ई रिक्शे से स्कूल जा रहे बच्चे का फिल्मी अंदाज में अपहरण, यूपी पुलिस ने दिखाया दम

Subscribe to Oneindia Hindi

कानपुर। उत्तर प्रदेश के कानपुर में फिल्मी अंदाज में बाइक सवार दो युवकों ने तीसरी क्लास में पढ़ने वाले बच्चे का अपहरण कर लिया। इस वारदात को उस समय अंजाम दिया गया जब छात्र ई रिक्शा से स्कूल जा रहा था। रिक्शा जैसे ही सुनसान इलाके से गुजरने लगा वैसे ही बाइक सवार युवकों ने उसको रोक लिया और चालक को तमंचा लगाकर बच्चे को जबरदस्ती खींच कर मोटरसाइकिल पर बैठाकर भाग निकले। अपहरणकर्ताओं ने बच्चे का अपहरण करने के बाद ही उसके पिता को फोन से पांच करोड़ फिरौती की मांग की। वारदात की जानकारी मिलने पर पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया।

पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज खंगाले

पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज खंगाले

आनन फानन में कई थानों की फ़ोर्स के साथ आला अधिकारी घटना स्थल पर पहुंचे और घटनास्थल के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज खंगाले। घटनास्थल से कुछ दूरी पर एक मकान में लगे सीसीटीवी में अपहरणकर्ताओं की तस्वीरें पुलिस के हाथ लग गयी जिससे पुलिस ने शहर की सभी सीमाओं पर नाकेबंदी कर सघन चेकिंग का आदेश दे दिया। पुलिस की नाकेबंदी से घबराये अपहरणकर्ता बच्चे को कानपुर से फतेहपुर जा रही बस में छोड़कर फरार हो गए। पुलिस ने बच्चे को सकुशल बरामद कर लिया और अपहरणकर्ताओं की तलाश में जुट गई है।

काकादेव थाना क्षेत्र की घटना

काकादेव थाना क्षेत्र की घटना

कानपुर के काकादेव थाना क्षेत्र निवासी मंजीत शुक्ला हॉस्टल संचालक है। इनका इकलौता बेटा 9 वर्षीय आदित्य रोज की तरह ई रिक्शा से अपने स्कूल ओम्कारेश्वर सरस्वती विद्या मंदिर जा रहा था, उसके साथ 4 बच्चे और भी बैठे थे। आदित्य का ई रिक्शा जैसे ही लाजपत नगर नहर पर पहुंचा तो वहां पहले से घात लगाकर बैठे अपहरणकर्ताओं ने इलाका सुनसान देखकर ई रिक्शा चालक को तमंचा सटाकर ई रिक्शा रोक लिया और आदित्य का घरेलू नाम नन्दू बुलाकर पहले बच्चे की पहचान की और फिर उसको बाइक में बिठाकर ले गए। घटना के कुछ देर बाद ही अपहरणकर्ताओं ने आदित्य के पिता मंजीत को फोन से 5 करोड़ की फिरौती की मांग की।

ये भी पढ़ें- गैंगरेप पीड़िता के लिए इंसाफ मांगने सड़क पर उतरा बॉलीवुड, देखें तस्वीरें

अपहरण के बाद बच्चे के घर में कोहराम

अपहरण के बाद बच्चे के घर में कोहराम

अपहरण और फिरौती की जानकारी लगते ही आदित्य के घर में कोहराम मच गया। आदित्य के पिता ने तत्काल पुलिस को बच्चे के अपहरण की सूचना दी। सूचना मिलते ही कई थानों की पुलिस के साथ अधिकारी घटना स्थल पर पहुंचे और घटना की छानबीन करने में जुट गए। एसटीएफ और क्राइम ब्रान्च को भी एसएसपी ने इस घटना में लगा दिया।

पुलिस को घर के नौकर पर शक

पुलिस को घर के नौकर पर शक

अपहरण होने के बाद मौके पर पहुंचे एसएसपी और बच्चे के परिजनों ने मीडिया से गुजारिश की कि आप लोग खबर मत चलाइयेगा इससे बच्चे की जान को ख़तरा हो सकता है, हम जल्द ही बच्चे को खोज लेंगे। इसके बाद एसएसपी ने तत्काल शहर की नाकेबंदी के निर्देश दिए और सभी चौराहों पर पुलिस की सघन चेकिंग के आदेश दिए। पुलिस की लगातार बढ़ रही नाकेबंदी और चेकिंग से घबराये अपहरणकर्ताओं ने बच्चे को कानपुर से फतेहपुर जा रही बस में बैठा दिया और फरार हो गए। फिलहाल पुलिस ने बच्चे को फतेहपुर से सकुशल बरामद कर लिया है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक़ बच्चे का अपहरण प्रतापगढ़ निवासी उसके नौकर ने अपने साथी के साथ मिलकर किया था।

ये भी पढ़ें- मशहूर डिजाइनर का विवादित बयान-पैंट उतारने से ऐतराज है तो छोड़ दो मॉडलिंग, चले जाओ मठ

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
A child abducted in daylight in Kanpur.

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.