• search
राजस्थान न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

Sikar At Minus 4 Degree : राजस्थान में फतेहपुर शेखावाटी क्यों रहता है सबसे ठंडा, जानिए वजह

|

सीकर। राजस्थान में खून जमा देने वाली सर्दी का जिक्र आने पर सबसे पहले जेहन में नाम चूरू का आता था, मगर ठंड के मामले में अब चूरू को सीकर ​जिले का फतेहपुर शेखावाटी मात दे रहा है। चूरू जिले की सीमा पर स्थित फतेहपुर शेखावाटी पिछले कई सालों में चूरू से भी सबसे ठंडा रहकर रिकॉर्ड बना रहा है। यहां पारा जमाव बिन्दू से छह डिग्री नीचे तक पहुंच रहा है। 28 दिसम्बर 2019 को फतेहपुर में न्यूनतम तापमान माइनस 4 डिग्री सेल्सियस ​दर्ज किया गया है। आइए जानते हैं फतेहपुर के भूगोल में छिपी कड़ाके की ठंड की केमिस्ट्री के बारे में।

sikar minimum temperature

जम गया सीकर, पारा माइनस 3 डिग्री सेल्सियस, एक रात में 7 डिग्री गिरा तापमान, टूटा एक दशक का रिकॉर्ड

चूरू के लोहिया कॉलेज में भूगोल के व्याख्याता डॉ. रविन्द्र कुमार बुडानिया बताते हैं कि राजस्थान में शेखावाटी व थळी अंचल सबसे सर्द रहता है। यहां की देशांतरीय स्थिति उत्तरी क्षेत्र जम्मू कश्मीर और हिमाचल प्रदेश के समान है। यही वजह है कि उत्तरी इलाकों में बर्फबारी होने के बाद चलने वाली शीतलहर सीधी चूरू और फतेहपुर तक पहुंचती हैं। फतेहपुर उपखंड के गांव खूड़ी निवासी गणेश ​शर्मा ने बताया कि पिछले कई सालों से इस बार सबसे अधिक सर्दी पड़ रही है।

राजस्थान में सर्दी का सितम : शेखावाटी समेत इन 7 जिलों में कोल्ड डे अलर्ट जारी, देखें बर्फ जमने का VIDEO

श्रीगंगानगर व हनुमानगढ़ इसलिए कम ठंडे

श्रीगंगानगर व हनुमानगढ़ इसलिए कम ठंडे

डॉ. बुडानिया के अनुसार यूं तो उत्तरी क्षेत्रों से चूरू और फतेहपुर की तरह की लगभग समान स्थिति राजस्थान के श्रीगंगानगर और हनुमानगढ़ की भी है। यहां भी उत्तरी हवाएं सीधी पहुंचती हैं, मगर यह क्षेत्र नहरी है। ऐसे में श्रीगंगानगर और हनुमानगढ़ के मौसम में आर्द्रता अधिक रहती है, जिसकी वजह से पारा ज्यादा नीचे गिरने की बजाय कोहरे का असर ​अधिक रहता है।

 फिर चूरू से ठंडा फतेहपुर क्यों

फिर चूरू से ठंडा फतेहपुर क्यों

चूरू से महज 37 किलोमीटर की दूरी पर स्थित फतेहपुर शेखावाटी में पश्चिम से आने वाली हवाओं के साथ बालू मिट्टी के बारिक कण भी यहां आकर जमा होते हैं। ये कण आपस में पूरी तरह से जुड़े रहते हैं और सूर्य के ताप को ज्यादा गहराई तक जाने से रोकते हैं। ऐसे में धरातल का ऊपरी भाग जितना जल्दी गर्म होता है उतना ही जल्दी ठण्डा हो जाता है। डॉ. बुडानिया के अनुसार के अनुसार चूरू में रेत के बड़े बड़े टीले हैं जो उत्तर की ओर से आने वाली ठंडी हवाओं को रोक लेते हैं जबकि फतेहपुर शेखावाटी में रेत के टीले नहीं हैं। ऐसे में उत्तरी हवाएं यहां सीधी पहुंचती हैं और इस इलाके को चूरू से भी ज्यादा ठंडा कर देती हैं।

 फतेहपुर में 1996 से दर्ज किया जा रहा तापमान

फतेहपुर में 1996 से दर्ज किया जा रहा तापमान

सीकर जिला मुख्यालय से 53 किलोमीटर दूर स्थित फतेहपुर शेखावाटी में मौसम विभाग का अधिकृत स्टेशन नहीं है, मगर कृषि अनुसंधान केन्द्र की तापमापी में पारा मापा जाता है। असिस्टेंट प्रोफेसर केसी वर्मा ने बताया कि वर्ष 1984 से शुरू हुए कृषि अनुसंधान केन्द्र सीकर में वर्ष 1996 में तापमापी लगी। मौसम विभाग की अधिकृत तापमापी सीकर जिला मुख्यालय पर लगी हुई है। फतेहपुर ​की तापमापी में पिछले साल यहां पर न्यूनतम तापमान माइनस छह डिग्री रिकॉर्ड किया गया था। जबकि सीकर स्थित तापमापी में इतना पारा नहीं गिरा।

28 दिसम्बर 2019 को राजस्थान का न्यूनतम तापमान

फतेहपुर-माइनस 4

माउंट आबू-माइनस1.5

सीकर-माइनस 1

चूरू-1.1

पिलानी-0.6

अलवर-0.2

जयपुर-3.4

चित्तौड़गढ़-2.0

डबोक-2.6

बाड़मेर- 8.5

जैसलमेर-3.3

जोधपुर-6.4

फलौदी- 6.6

बीकानेर- 2.7

श्रीगंगानगर- 2.1

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Why Fatehpur Shekhawati coldest in Rajasthan, Sikar At Minus 4 Degree
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X