• search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

कांग्रेस छोड़कर सपा में शामिल हुए इमरान मसूद की नाराजगी हुई दूर, यहां से मिल सकता है टिकट

|
Google Oneindia News

लखनऊ, 20 जनवरी। उत्‍तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 की तारीखों की घोषणा के बाद से टिकटों के बंटवारें को लेकर जमकर घमासान मचा हुआ है। राजनीतिक पार्टियां जैस-जैसे टिकटों का आंवटन कर रही है वैसे ही पार्टियों में नाराज नेताओं की संख्‍या बढ़ती जा रही है। कुछ समय पहले कांग्रेस छोड़कर समाजवादी पार्टी में आने वाले इमरान मसूद को भी निराशा मिली है। बताया जा रहा था कि उन्‍हें भी सपा ने टिकट नहीं दिया गया। ऐसे में क्‍या सपा मुखिया अखिलेश यादव का साथ छोड़ देंगे लेकिन गुरुवार को अखिलेश यादव से उनकी मुलाकाता हुई जिसके बाद पूरा माहौल बदल गया।

sp

पहले बता दें इमरान मसूद कांग्रेस के राष्‍ट्रीय सचिव थे और जब वो आए तो उनके साथ सहारपुर देहात से विधायक मसूद अख्‍तर भी सपा में आ गए थे। इमरान मसूद जहां सहारनपुर के बेहटा से चुनाव लड़ने वाले थे लेकिन अखिलेश यादव ने उन्‍हें सपासे टिकट नहीं दिया। इनके मसूद अख्‍तर को भी टिकट नहीं दिया।

इमरान मसूद को यहां से अब मिल सकता है टिकट
गुरुवार को वो अपने समर्थन दल के साथ सपा मुखिया अखिलेश यादव से मिलने पहुंचे और उनसे मुलाकात की। अखिलेश यादव से मुलाकात की और सपा के लिए काम करने की इच्छा जताई। माना जा रहा है कि सपा प्रमुख ने उन्हें रामपुर मनिहारन सीट से टिकट देने का वादा किया है। बैठक में अखिलेश ने इमरान को पूरा मान देने का आश्‍वासन दिया।इसी बैठक के बाद इमरान के करीबी नेता अंजुम रागिब को सहारनपुर का ज़िलाध्यक्ष बना दिया। जिससे साथ हो गया कि अब इमरान चुनाव में सपा के लिए काम करेंगे। इस मुलाकात के बाद सपा ने एक फोटो शेयर कर ट्वीट कर लिखा समाजवादी पार्टी का बढ़ता कारवां।

सपा से टिकट ना मिलने पर इमरान मसूद हो गए थे नाराज
जिसके बाद दोनों सपा मुखिया से नाराज थे और सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ जिसमे वे कहते हुए सुनाई दे रहे थेकि मुसलमानों अब तो एक हो जाओ। जिसके बाद अटकलें लगाई जा रही थी कि वो सपा छोड़कर अब बसपा ज्‍वाइन कर सकते हैं। लेकिन गुरुवार को उन्‍होंने सभी अटकलों पर विराम लगा दिया।

मोदी के खिलाफ इमरान मसूद ने दिया था ये बयान
2014 के लोकसभा चुनाव में पीएम नरेन्द्र मोदी के खिलाफ बोटी बोटी काट देने वाले बयान को लेकर इमरान विवादों में आए थे। कांग्रेस से वे दो बार सहारपुर से लोकसभा चुनाव लड़े लेकिन हार गए। सपा प्रमुख अखिलेश यादव जो कई पार्टियों और नेतओं के गंठबंधन करके चुनाव मैदान में उतरे हैं ऐसे में वो टिकट का बंटवारा बहुत सोच समझ कर कर रहे हैं। इमरान वो ही नेता हैं जो कांग्रेस में रहकर हमेशा सपा कांग्रेस के गठबंधन की बात करते रहे हैं।

CMIE का दावा- भारत में 5.3 करोड़ लोग हैं बेरोजगार,इममें महिलाओं की बड़ी है तादातCMIE का दावा- भारत में 5.3 करोड़ लोग हैं बेरोजगार,इममें महिलाओं की बड़ी है तादात

Comments
English summary
Imran Masood, who left Congress and joined SP, did not get ticket, now what will he choose?
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X