• search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

Prayagraj में RSS की बैठक सम्पन्न: जानिए किन मुद्दों पर हुई चर्चा, क्या बना future plan

Google Oneindia News

उत्तर प्रदेश के Prayagraj में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) की चार दिवसीय बैठक का समापन हो गया है। बैठक में कई अहम मुद्दों पर मंथन हुआ। संगठन से जुड़े सूत्रों की माने तो आरएसएस की तरफ से अब मुसलमानों के अलावा सिखों और ईसाइयों सहित देश के अन्य अल्पसंख्यक समुदायों में और अधिक पैठ बनाने की कवायद शुरू की जाएगी। इसके लिए जल्द ही संघ की तरफ से एक कोर टीम का गठन किया जाएगा जो सभी क्षेत्रों में इस तरह के मामलों पर नजर रखेगी। दरअसल संघ की ओर से उन समुदायों पर नजर रखी जाएगी ओर संगठन से जोड़ने का प्रयास किया जाएगा जिनकी सोच राष्ट्रवादी होगी।

राष्ट्रवादी सोच के लोगों को संगठन से जोड़ने की कोशिश

राष्ट्रवादी सोच के लोगों को संगठन से जोड़ने की कोशिश

आरएसएस के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने बैठक में चर्चा हुए मुद्दों के बारे में बताया कि, "संगठन ने अपने सभी 45 "प्रांतों" (क्षेत्रों) में चार से पांच वरिष्ठ और अनुभवी पदाधिकारियों की एक टीम को तैनात करने का फैसला किया है जो इन सब मामलो पर नजर रखेगी। इसके अलावा सभी 11 "क्षेत्रों" में से इनको तैनात किया जाएगा। खासतौर से उन समुदायों पर नजर रखी जाएगी ओर संगठन से जोड़ने का प्रयास किया जाएगा जिनकी सोच राष्ट्रवादी होगी।

प्रयागराज में संघ की चार दिवसीय बैठक का हुआ समापन

प्रयागराज में संघ की चार दिवसीय बैठक का हुआ समापन

प्रयागराज के गौहानिया स्थित वात्सल्य संस्थान परिसर में चल रही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की चार दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के बुधवार को समाप्त हो गई। आरएसएस प्रमुख (सरसंघचालक) मोहन भागवत और महासचिव (सरकार्यवाह) दत्तात्रेय होसबले के साथ संघ के अन्य शीर्ष अधिकारियों के अलावा संगठन के सभी 45 "प्रांतों" (क्षेत्रों) के पदाधिकारियों ने इस अहम बैठक में हिस्सा लिया। आरएसएस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि संगठन के नेताओं ने मुस्लिम और ईसाई समुदायों के बारे में आरएसएस के स्वयंसेवकों को संवेदनशील बनाने की आवश्यकता पर जोर दिया। इन समुदायों के बीच कार्यकर्ताओं को संपर्क स्थापित करने और समुदाय के सदस्यों और नेताओं के साथ बातचीत शुरू करने पर जोर दिया गया।

इसाइयों और मुसलमानों के बीच पैठ बनाने के लिए एनजीओ की मदद

इसाइयों और मुसलमानों के बीच पैठ बनाने के लिए एनजीओ की मदद

आरएसएस ने तय किया है कि जहां मुसलमानों और ईसाइयों की संख्या अधिक है, वहां गैर-सरकारी संगठनों (एनजीओ) की मदद से भाषा, संस्कृति और स्वास्थ्य के विषयों पर काम किया जाएगा। इन समुदायों के बीच संगठन के प्रभाव को बढ़ावा देने के लिए, शिक्षित मुसलमानों के साथ संपर्क बढ़ाया जाएगा, जो कट्टरपंथी तत्वों के प्रभाव में नहीं हैं और दोनों के लोगों के साथ नियमित संपर्क में रहने के प्रयास किए जाएंगे। मुस्लिम और ईसाई समुदाय जो धार्मिक, सामाजिक और शैक्षणिक क्षेत्रों में सक्रिय हैं। इन समुदायों के उन सदस्यों को समर्थन देने जैसे कदम जो राष्ट्रवाद के पक्ष में बोलते या लिखते हैं और जो पहले से ही ऐसी भूमिकाओं में हैं उनसे संपर्क करने पर भी विचार-विमर्श के दौरान जोर दिया गया।

सिख समुदाय में भी पैठ बनाने की भी बनी रणनीति

सिख समुदाय में भी पैठ बनाने की भी बनी रणनीति

सिख समुदाय के सदस्यों के बीच पहुंच बढ़ाने के लिए उन क्षेत्रों में स्थित गुरुद्वारों का दौरा करने के लिए धार्मिक और सामुदायिक नेताओं से संपर्क करने पर चर्चा हुई जहां आरएसएस की "शाखाएं" आयोजित की जा रही हैं। आरएसएस के सामाजिक समरसता कार्यक्रमों में सिख समुदाय और धार्मिक नेताओं को आमंत्रित करने और संगठन की विभिन्न गतिविधियों और संबद्ध संस्थानों में सिखों की बढ़ती भूमिका का भी सुझाव दिया गया है। आरएसएस नेताओं ने सिख संतों से संपर्क करने, देश के स्वतंत्रता संग्राम में सिखों की भूमिका पर प्रकाश डालने और सिख समुदाय की महिलाओं को शामिल करने के लिए संगोष्ठियों और संगोष्ठियों की मेजबानी करने का भी आग्रह किया है।

सिखों के त्योहारों को वार्षिक योजना में शामिल करेगा संघ

सिखों के त्योहारों को वार्षिक योजना में शामिल करेगा संघ

आरएसएस अब अपनी वार्षिक कार्य योजना में सिख त्योहारों को भी शामिल करेगा ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि पूरे साल सिख समुदाय के सदस्यों के साथ संपर्क सुनिश्चित किया जा सके। दरअसल बैठक में ये सभी योजनाएं आरएसएस प्रमुख द्वारा 23 सितंबर को नई दिल्ली में एक मस्जिद का दौरा करने और अखिल भारतीय इमाम संगठन के प्रमुख से मिलने और यहां तक ​​कि संघ के मुस्लिम कनेक्ट को लेकर उठाया गया है। मोदी सरकार के विकास और कल्याण कार्यक्रमों के मुद्दों पर मुसलमानों और अन्य अल्पसंख्यकों के बीच वंचित, गैर-अभिजात वर्ग तक पहुंचने का लक्ष्य रखा गया ।

यह भी पढ़ें-जनसंख्या असंतुलन और धर्म परिवर्तन को लेकर RSS ने दिया ये बड़ा बयान, जानिए संघ के महासचिव क्या बोले?यह भी पढ़ें-जनसंख्या असंतुलन और धर्म परिवर्तन को लेकर RSS ने दिया ये बड़ा बयान, जानिए संघ के महासचिव क्या बोले?

Comments
English summary
Rashtriya Swayamsevak Sangh (RSS) is planning to connect the minority communities at prayagraj
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X