए मुद्दों को सुलझाने के लिए कदम उठाए।

केंद्र ने पिछली बैठक के दौरान खुलासा किया कि आंध्र प्रदेश की राज्य की राजधानी के रूप में अमरावती के विकास के लिए 1,500 करोड़ रुपये प्रदान किए गए थे। राज्य सरकार ने विकास कार्यों के लिए एक हजार करोड़ रुपये और मांगे थे।

ये भी पढ़ें- 'BSP सरकार में भाजपा-सपा से हुए बेहतर काम', बीएसपी चीफ Mayawati ने ट्वीट कर कहा

Comments
English summary
Central government convenes meeting top officials of Andhra Pradesh and Telangana in delhi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X