बिना सीट बेल्ट लगाए स्टार्ट नहीं होगी कार, 12वीं के छात्र ने बनाई ऐसी डिवाइस

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

सुल्तानपुर। उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर डिस्ट्रिक में इंटर क्लास के स्टूडेंट ने सेफ्टी कार डिवाइस तैयार की है। स्टूडेंट द्वारा तैयार की गई इस सेफ्टी डिवाइस को कार में लगा देने के बाद यदि आपने सीट बेल्ट नहीं लगाया तो आपकी कार स्टार्ट ही नहीं होगी। इस डिवाइस को तैयार करने वाला स्टूडेंट आदर्श तिवारी 12वीं का छात्र है।

डिवाइस को किसी भी कार में किया जा सकता है फिट

डिवाइस को किसी भी कार में किया जा सकता है फिट

सुल्तानपुर के सरस्वती विद्या मंदिर वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय विवेकानंद नगर में इंटर क्लास के छात्र आदर्श तिवारी की इन दिनों जमकर चर्चा हो रही है। दरअस्ल स्टूडेंट ने काम ही कुछ ऐसा किया जिससे उसका नाम हर ज़ुबान पर है। इंटर क्लास के इस होनहार स्टूडेंट ने ऐसी अनोखी डिवाइस तैयार की है, जिसकी हेल्प से बड़े हादसे को टाला जा सकता है। आदर्श की मानें तो उसके द्वारा तैयार की गई डिवाइस की खूबी ये है के बगैर सीट बेल्ट बांधे व गेट लाक किए अगर कार को स्टार्ट करना चाहें तो कार स्टार्ट नहीं होगी। यही नहीं रोड पर चलती कार के खुलने पर उसे लाक करने में भी डिवाइस का अहम रोल है और डिवाइस को किसी भी कार में आराम से फिट किया जा सकता है।

7-8 हज़ार है डिवाइस की मार्केट वैल्यू

7-8 हज़ार है डिवाइस की मार्केट वैल्यू

आपको जानकर हैरानी होगी कि तैयार की गई डिवाइस की मार्केट वैल्यू भी बहुत ज़्यादा नहीं बल्कि बजट के अंदर हैं। डिवाईस की मार्केट वैल्यू 7-8 हज़ार रुपए है। अहम बात ये के आदर्श ने इस डिवाइस को नाम भी दिया है, उसके द्वारा डिवाइस को दिया गया नाम ''स्मार्ट सीट बेल्ट सिस्टम'' है। इस डिवाइस को तैयार करने की आदर्श को ज़रूरत क्यों पड़ी उस पर उसने बताया कि कुछ साल पहले रोड एक्सीडेंट में मंत्री गोपीनाथ मुंडे की डेथ हुई थी जिससे वो काफी शाक्ड हुआ था। उसने बताया कि मैने न्यूज़ में देखा था कि मंत्री जी की कार से लेकर उनकी बाडी तक पर कहीं खून नहीं था। हां सीट बेल्ट न बांधने की वजह से उन्हें नोज़ इंजरी आई थी जिससे उनकी मौत हुई थी। आजकल भी ज़्यादातर हादसे इस लापरवाही से हो रहे जिसने उसे डिवाइस तैयार करने के लिये प्रेरित किया।

पीएम और गवर्नर से मिल चुका है प्राइज

पीएम और गवर्नर से मिल चुका है प्राइज

सनद रहे कि16 दिसम्बर से 23 दिसम्बर 2017 तक विद्या भारती द्वारा आयोजित साइंस फेयर में आदर्श ने फस्ट रैंक हासिल की थी। वहीं 27 दिसम्बर से 31 दिसम्बर तक गुजरात के अहमदाबाद में राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित राष्ट्रीय विज्ञान की प्रतियोगिता में उत्तर-प्रदेश का प्रतिनिधित्व किया था और प्रंधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उसे पुरस्कृत किया था। जबकि 13 अगस्त 2017 को लखनऊ में ग्रीस एक्जीबिशन में उसकी 10 वीं रैंक आई थी और उसे गवर्नर राम नाइक ने पुरस्कृत किया था।

शुरूआती दौर में पिता को था संकोच

शुरूआती दौर में पिता को था संकोच

आपको बता दें कि आदर्श अपने भाई बहनों में इकलौता है, पिता कौशल तिवारी दीवानी में अधिवक्ता हैं तो मां हाउस वाइफ। बेटे की बेस्ट परफार्मेंस पर पिता कौशल तिवारी बेहद खुश हैं। उन्होंने बताया कि शुरूआती दौर में डिवाइस को तैयार में उन्हें संकोच था, फिर भी हमनें बेटे पर भरोसा करते हुए उसका साथ दिया। आखिर उसनें भरोसे को आत्मविश्वास में बदल डाला। उनका कहना है कि सरकार उनके बेटे द्वारा तैयार की गई डिवाइस का टेस्ट कराकर उसे लांच कराए ताकि लोगों की जिंदगियां सेफ हो सके।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
car not start without wearing seat belt in sultanpur

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.