• search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

प्रदर्शनकारी महिला के साथ अभद्रता पर यूपी पुलिस की सफाई, कहा- पहनावे की वजह से समझ लिया था लड़का

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली: कोरोना वायरस की वजह से बेरोजगारी काफी बढ़ गई है। इसके अलावा उत्तर प्रदेश सरकार ने अब सरकारी नौकरी की जगह संविदा पर कर्मियों को रखने का ऐलान किया है। जिसको लेकर गुरुवार को युवाओं ने मोर्चा खोल दिया और प्रधानमंत्री के जन्मदिन को राष्ट्रीय बेरोजगारी दिवस के रूप में मनाया, लेकिन इसी दौरान लखनऊ में ऐसा वाक्या हुआ, जिसके लिए यूपी पुलिस को माफी मांगनी पड़ी।

lko

दरअसल समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता लखनऊ में बेरोजगारी और संविदा नौकरी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे। लखनऊ विश्वविद्यालय के गेट नंबर एक पर प्रदर्शनकारियों को कंट्रोल से बाहर होता देखा पुलिस ने भी मोर्चा संभाला। इस दौरान एक युवती को यूपी पुलिस के दरोगा ने जबरन पकड़कर किनारे कर दिया। जिसकी फोटो देखते ही देखते वायरल हो गई। इस घटना के बाद से सोशल मीडिया और राजनीतिक गलियारों में यूपी पुलिस की जमकर आलोचन हो रही है।

 प्रियंका गांधी बोलीं- बेरोजगारी को राजनीतिक नहीं मानवीय नजरिए से देखने की जरूरत प्रियंका गांधी बोलीं- बेरोजगारी को राजनीतिक नहीं मानवीय नजरिए से देखने की जरूरत

विवाद बढ़ता देख यूपी पुलिस ने भी मामले में सफाई जारी की है। पुलिस कमिश्नरेट लखनऊ के मुताबिक कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए प्रदर्शनकारियों को हटाना जरूरी था। इसके साथ ही वहां पर भीड़ भी ज्यादा थी, जिस वजह से महिला-पुरुष के पहनावे का अंतर करना मुश्किल हो गया। इसी दौरान पुलिसकर्मी ने भूलवश महिला को पुरुष समझकर हटा दिया। जिस पर वो खेद व्यक्त करते हैं। प्रदर्शनकारी महिला के मुताबिक पुलिस ने उनके गेटअप की वजह से उन्हें पकड़ लिया था। बाद में जैसे ही उनको ये एहसास हुआ, पुलिस टीम ने महिला से माफी मांगी।

English summary
lucknow Police clarification on indecency with protesting women
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X