• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

गर्मी ने निकाला पुजारा का दम, 'मैंने अपनी सर्वेश्रेष्ठ में एक वनडे पारी खेल दी, पर जीत नहीं पाया'

Google Oneindia News

नई दिल्ली, 14 अगस्त: भारत के बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ने कहा कि वार्विकशायर के खिलाफ रॉयल लंदन एक दिवसीय कप मैच में ससेक्स के लिए 79 गेंदों में 107 रन की पारी इस फॉर्मेट में उनकी सर्वश्रेष्ठ पारियों में से एक थी। हालांकि, टीम हार गई और इसका मलाल पुजारा को है। उनका कहना है कि वह इसे एक विजयी योगदान के रूप में पसंद करते। (फोटो सौजन्य- Twitter @cheteshwar1)

 एक ओवर में 22 रन बनाकर काफी सुर्खियां बटोरी

एक ओवर में 22 रन बनाकर काफी सुर्खियां बटोरी

चेतेश्वर पुजारा ने एक ओवर में 22 रन बनाकर काफी सुर्खियां बटोरी थी। उन्होंने स्ट्रोक-मेकिंग की झड़ी लगा दी जिसे हम शायद ही कभी देखते हैं। वह भारत के लिए हमेशा एक धीमे बल्लेबाज रहे हैं लेकिन काउंटी में पुजारा दोयम दर्जे के गेंदबाजों के सामने खेल का लुत्फ उठा रहे हैं। पुजारा ने अंतिम ओवरों में तेजी से गियर बदला क्योंकि ससेक्स बर्मिंघम में 311 रनों का पीछा कर रहा था।

पुजारा ने 45वें ओवर में मध्यम तेज गेंदबाज लियाम नोरवेल की गेंद पर तीन चौके और एक छक्का लगाया।

पर ससेक्स मैच हार गया

पर ससेक्स मैच हार गया

शुक्रवार को ससेक्स की अगुवाई कर रहे पुजारा ने अपनी पारी के दौरान सात चौके और दो छक्के लगाए। 49वें ओवर की पहली गेंद पर ओलिवर हैनन-डल्बी ने उन्हें आउट किया और ससेक्स सात विकेट पर 306 रन बनाकर आउट हो गया।

ससेक्स के आधिकारिक YouTube चैनल से बात करते हुए, पुजारा ने अंत तक वहां नहीं रहने और अपनी टीम के लिए जीत हासिल ना करने पर निराशा व्यक्त की। पुजारा ने सफेद गेंद वाले क्रिकेट में भारत के लिए शतक नहीं बनाया है, लेकिन शुक्रवार के गेम से पहले 11 लिस्ट ए शतक बनाए थे।

 सर्वश्रेष्ठ पारियों में से एक थी

सर्वश्रेष्ठ पारियों में से एक थी

पुजारा ने कहा, "यह एकदिवसीय प्रारूप में सर्वश्रेष्ठ पारियों में से एक थी। अगर यह जीत पर समाप्त होती, तो यह बेहतर होता। हम बहुत दूर नहीं थे। मैं आखिरी तक वहां रहना चाहता था। हमारे पास खेल जीतने का थोड़ा और मौका था।"

पुजारा ने यह भी खुलासा किया कि बर्मिंघम में एक गर्म दिन पर, विकेटों के बीच कड़ी मेहनत के बीच, तेज पारी खेलने के दौरान उन्हें दिक्कत भी महसूस हुई। पुजारा को वैसे तो भारत में गर्म परिस्थितियों में खेलने की आदत है, पर उनका मानना है कि ऐसी परिस्थितियों में अभ्यस्त होना संभव नहीं है।

गर्मी ने निकाला पुजारा का दम

गर्मी ने निकाला पुजारा का दम

उन्होंने कहा, "मैं बीच-बीच में हाइड्रेटिंग कर रहा था। एक समय था जब मैं थोड़ा उबकाई महसूस कर रहा था। मुझे गर्म मौसम में खेलने की आदत है लेकिन गर्मी के लिए अभ्यस्त होना आसान नहीं है।"

पुजारा काउंटी चैंपियनशिप डिवीजन टू में ससेक्स के लिए शानदार फॉर्म में थे, उन्होंने 8 मैचों में 5 शतकों सहित 1094 रन बनाए। उन्होंने ससेक्स के लिए अब तक एक अर्धशतक बनाकर रॉयल लंदन एक दिवसीय कप में भी रेड-बॉल फॉर्म जारी रखी है।

कॉमनवेल्थ गेम्स में दर्द के साथ खेली थीं पीवी सिंधु, स्ट्रेस फ्रैक्चर के चलते वर्ल्ड चैंपियनशिप से हुईं बाहरकॉमनवेल्थ गेम्स में दर्द के साथ खेली थीं पीवी सिंधु, स्ट्रेस फ्रैक्चर के चलते वर्ल्ड चैंपियनशिप से हुईं बाहर

Comments
English summary
Cheteshwar Pujara regards his century for Sussex as one of best in ODI format
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X