• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Ganesh Chaturthi 2021: गणेश चतुर्थी पर क्यों नहीं देखा जाता चांद, क्यों कहते है इसे 'कलंक चतुर्थी'?

By ज्ञानेंद्र शास्त्री
|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, 10 सितबंर। आज बुद्धि, बल और पराक्रम के प्रतीक गणेश भगवान का दिन है। पूरा देश गणेश चतुर्थी की जश्न में मगन है। किसी के घर पर गणेश जी 3 दिनों के लिए, कहीं पर 7 दिनों के लिए तो कहीं पर 10 दिनों के लिए विराजे हैं। वैसे तो गणेश भगवान बहुत ही प्यारे हैं और गुस्सा उनसे बहुत दूर रहता है लेकिन अगर ये सच में किसी पर नाराज हो जाएं तो इंसान को भूलकर भी माफ नहीं करते हैं। ऐसा ही कुछ हुआ था चंद्रमा के साथ, जो कि भगवान गणेश के क्रोध के शिकार हुए थे।

 गणेश भगवान नीचे गिर गए...

गणेश भगवान नीचे गिर गए...

दरअसल पौराणिक कथाओं में जिक्र है कि एक बार गणेश जी, अपनी सवारी मूषक पर सवार होकर कहीं जा रहे थे तभी रास्ते में कहीं से सांप आ गया, जिसे देखकर मूषक डर गया और उसने छलांग लगा दी, जिससे उसके ऊपर बैठे गणेश भगवान नीचे गिर गए। गणेश जी ने इधर- उधर देखा कि कहीं किसी ने उन्हें गिरते हुए देखा तो नहीं, वो अपने आप को संभालते हुए झट से उठे लकिन तभी उन्हें किसी की जोर-जोर से हंसने की आवाज सुनाई पड़ी।

यह पढ़ें: Mahalakshmi Vrat 2021: 16 दिनों का महालक्ष्मी व्रत, जानिए कब से हो रहा है प्रारंभयह पढ़ें: Mahalakshmi Vrat 2021: 16 दिनों का महालक्ष्मी व्रत, जानिए कब से हो रहा है प्रारंभ

चंद्रमा ने उड़ाया गणेश जी का मजाक

चंद्रमा ने उड़ाया गणेश जी का मजाक

उन्होंने देखा कि चंद्रमा उनपर तेजी से हंस रहा है। गणेश जी को गु्स्सा आ गया। उन्होंने कहा के' हे दुष्ट, तू किसी के गिरने पर हंसता है ना, तुझे अपने रूप पर बड़ा अभिमान है ना तो जा, मुझे तुझे श्राप देता हूं, तेरा हर दिन क्षय होगा।'

चंद्रमा ने मांगी माफी

इसके बाद चंद्रमा को अपनी गलती का एहसास हुआ। वो धीरे -धीरे घटने लगा, उसकी हालत देखकर देवता भी परेशान हो गए, वो सभी गणेश जी के पास पहुंचे कि अगर चंद्रमा का क्षय हो जाएगा तो ब्रह्मांड में बड़ी दिक्कत हो जाएगी। चंद्रमा ने भी प्रभु से क्षमा मांगी। जिस पर गणेश भगवान ने कहा कि अब वो अपने श्राप को तो वापस नहीं ले सकते हैं। लेकिन हां अब ये एक दिन अपने पूरे आकार में आ जाएगा और वो दिन पूर्णिमा कहलाएगा लेकिन चतुर्थी के दिन चंद्रमा को देखने पर इंसान को कलंक लगेगा इसलिए चतुर्थी के दिन चांद को नहीं देखा जाता है।

 श्रीकृष्ण ने भी चतुर्थी के दिन चंद्र दर्शन किया था...

श्रीकृष्ण ने भी चतुर्थी के दिन चंद्र दर्शन किया था...

करवा चौथ के दिन भी चांद का दर्शन छलनी या दुपट्टे से किया जाता है। सीधे चांद देखने को मना किया जाता है। इसलिए गणेश चतुर्थी को 'कलंक चतुर्थी' भी कहा जाता है। आज के दिन चंद्र दर्शन करने पर इंसान को कलंक लगता है और वो अपयश का भागीदार बनता है, ऐसा कहा जाता है कि श्रीकृष्ण ने भी चतुर्थी के दिन चंद्र दर्शन किया था, जिसके कारण उनपर मणिचोरी का झूठा आरोप लगा था। इसलिए आज के दिन चंद्रमा को सीधे देखने से रोका जाता है।

यह पढ़ें: Dubadi Saate 2021: संतान की रक्षा के लिए 13 सितंबर को होगा दुबड़ी साते व्रतयह पढ़ें: Dubadi Saate 2021: संतान की रक्षा के लिए 13 सितंबर को होगा दुबड़ी साते व्रत

अगर चंद्र दर्शन हो जाए तो करें ये उपाय

अगर चंद्र दर्शन हो जाए तो करें ये उपाय

अगर गलती से इंसान आज के दिन चंद्र दर्शन कर ले तो उसे परेशान होने की जरूरत नही है और मिथ्या दोष से बचने के लिए उसे 11 हजार बार निम्नलिखित मंत्र का जाप करना चाहिए।

  • 'ॐ श्रां श्रीं श्रौं चन्द्रमसे नम:।'
  • गणेश जी से माफी मांगते हुए उनकी आरती कीजिएऔर उन्हें जल अर्पित करें।
    Ganesh Chaturthi 2021: Ludhiana में स्थापित की गई Chocolate के गणपति की मूर्ति | वनइंडिया हिंदी

    English summary
    Here's why we should not see the moon on Ganesh Chaturthi.Why is it called 'Kalank Chaturthi.Read Full details here.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X